Friday, June 15, 2018

828-मधु की आस


1-मधु की आस
डॉ.कविता भट्ट
अधर छूकर भी कंठ न कभी सींच सका,
उसी प्याले से मुझे मधु की आस रही
वो मुझमें खोजता रहा हर पल देवी,
मुझे उसमें बस इंसाँ की तलाश रही
मेरे भीतर रहकर भी जो साथ न था
मेरी धड़कन उसी के आस -पास रही
मुस्कुराने के सौ बहाने दुनिया में
फिर भी नम हुई आँखें , मैं उदास रही

-0-
2- ज़िन्दगी 
   प्रियंका गुप्ता 

ज़िन्दगी
कोई ख़त नहीं होती
जिसे 
किसी एक के नाम लिखा जाए
ज़िन्दगी तो इक किताब है
अनगिनत पन्नों वाली
बस पलटते जाना; 
जब लगे
कहानी ख़त्म है
जोड़ देना उसमें
कुछ नए सफ़े
हर्फ़-- हर्फ़
लफ्ज़ -- लफ्ज़
बढ़ती जाती है कहानी
नए नए पात्रों के साथ;
सुनो!
ज़िन्दगी को बस पढ़ते जाना
जब तक कि
कहानी अपने अंजाम तक न पहुँचे ।
-0-
 (सभी चित्र गूगल से साभार )

15 comments:

  1. Dono rachnayen bahut payari hain dono rachnakaron ko meri bahut bahut shubhkamnayen

    ReplyDelete
  2. dono kavitayen bahut hi bhavpoorn ....
    sundar kavitayen
    Purva Sharma

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर दोनों रचनाएँ

    ReplyDelete
  4. सुरेन्द्र वर्मा15 June, 2018 09:46

    सुन्दर रचनाएं|कविता भट्ट की 'अधर छूकर' बहुत ही मार्मिक व सुन्दर कविता है | बधाई | सुरेन्द्र वर्मा |

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया भावना जी, पूर्वा और अनीता...।
    कविता जी, आपकी रचना मन की ज़मीन को अपने भावों से नम कर गई...। बहुत तकलीफ़देह होता है किसी ऐसे अपने से कोई आस लगाना जिसे न उस बात की समझ हो और न परवाह...।
    मेरी बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रियंका जी आभार, आपकी रचना भी बहुत अच्छी है। वआआह।

      Delete
  6. बहुत ख़ूब , सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (16-06-2018) को "मौमिन के घर ईद" (चर्चा अंक-3003) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर दोनों रचनाएँ

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचनाओं के लिए दोनों रचनाकारों को हार्दिक बधाई🙏🙏🙏🌷🌷🌷

    ReplyDelete
  10. आप सभी आत्मीय जनों का हार्दिक धन्यवाद. भविष्य में भी स्नेह की प्रत्याशा/

    ReplyDelete
  11. सुन्दर कविताएँ

    ReplyDelete
  12. दोनों प्रस्तुति बहुत प्रभावशाली। शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  13. भावपूर्ण , बहुत सुन्दर रचनाएँ !
    बहुत बधाई दोनों रचनाकारों को !!

    ReplyDelete
    Replies

    1. बहुत सुन्दर सृजन ...दोनों रचनाकारों को हार्दिक बधाई !!

      Delete