Wednesday, April 11, 2018

815


1-डॅा.ज्योत्स्ना शर्मा
1
तुमसे उजियारा है
गीत मधुर होगा
जब मुखड़ा प्यारा है।
2
चन्दन है, पानी है
शीतल, पावन -सी
 तस्वीर बनानी है।
3
कुछ नेह भरा रख दो
मन के मन्दिर में
तुम धूप जरा रख दो ।
-0-
मचल रही घनघोर घटा सी नेह सुधा बरसाने को ।
पिहुँ प्यासे चातक बन आना मन मेरा बहलाने को।

हुआ बावरा मन बंजारा दहक रहा मन बंजर है ।
मन आहत चाहत में तेरी व्याकुलता का मंज़र है
पल दो पल को ही आजाते यूँ ही तुम भरमाने को
पिहुँ प्यासे चातक बन आना मन मेरा बहलाने को।

प्रणय-ग्रन्थ नयनो में मेरे खुद नयनों में पढ़ लेना
लेकर अलिंगन मे मुझको खुद को मुझ में गढ़ लेना ।
प्रीति-महक पुरवाई लाई जग सारा महकाने को।
पिहुँ प्यासे चातक बन आना मन मेरा बहलाने को। 

मैंने सार लिया है साजन खंजन से नैनों अंजन।
आकर देखो खुद में सिमटी अनहद प्रियतम की "गुंजन"
ये जीवन अनबूझ पहेली आजाओ सुलझाने को ।
पिहुँ प्यासे चातक बन आना मन मेरा बहलाने को।
अनहद गुंजन 

17 comments:

  1. पावनता की धूप से सुवासित माहिया . शब्द चयन और लय का अनूठा सामंजस्य .गुंजन का गीत भी बहुत भाव -प्रवण है .

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण सृजन
    हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना जी एवं गुंजन जी

    ReplyDelete
  3. ज्योत्स्ना जी मनभावन माहिया 👏👏👏
    गुंजन जी शानदार रचना
    🌷🌷🌷🌷🌷

    आप दोनों को हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर सरस माहिया और गीत ज्योत्स्ना जी, गुंजन जी हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  5. प्रिय ज्योत्स्ना के मृदुल माहिया व अनहद गुँजन के सरस गीत के लिये स्नेह - बधाई ।

    ReplyDelete
  6. गुंजन जी बहुत सरस गीत , हार्दिक बधाई आपको !
    मेरे अभिव्यक्ति को यहाँ स्थान देने के लिए सम्पादक जी का बहुत-बहुत आभार !!

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  7. प्रेरक प्रतिक्रियाओं के लिए आ. काम्बोज भैया जी , कृष्णा दीदी , विभा दीदी , सत्या जी एवं सुनीता जी के प्रति हृदय से आभार व्यक्त करती हूँ |

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  8. मेरे सृजन को सहज साहित्य में स्थान देने के लिए आ0 रामेश्वर कम्बोज भैया आपका तहे दिल से आभार....🙏🙏

    ReplyDelete
  9. आ0 ज्योत्स्ना दी बहुत ही खूबसूरत तीनों माहिये आपको अनेकानेक हार्दिक बधाई....💐💐

    आ0 कम्बोज भैया, विभा जी, कृष्णा जी, सुनीता जी, ज्योत्स्ना दी एवम सत्या जी आप सभी के प्रोत्साहन के प्रति हृदय से आभार व्यक्त करती हूँ |🙏🙏

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर हय

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया बेहद आभार आपका...🙏

      Delete
  11. वाह गुंजन बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया नील भाई....🙏

      Delete
  12. अतिसुन्दर माहिया एवं कविता दोनों! हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना जी एवं गुंजन जी!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  13. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' १६ अप्रैल २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' १६ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक में ख्यातिप्राप्त वरिष्ठ प्रतिष्ठित साहित्यकार आदरणीया देवी नागरानी जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    ReplyDelete
  14. प्रेम रस से सरोबर हाइकू और रचना ...
    अनेक रंग समेटे जीवन और मधुर प्रेम के .... बहुत सुंदर दोनों ...

    ReplyDelete