Monday, July 31, 2017

752

पीपल प्रेमी की बाहों में

डॉ कविता भट्ट (हे न ब गढ़वाल विश्वविद्यालय,श्रीनगर गढ़वाल, उत्तराखंड)

साँसे कुछ रुक-रुककर चली जा रही थी
धड़कन बीमार कुछ-कुछ रुकी जा रही थी
डॉक्टर ने भेजा दवा का लम्बा चिट्ठा लिखकर
आँखें कृश देह रूपसी की मुँदी जा रही थीं।

जीवन से क्षुब्ध, तन से दु:खी  हो जा रही थी
व्यथित, पसीने से नहा, रोतीं-कुढ़ी जा रही थी
शीतल स्पर्श पाकर, वो रुकी कुछ ठिठककर
पीपल प्रेमी मुस्कुराता खड़ा, बाहें खुली जा रही थीं।

आँचल गिरा, उसकी बाहों में सिमटी जा रही थी
सरसराहट पत्तियों की कानों में घुली जा रही थी
प्रेमगीत धुन पर, दुलारा-सहलाया उसने जी भरकर
प्रिय की साँसे जीवन को साँसें दिए जा रही थीं।

जिसके चुम्बन से वो इतना लहरा रही थी
रूप का लोभ न था, इसके प्रेम पर इतरा रही थी
यौवन-मोह तजे योगी सा- लिंग-धर्म-जाति से ऊपर
प्रेम बाँटती असंख्य बाहें, जीवन-अमृत बरसा रही थीं।

जिसकी खोज में उम्र निकलती ही जा रही थी
स्त्री-पुरुष-शरीरों की परिधि से रहित रटे जा रही थी                                                   
काश! मानव में भी फूटें ऐसे ही उन्मुक्त प्रेम-निर्झर
कविता’ पीपल प्रेमी की बाहों में ये बुदबुदा रही थी


-0-
2-गुंजन अग्रवाल
गीत
कैसे ये तीज मनाऊँ मैं।
कैसे तो रीझ दिखाऊँ मैं।

बिन साजन सूना सावन है।
सूना ये मन का आँगन है।
धूमिल आंखों का काजल है
घिरता यादों का बादल है
तुझको तो सनम बुलाऊँ मैं।
कैसे तो तीज मनाऊँ मैं.......

झूलों पर पींग भरें सखियाँ
यादें झरती रहती अँखियाँ
हाथों की मेहंदी चिढ़ा रही।
सौंधी सी महक उड़ा रही।
जब तुझको पास न पाऊँ मैं।
कैसे तो तीज मनाऊँ मैं........

चंचल सी शोख हसीना- सी।
पुरवा संग झूम सफीना -सी।
पुरवा जब छेड़ा करती थी।
मीठी अँगड़ाई भरती थी।
अब गीत न कजरी गाऊँ मैं।
कैसे तो तीज मनाऊँ मैं.....


-0-

9 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (01-08-2017) को जयंती पर दी तुलसीदास को श्रद्धांजलि; चर्चामंच 2684 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. डाॅ . कविता भट्ट जी की बहुत सुन्दर दृष्टिकोण की कविता 'पीपल न्रेमी की बाँहों में 'पढ़ी । प्रकृति से मानव को सीख लेनी चाहिये और वैसा ही प्यार बाँटना चाहिये । संदेशात्मक कविता के लिये बधाई । गुंजन जी का तीज का गीत बहुत सरस है । बधाई ।

    ReplyDelete
  3. आभार, मयंक जी एवं रश्मि जी आपके उत्साहवर्धन हेतु।

    ReplyDelete
  4. कविता भट्ट जी बहुत सुंदर रचना ।
    गुंजन जी तीज पर प्यारा गीत ।

    आप दोनों को हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  5. Dono hi rachnayen bahut bhavpurn hain bahut bahut badhai.

    ReplyDelete
  6. आदरणीया कविता जी और गुंजन जी आप दोनों की बेहतरीन रचनाओं के लिए बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  7. रचना और गीत दोनों ही बहुत बढ़िया। कविता जी, गुंजन जी आप दोनों को बधाई।

    ReplyDelete
  8. बहुत प्यारी रचनाएँ...आप दोनों को बहुत बधाई...|

    ReplyDelete
  9. कविता जी की कविता अत्यंत अच्छी लगी गुंजन जी की भी कविता जिसमें पिया बिना तीज मनाने की कसक को सुन्दर शब्दों में बयान किया है बहुत मन भाई | आपदोनो को बधाई हो |

    ReplyDelete