Tuesday, April 11, 2017

727


1-डॉ.पूर्णिमा राय

1-प्रीत
 स्नेह प्रीत की डोर से,मिल जाये मनमीत।
जीवन में मिले आसरा,जग भी लेता जीत।।
स्वार्थ भरी जग की डगर,रिश्तेनाते झूठ,
नाम खुमारी नानका,सच्ची तेरी प्रीत।।
 2-बेटी
खूबसूरत जिन्दगी का ,आगाज़ है बेटी।
विकट क्षणों में सुखदायी, सुरसाज है बेटी।
हो ग नशे के शिकार ,अब जगत में बेटे;
बनी पिता के सपनों की, परवाज़ है बेटी।।
 3- प्यार 

ज़िन्दगी सँवार दो।
एक नज़र निहार लो।।
हो चुकी लुका-छिपी 
 प्यार से ही प्यार हो।।

4- तमाशा
अजब तमाशा हुआ सड़क पर।
रोता अब क्यों होकर बेघर।।
दौलत की खींचा तानी में,
गिरा जोर से मनुज फिसल कर।।
5-
लकड़ी की काठी
और
बूढ़े की लाठी
दोनों ही
देती हैं आश्रय!!
फर्क बस इतना
एक 
ऊपर बिठाती है
दूसरी 
गिरने से बचाती है!!
-0-
-डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर(पंजाब)
-0-
2- नीतू सिंह राय

1-अमीर और गरीब

हर अमीर समझता है
कि गरीबी क्या बला है
उसे भली भाँति पता है
और यह उसका भरम
टूटने से भी नहीं टूटा है।
अमीर को यह गुमान है
कि गरीबी का उसे शत प्रतिशत ज्ञान है
यह सारी योजनाएं जो लागू हो रही रोज-रोज
उससे ही तो होता गरीबो का उत्थान है।
सिर्फ अमीर ही तो अपनी भागीदारी निभा रहा है
क्योकि कर तो सिर्फ वही चुका रहा है
गरीब तो बिना कर चुका ही
सारी सुविधाओं का हकदार है।
और भला क्या होती है जरूरते
और किन जरूरतों का गरीब को दरकार है
समझ में ही नहीं आता किसी अमीर को
कि आखिर गरीब अपनी किस जरूरत के लि लाचार है।
आसमाँ और समंदर सी है
अमीर और गरीब के बीच की तन्हाई
कभी आकाश सी ऊँचाई है
तो कभी पाताल सी गहराई
आखिर अंदाजा लगाये कोई कैसे
बीच में पड़ी है एक गहरी खाई।

 -0-
2- आभा


तुम्हें जब पता है
कि तुम बन सकते हो सूरज
फिर तुम तारा बनने को क्यों बेताब हो?
क्यों घबराते हो 
माने के  अँधियारे से
जब लिये फिरते तुम
रोशनी का सामान हो।
मुश्किलें तो आती ही है
सबकी राहों में 
सोचकर आगा तुम
क्यों इतना हैरान हो?
आगे बढ़ो बस अपनी राह पर
हो सवार उजाले की असंख्य किरणों पर
चलते चलो बस
अपनी मंजिल की राह पर।
तेरी चमक जो है 
सूरज की चंचल किरणों -सी
भला तारे में कहाँ समा पागी?
तेरे नूर की उज्ज्वल आभा से
सूरज की ही लालिमा साथ निभा पागी।
तुम्हें जब पता है
कि तुम बन सकते हो आताब
तो फिर तुम एक चिंगारी बनने को
क्यों बेजार हो?
बनना है तो बनो
एक ऐसी रौशनी
जिसके साये तले 
हर जर्रा गुलज़ार हो।

23 comments:

  1. डॉ० पूर्णिमा की ने भिन्न-भिन्न भावों को बखूबी भिन्न छंदों में बाँधा है।
    प्रभावशाली रचनाएँ। बधाई

    नीतू जी को भी सुंदर, सकारात्मक रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सुनीता जी

      Delete
    2. आभार सुनीता जी

      Delete
  2. नीतू जी,यथार्थ पर कड़ा प्रहार करते हुये मानव जीवन का गहन रहस्य बताती बेहतरीन रचनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार पूर्णिमा जी

      Delete
  3. सुंदर रचनाएँ !
    पूर्णिमा जी एवं नीतू जी को बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  4. बहुत सार्थक सृजन पूर्णिमा जी व नीतू जी । स्नेह लें
    विभा रश्मि

    ReplyDelete
  5. लकड़ी की काठी
    अमीर और गरीब
    यथार्थ का चित्रण करती सार्थक रचनाओं के लिए हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर रचनाओं के लिए बधाई पूर्णिमा जी

    ReplyDelete
  7. नीतू सिंह जी आपने बहुत ही सकारात्मक और बेहतरीन सृजन किया है हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  8. नीतू सिंह जी आपने बहुत ही सकारात्मक और बेहतरीन सृजन किया है हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर रचनाओं के लिए बधाई पूर्णिमा जी

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर सार्थक मनभावन रचनाएँ ..आप सबको हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  11. पूर्णिमा जी ,नीतू जी बहुत ही सुन्दर रचनाओं के लिए आप दोनों को हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  12. पूर्णिमा जी लकड़ी की काठी और.....कविता में दोनों का अंतर बताते हुए अपने-अपने स्थान पर उनके महत्व को आपने बहुत खूबसूरती से व्यक्त किया है बधाई,नीतू जी को भी सुंदर रचना हेतु बधाई |
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आ.पुष्पा जी!!

      Delete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. रचनाकार - द्वय को हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई।

    ReplyDelete
  15. प्रभावशाली रचनाएँ !
    पूर्णिमा जी एवं नीतू जी को बहुत -बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  16. पूर्णिमा जी बहुत सुन्दर लगी अलग अलग भावों की छंदबंधी रचनायें ।लाठी और काठी वाली रचना के आश्रय देने की समानता का चित्र बहुत बढिया लगा । आज जगत जान गया है बेटी के महत्व को । बहुत ठीक कहा पिता के सपनों की परवाज है बेटी । नीतू सिंह राय जी आप की दोनों रचनायें भी प्रभावशाली हैं अमीर गरीब की तुलना की सही तस्वीर खींची है है । बहुत बहुत बधाई दोनों को ।

    ReplyDelete
  17. सुन्दर और भावप्रवण रचनाओं के लिए मेरी बहुत बधाई...|

    ReplyDelete
  18. सुंदर भावपूर्ण रचनाएं।
    पूर्णिमा जी, नीतू जी बधाई।


    ReplyDelete