Monday, December 12, 2016

697



यादें
प्रियंका गुप्ता
1
यादें
कभी यूँ भी होती हैं
मानो,
किसी सर्द रात में
बर्फ़ हो रहे बदन पर
कोई चुपके से
एक गर्म लिहाफ़ ओढ़ा जाए ।
2
यादें
कभी दर्द होती हैं
और कभी
किसी ताज़ा घाव पर
रखा कोई ठंडा मरहम ।
3
यादें
मानो,
कभी जल्दबाज़ी में
सर्र से छूटती कोई ट्रेन
भाग के पकड़ो
वरना फिर
जाने कब पकड़ पाएँ ?
4
यादें-
कभी सर्दी में 
बदन पर पड़ा बर्फ़ीला पानी;
या फिर
किसी हड़बड़ी में
जल गई उँगली पर
उगा एक फफोला;
तकलीफ तो होती है-
है न ?
-0-

21 comments:

  1. Bahut bhavpun komal lagin aapki yaden meri hardik badhai...
    Yaade
    Jinhen kabhi kabhi
    Bas odhkar so jane ko dil chahata hai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या बात है भावना जी...! बहुत बहुत शुक्रिया आपका...|

      Delete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 14 दिसम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. यादों का गुलदस्ता है यहाँ और सभी फूल महके -महके | बधाई |

    ReplyDelete
  5. आदरणीय पूर्णिमा जी, सुनीता जी और शशि जी...आपकी प्यारी प्रतिक्रियाओं के लिए दिल से आभार...|

    ReplyDelete
  6. किसी सर्द रात में
    बर्फ़ हो रहे बदन पर
    कोई चुपके से
    एक गर्म लिहाफ़ ओढ़ा जाए........... बहुत, बहुत सुंदर प्रियंका जी, बधाई।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर,भावपूर्ण रचना प्रियंकाजी। बधाई

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर लगी यादें अनुभव से गुजरे पलों को कोई कोई ही रूप दे पाता है ।प्रियंका जी चौथी याद ने बहुत प्रभावित किया । शुभकामनायें और बधाई ।

    ReplyDelete
  9. भावपूर्ण रचना, बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.....प्रियंका जी बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  10. ख़ूबसूरत यादों का सिलसिला बनाया है ... बहुत ख़ूब ...

    ReplyDelete
  11. सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  12. यादों के सुन्दर रूपों की अभिव्यक्ति हेतु बधाई |
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  13. यादें हैं
    किसी की पहुंच दिल तक
    जिन्हें चाहकर रोका न जाए।
    वो अहसास हैं जो
    महकते हैं देर तक
    जेहन में।
    यादें तो बस यादें हैं।


    बहुत खूबसूरत प्रियंका जी।

    ReplyDelete
  14. खुबसूरती से यादों को महकाया .
    बधाई

    ReplyDelete
  15. हर रूप में ...बहुत प्यारी हैं यादें आपकी !
    बहुत-बहुत बधाई प्रियंका जी !!!

    ReplyDelete
  16. बहुत खूबसूरत नए बिम्ब . बहुत सुन्दर प्रियंका .

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर प्रियंका जी ....

    किसी सर्द रात में
    बर्फ़ हो रहे बदन पर
    कोई चुपके से
    एक गर्म लिहाफ़ ओढ़ा जाए..

    बहुत-बहुत बधाई प्रियंका जी !!!

    .

    ReplyDelete
  18. आप सभी का बहुत बहुत आभार...

    ReplyDelete