Monday, November 28, 2016

692



नन्हा भरतू  और भारतबन्द
डा कविता भट्ट
(दर्शन शास्त्र विभाग,हे०न० ब० गढ़वाल विश्वविद्यालय,श्रीनगर गढ़वाल उत्तराखंड)
सुबह से शाम तक, कूड़े से प्लास्टिक-खिलौने बीनता नन्हा भरतू
किसी कतार में नहीं लगता, चक्का जाम न भारत बंद करता है
दरवाजा है न छत उसकी वो बंद करे भी तो क्या
वो तो बस हर शाम की दाल-रोटी का प्रबंध करता है
पहले कुछ टिन-बोतलें चुन जो दाल खरीद लेता था
अब उसके लिए कई ग्राहकों को रजामंद करता है
बचपन से सपने बुनते- बैनर इश्तेहार बदलते रहे
गिरे बैनर तम्बू बना, सर्द रातों में मौत से जंग करता है
सड़क पर मिले चुनावी पन्नो के लिफाफे बनाकर
मूँगफली-सब्जी-राशन वालों से रोज अनुबंध करता है
कूड़े की जो बोरी नन्हे कंधे पर लटकते-लतकते फट ग
बस यही खजाना उसका, टाँके से उसके छेद बंद करता है
इतनी बोतलें- हड्डियाँ कूड़े में, यक्ष प्रश्न है- उसके जेहन में
बेहोशी-मदहोशी या नुक्कड़ की हवेली वाला आनंद करता है
निश्छल भरतू पूछ बैठा, कूड़े में नोट? आखिर क्या माजरा है?
तेरे सवाल का पैसा नहीं मिलना, अम्मा बोली- काहे दंद-फंद करता है ?
एक सवाल लाखों का उनका, तेरे से क्या उनकी क्या तुलना?
बापू तेरे बूढ़े हो गए हैं अब
उम्र ढली कूड़े में, तू क्यों अपना धंधा मंद करता है
इसीलिए नन्हा भरतू कूड़े, दाल और रोटी में ही खोया है
किसी कतार में नहीं लगता, चक्का जाम न भारत बंद करता है

18 comments:

  1. वाहहह ..क्या बात..कितनी खूबसूरती से शब्द चयन करके सार्थक संदेश ...अभिव्यक्ति बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. कविता जी मार्मिक सार्थक कविता ....देश में कितने भरतू मर मर के जी रहे हैं

    ReplyDelete
  3. Bahut bahut badhiya kavita ji...ek satik kavita me aapne patra ka naam bhi bahut sahi liya h..

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा रचना कविता जी....हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  5. कूड़ा कचरा बीन कर जीवन जी रहे न जाने कितने भरतुयों की यह दास्ताँ है ।आकाश ओढ़ जो ठिठुरती रातें बितातें हैं । दिल कम्बाऊं रचना है यह । पर प्रशासन की आँख नहीं खुलने वाले बलैक मणि वाले उन्हें अपनी ओर लगाये रखेंगे । सुन्दर एवं सामयिक रचना हेतु हार्दिक बधाई कविता जी ।

    ReplyDelete
  6. अत्यंत मर्मस्पर्शी एवं सामयिक कविता !
    इस सुंदर सृजन हेतु आपको बहुत बधाई कविता जी !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  7. सामयिक व उम्दा रचना !

    ReplyDelete
  8. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा आज बुधवार (30-11-2016) के चर्चा मंच "कवि लिखने से डरता हूँ" (चर्चा अंक-2542) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. सामयिक प्रश्न बहुत सशक्त रूप से उठाती भावपूर्ण कविता, कविता जी !
    बहुत-बहुत बधाई आपको !

    ReplyDelete
  10. कविता जी सामयिक रचना के लिए हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  11. मार्मिक ,सार्थक एवं सामयिक कविता ,कविता जी ! हार्दिक बधाई 11!

    ReplyDelete
  12. सुन्दर एवं सामयिक रचना के लिए हार्दिक बधाई कविता जी ।

    ReplyDelete
  13. विशिष्ठ अंदाज में सामायिक प्रश्नो के स्वत: हल खोजती बेहतरीन रचना बधाई आपको आदरणीया रचना जी ।

    ReplyDelete
  14. विशिष्ठ अंदाज में सामायिक प्रश्नो के स्वत: हल खोजती बेहतरीन रचना बधाई आपको आदरणीया रचना जी ।

    ReplyDelete
  15. क्षमा चाहती हूँ बहुत विलम्ब से अपनी प्रतिक्रिया हेतु. आप सभी के प्रोत्साहन से कुछ लिख लेती हूँ, आप सभी को रचना अच्छी लगी इसके लिए आप सभी को कोटिश: धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. बेहद उम्दा...| दिल कचोट जाता है जब ऐसा कुछ पढ़ते हैं...| आपको बहुत बधाई...|

    ReplyDelete