Monday, October 31, 2016

684



गीत
सुनीता काम्बोज
चौदह वर्षों बाद राम जी,लौट अवध में आए थे
अवधवासियों ने खुश होकर ,घी के दीप जलाए थे ।

कार्तिक की अमवस्या का दिन,पावन बड़ी दिवाली है
कहते इस दिन घर आते ये ,धन वैभव खुशहाली है ।
इस दिन हरि ने नरसिंह बनकर ,सारे पाप मिटाए थे
अवधवासियों ने खुश होकर ,घी के दीप जलाए थे ।

साँझ ढले सब दीप जलाकर ,लक्ष्मी पूजन करते हैं
जगमग दीपक तम से लड़कर,अंधकार को हरते हैं ।
त्योहारों की इस खुशबू ने घर आँगन महकाए थे
अवधवासियों ने खुश होकर ,घी के दीप जलाए थे ।
गली - गली सब द्वार सजाते ,अदभुत बड़े नजारें हैं
ऐसा लगता आज धरा पर ,उतरे सभी सितारें हैं ।
छट गए अब वो  धीरे धीरे,जो घन काले छाए थे
अवधवासियों ने खुश होकर ,घी के दीप जलाए थे ।

12 comments:

  1. सुन्दर एवम सामयिक गीत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई ! - सुभाष चंद्र लखेड़ा

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. सुंदर सरस गीत रचना सुनीता जी ।कम शब्दों में दीपावलि की कथा कह गई । बधाई एवं बहुत सारी शुभकामनायें दीपावलि की । सभी सहज साहित्य के रचना कारों और पाठकों को दीवाली शुभ और मंगलमय हो ।दीपावलि से शुरू होने वाला नव वर्ष विश्व में अमन शान्ति लाये यही कामना है ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर गीत सुनीताजी

    ReplyDelete
  5. सुंदर सरस गीत,बधाई सुनीता जी।

    ReplyDelete
  6. राम जी पर सुंदर , सरस गीत प्रिय बहन सुनीता !
    आपको हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  7. सुंदर सरस गीत सुनीता जी...बधाई।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना सुनीता जी ...बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  9. सादर आभार आप सबका

    ReplyDelete
  10. बहुत सरस-मधुर गीत है...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  11. सुनीता जी दीपावली के अवसर पर रचा बहुत मधुर गीत है हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete