Saturday, September 17, 2016

670



1-विनोद कुमार दवे

कविताएँ

1-मेरे गाँव में

कल रात मेरे गाँव में
बारिश हुई
और मीलों दूर मैं
धुएँ से भरे इस शहर में
पूरा का पूरा भीग गया।

कल रात मेरे गाँव में
बारिश हुई
और मैं भीनी माटी की सौंधी महक को
महसूस कर सकता हूँ
यहाँ भी
जहाँ दूर- दूर तक
बादलों का नामोनिशान नहीं है।
-0-
2-नीरवता

शांत समन्दर से एक नदी ने पूछा-
प्रिय जो ये मेरा कोलाहल है
तुझमें मिलकर इतना नीरव कैसे हो जाता है?
सखा ये इतनी शांति ओढ़कर कोई कैसे रह पाता है?
समन्दर ने अपने नयनों को खोला
बिन बोले आँखों से बोला-
प्रिये! तुझमें कोई शोर नहीं
संगीत प्रकृति का गुंजित है
मेरे रोम-रोममें तेरे प्रेम का
कम्पन सदा स्पंदित है
ये प्रेम तेरा मुझमें मिलकर
पूर्णता को प्राप्त हो जाता है
तभी समन्दर तेरे प्रेम में
शांति से सो पाता है।
-0-
3-पेड़ नहीं मुरझाता है

ुछ पत्तों के पीलेपन से पेड़ नहीं मुरझाता है
जिसकी जड़ों में जीवन है वो फिर से फलजाता है

मुझे किस चीज के खो जाने का शोक मनाना चाहिए
सब कुछ जब भगवान का है मनुज क्या खोता क्या पाता है

ये देह तो कुछ लम्हों की पृथ्वी पर मेहमान है
काल चक्र के इस चक्कर में कोई आता कोई जाता है

तुझे मेरे शब्दों में कोई अपनापन और प्रेम दिखा है
ये शायर बस तेरे हृदय की व्यथा के गीत सुनाता है

खुद का मतलब तो हर कोई पहले पूरा करता है
जो निःस्वार्थ भाव से करते है वो ही कर्म कहलाता है

मैं क्या हूँ  कौन हूँ ,जो दान-दाता बनकर फिरता हूँ
ईश्वर का ही दान है सब वो ही देने वाला दाता है
-0-
4- जब ईश्वर ने जगत रचा

जब ईश्वर ने जगत रचा,तब अपनी काया छोड़ गया
माँ के रूप में इस धरती पर,अपनी छाया छोड़ गया।

हर मुश्किल से हर संकट से, हमको जिसने तारा है
इस अंधियारे अंतरिक्ष में,बस माँ ही एक सितारा है।

जब जब मैंने ख़ुद को किसी दलदल में धँसता पाया
माँ के हाथ का मिला सहारा तब खुद को हँसता पाया।

साथ न उनका त्यागना भले अहंकार का झोंका आ जाए
अपना बचपन याद रखना जब माँ को बुढ़ापा आ जाए

दूर शहर में शोर में ज़िन्दगी तनहाई के हाथ रही
वो माँ की यादें थी,जो हर पल मेरे साथ रही

जादू है उन आँखों में,मेरे छिपे अश्कों को जान लिया
हँसने का ढोंग काम न आया, माँ ने दुःख पहचान लिया

सबने पूछा कितने पैसे कितना धन तुमने पाया है
बस माँ थी जो पूछ रही क्या तुमने खाना खाया है
-0-

परिचय = साहित्य जगत में नव प्रवेश।  पत्र पत्रिकाओं यथा, राजस्थान पत्रिका, दैनिक भास्कर,अहा! जिंदगी, कादम्बिनी , बाल भास्कर आदि  में कुछ रचनाएं प्रकाशित। अध्यापन के क्षेत्र में कार्यरत।
विनोद कुमार दवे,206,  बड़ी ब्रह्मपुरी, मुकाम पोस्ट=भाटून्द, तहसील =बाली
जिला= पाली,  राजस्थान-306707
मोबाइल=9166280718
ईमेल - davevinod14@gmail.com

-0-

2-कमला घटाऔरा
1-हे बंदिनी 

रस्से से बँधी ,
मालिक के साथ साथ
चलती जाती
हे बंदिनी  ! हे गो माता ! !
ये दर्द भरी गीली आँखें
कैसे तेरे चेहरे पर आन जुड़ी ?
क्या तूने सूँघ तो नहीं लिया
भविष्य अपना -
कसाई के घर ले जाजाने का ?
तू जाते जाते मूक नजरों से
जाने क्या क्या कह गई
हो खड़ी मैं देखती रह गई
हृदय के सूखे जख्मों को
लगा छील गया जैसे कोई
ऐसा दर्द जो सिर्फ मिलता है
मानवों द्वारा नारी को ही ,
रिसता रहता उम्र भर वह
दिया उसके मालिक द्वारा ।
हे माता ! तुझे क्यों मिल गया ?
क्या तेरे मेरे मन ने आपस में कोई गुफ्तगू कर ली ?
दर्द एक दूसरे का  साँझा करके आँखें भर ली ?
-0-
2 -कलश प्रेम का

दुनिया की कटुता
मत पालो दिल में
कितने दिन रख पाओगे
तुम्हारे अन्दर
भरा जो कलश प्रेम का
छलकने दो उसे जरा
राहत मिलेगी
बेवजह के तनाव से
-0-
3- खुशबू प्यार की

प्यार एक खुशबू ऐसी
जिसे ढूँढ़ते हम दूर दराज़
रहे समाई मन में
मृग की नाभि में बसी
कस्तूरी की तरह
हम भटकते रहते
विक्षिप्त से उम्र भर ।
-0-
3-कोमल सोमरवाल
छज्जे पर चाँद

मैं चाँद आ बैठा हूँ,
फलक के सबसे
ऊपरी छज्जे पर
ढूँढ रहा हूँ तुझको
इस स्याह रात में,
तेरी एक झलक की बेकरारी में
उड़ेलदी चाँदनी सारी
धरा के कोने-कोने पर

शाम ढले तुम छत पर आती हो
मुझे देखकर ख़ुशी से प्रेम  गीत सुनाने
और मैं जिद्दी- सा
तेरी छत पर कभी उतरा नहीं
धड़कन की लय पर तुझे बाँहों में
ले थिरका नहीं
तुम जब मोहब्बत से
देखती हो मुझे
मैं आगे कर देता हूँ
कुछ बादल के टुकड़े

तुम देर तक निहारती ही मुझे
मैं इतराता हूँ खुद पर
तेरे छत की सीढियाँ चने पर
पत्थर दिल धकाया करता हूँ
वो अनकही बातें
जो तू सिर्फ मुझसे किया करती है
रों से अपनी जो ताने बुना करती है
हर बार मैं अपना दिल खो बैठता हूँ
इक दिन तुझसे न मिलने का ख़ौफ
महीने भर मुझको खलता है

बन्द कर रखी है मैंने
चाँदी की डिबिया में महक तेरी
अमावस को उसे धीरे से खोलता हूँ
लो आ रहा है तेज ज्वार दरिया में
शायद ये तेरे क़दमों की आहट है
मेरे तलबगार हैं सब इस जहाँ में
पर इस चाँद का इश्क़
तेरी मुस्कराहट है....!!!

-0-
कोमल सोमरवाल,पता:-लाडनूँ, राजस्थान
ई मेल:-komal951995@gmail.com
शिक्षा:-स्नातक उत्तीर्ण, स्नातकोत्तर में अध्ययनरत
लेखन:-गजल,कहानी,हाइकु,कविता

20 comments:

  1. बढ़िया कविताएँ

    ReplyDelete
  2. विनोद जी बहुत सुंदर रचनाएँ हार्दिक बधाई

    कमला जी बहुत सुंदर भावपूर्ण सृजन

    कोमल जी बहुत खूबसूरत रचनाएँ

    ReplyDelete
  3. विनोद जी बहुत सुंदर रचनाएँ हार्दिक बधाई

    कमला जी बहुत सुंदर भावपूर्ण सृजन

    कोमल जी बहुत खूबसूरत रचनाएँ

    ReplyDelete
  4. विनोद जी बहुत सुंदर रचनाएँ हार्दिक बधाई

    कमला जी बहुत सुंदर भावपूर्ण सृजन

    कोमल जी बहुत खूबसूरत रचनाएँ

    ReplyDelete
  5. विनोद जी की कविताएँ प्रकृति से निकटता के सुख की हैं । प्रकृति की सुंदर कविताआं के लिए बधाई । कमला जी की लेखनी का सुन्दर सृजन । बंदनी , कलश प्रेम का , खुशबू प्यार की । तीनों अच्छी लगीं । बधाई कमला जी ।कोमल जी छज्जे पर चाँद कविता के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  6. विनोद जी की कविताएँ प्रकृति से निकटता के सुख की हैं । प्रकृति की सुंदर कविताआं के लिए बधाई । कमला जी की लेखनी का सुन्दर सृजन । बंदनी , कलश प्रेम का , खुशबू प्यार की । तीनों अच्छी लगीं । बधाई कमला जी ।कोमल जी छज्जे पर चाँद कविता के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. prem ,ma aur prakrit pr likhi kavitayen achchhi lagin badhai aap sabhi ko
    rachana

    ReplyDelete
  9. विनोद जी वर्षा में गाँव की स्मृति , नीरवता में पूर्ण प्रेम की अभिव्यक्ति , जब ईश्वर ने जगत रच में माँ की महिमा का गुणगान सभी रचनाये बहुत अच्छी लगी । बधाई ।
    कोमल जी चाँद को तकने वाले के प्रति चाँद के प्रेम की सुन्दर भाव भरी रचना ने मूर्णमासी से अमावस तक की यात्रा करा दी । चाँद का इश्क तेरी मुस्कुराहट है , में ।बधाई स्वीकारें ।
    मान्य सम्पादक जी आपने मेरी कवितायों को यहाँ स्थान दे करमुझे अनुग्रहित किया है । आभार । कमला

    ReplyDelete
  10. विनोदजी हमे पताही नहीं आप लिखने का शोख रखते है
    आप ने कभी बताया ही नहीं
    वर्षा में गाव की स्मृति मुझे बहुत पसंद आई
    इस बार गावँ आने पर आपसे विशेष मुलाकात लेने पड़ेगी

    ReplyDelete
  11. विनोद जी...मेरे गाँव में ...उम्दा एवं सार्थक संदेशप्रद सृजन...
    जब ईश्वर ने जगत रचा....खूबसूरत गीतिका....
    शुभकामनाएं...साहित्य जगत में यूँही आगे बढ़े एवं नाम कमायें....

    ReplyDelete
  12. आ.कमला जी "हे बंदिनी" रचना सार्थक एवं सामयिक है...मार्मिक सृजन..बधाई

    ReplyDelete
  13. कोमल जी आपने कोमल एहसास का बहुत सटीक वर्णन चाँद की मुस्कुराहट से किया है...बधाई

    ReplyDelete
  14. विनोद जी.. बहुत सुंदर रचनाएँ !
    कमला जी प्यारी रचनाएँ .."हे बंदिनी" बहुत मार्मिक !
    कोमल जी "छज्जे पर चाँद" बहुत खूबसूरत !
    आप तीनों रचनाकारों को बहुत -बहुत बधाई !!!

    ReplyDelete
  15. हार्दिक धन्यवाद आप सभी को

    ReplyDelete
  16. विनोद जी, कमला जी और कोमल जी बहुत सुन्दर विषयों पर सुन्दर भावों से सजी कविताएं हैं आप सभी बधाई के पात्र हैं ।

    ReplyDelete
  17. बेहद सुन्दर रचनाएँ...विनोद जी, कोमल जी तथा कमला जी बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  18. अत्यंत सुंदर, भावभीनी, मन को छूने वाली सभी रचनाएँ !
    विनोद जी, कमला जी एवं कोमल जी...अप सभी को बहुत-बहुत बधाई !

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  19. विनोद जी, कमला जी, कोमल जी को सुंदर रचनाओं की ढेर सारी बधाई।

    ReplyDelete