Tuesday, September 27, 2016

673

संदली फिज़ाओं में पीपल की छाँव में काव्य-पाठ

दिनांक25 सितंबर2016,रविवार,वैशाली,गाजियाबादमें पूर्व की भाँतिपेड़ों की छाँव तले रचना पाठ की24वीं साहित्यिक गोष्ठी की विशेष प्रस्तुतिकवयित्री रचना पाठ 2016वैशाली सेक्टर चार स्थित हरे भरे मनोरम सेंट्रल पार्क में सम्पन्न हुईहिन्दी साहित्य से सम्बन्धित अभिनव प्रयोग की यह शृंखला प्रत्येक माह के अंतिम रविवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अनुसार ही मध्याह्न उपरांत 4:00 बजे से प्रारम्भ हुईइस बार की गोष्ठी का विषयनारी अस्मिता व शक्ति स्वरूपा’ रहा जिसे महिला कवयित्री रचना पाठ से नऊँचाइयाँ प्राप्त हुईं।
इस अवसर पर स्थानीय पार्षद नीलम भारद्वाज द्वारा सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र व भेंट स्वरूप पुस्तकें प्रदान की गईँ। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ वरुण कुमार गौतम व संचालन अवधेश सिंह(संयोजक) ने किया।
आमंत्रित कवयित्रियों में प्रमुख रूप से अंजू सुमन साधकने दोहे पढ़े ममता की अब हो गहै ये कसी शक्ल / मात -पिता करने लगे,आरुषियों के कत्ल। मनजीत कौर 'मीत' ने गीत माँ दिल डरता है अब तो,सुन खबरे बदकारों की,कोमल कमसिन तू क्या जाने नजरें इन मक्कारों की सुनाया।सुनीता पाहूजा ने कहा- मुझे पंख देकर उड़ना सिखाया तुमने, छू लूँ आसमान ये हौसला दिलाया तुमने,अब मेरी इन ऊँचाइयों से डरना न तुम,अब मेरे ये पंख देखो कतरना न तुम;

डॉ जेन्नी शबनम ने अपनी कविता शीर्षक 'झाँकती खिड़की' से सुनाया-पर्दे की ओट से / इस तरह झाँकती है खिड़की / मानो कोई देख न ले / मन में आस भी / और चाहत भी / काश कोई देख ले; का भावपूर्ण पाठ कर श्रोताओं को प्रभावित किया और वाहवाही लूटी।


श्यामा अरोड़ा ने तेजस्वी हुंकार भरी 'समझ कर हीन अपने पर स्वयं अन्याय न मत करिए,तुम्हारी शक्ति सारा विश्व चरणों में झुका देगी,उठो जागो तुम्हारे जागरण का वक्त आया है। तुम्हारी चेतना सोई मनुजता को जगा देगी.’'पूनम माटिया ने प्रेम में डूबी ग़ज़ल के चुनिन्दा शेर पढ़े- टुकड़ो में बाँट देता है,पूरा होने नहीं देतामुमकिन है जीत जाऊँ मैं,जिस लम्हा जोड़ लूँ ख़ुद को,श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। वहीं सुप्रिया सिंह 'वीना'ने अपनी कविता माँ की ममता का अमर कोश / कभी मिटा सका क्या मृत्युबोध / तेरी आँचल की छाया में / स्वछंद निडर अंजान डगर पर चलती थी का भावप्रवण पाठ किया।साहित्यिक त्रैमासिकी 'सृजन से' की संपादिका मीना पाण्डेय ने सुमधुर आवाज में अपने गीत-लेके चल ज़िन्दगी बचपन के गाँव में,संदली फिज़ाओं में पीपल की छाँव मेंसुनाया। 'संवदिया'की संपादिका अनीता पंडित सहित नवोदित आकांक्षा तिवारी निधि गौतम ने काव्य पाठ किया।
विशेष आमंत्रित विशिष्ट कवियों में सर्वश्रीअनिल पाराशर 'मासूम',मृत्युंजय साधक,शिव नन्द 'सहयोगी', देवेन्द्र,देवेश,अरुण कुमार राय,मनोज दिवेदी,अमर आनन्द,कैलाश खरे,अवधेश निर्झरआदि रहे।इस अवसर पर सर्व श्री रतल लाल गौतम,कपिल देव नागर,दयाल चंद्र,अश्विनी शुक्ल,छेदी लाल गौतम,धीरेन्द्र नाथ तिवारी, शत्रुघ्न प्रसाद,महेश चन्द्र,रति राम सागर,कैलाश पाण्डेय,नारायण सिंहआदि प्रबुद्ध श्रोताओं ने रचनाकारों के उत्साह को बढ़ाया।


-0-

19 comments:

  1. सफ़ल कार्यक्रम के आयोजकों व प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई । मुझे कार्यक्रम की विस्तृत रिपोर्ट पढ़ कर बहुत अच्छा लगा । सबको बधाई ।

    ReplyDelete
  2. सफ़ल कार्यक्रम के आयोजकों व प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई । मुझे कार्यक्रम की विस्तृत रिपोर्ट पढ़ कर बहुत अच्छा लगा । सबको बधाई ।

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत धन्यवाद व बधाई। सहभागिता के लिये आभार - अवधेश सिंह

    ReplyDelete
  4. सुनियोजित कार्यक्रम के लिए अवधेशजी एवं वरुण सर को बहुत -बहुत बधाई। कार्यक्रम की विस्तृत रिपोर्ट के प्रस्तुतीकरण के लिए अग्रज रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' को आभार और सभी प्रतिभागियों को बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  5. सुन्दर, सफल आयोजन के लिए आयोजकों और प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई !
    कार्यक्रम की विस्तृत रिपोर्ट और संलग्न चित्रों ने जैसे वहीं पहुंचा दिया |
    आदरणीय काम्बोज भाई जी का बहुत-बहुत आभार !!
    निःसंदेह ऐसी प्रस्तुति इस तरह के और भी आयोजन की प्रेरणा देगी |
    बहुत शुभ कामनाओं के साथ-
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  6. सुन्दर, सफल आयोजन के लिए आयोजकों और प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर कार्यक्रम आयोजकों और सभी प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  8. सफल आयोजन के लिए आयोजकों और प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई|

    ReplyDelete
  9. प्रकृति के सानिंध्य में सभी नामचीन कवयित्रियों के द्वारा सफल सम्मेलन । सभी प्रबुद्धजनों को मेरी शुभकामनाएं ।
    सुन्दर मोहक प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  10. प्राकृतिक परिवेश में पेड़ों की छाँव तले काव्य पाठ बहुत ही आनन्ददायक रहा. आयोजनकर्ता को सफल आयोजन के लिए बधाई. उपस्थित सभी मित्रों का धन्यवाद. काम्बोज भाई ने इस कार्यक्रम के रिपोर्ट को यहाँ स्थान दिया दिल से आभार!

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन आयोजन...सभी रचनाकारों ,श्रोताओं,संचालन मंडल को हार्दिक बधाई....

    ReplyDelete
  12. सभी रचनाकारों,पाठकों ,संचालन मंडल एवं विशिष्ट अधिकारियों को सफल कार्यक्रम की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  13. बहुत बहुत धन्यवाद व बधाई।

    ReplyDelete
  14. kvita path kii tulnaa Tagore ke shanti Niketan kiiyaad kraatii hai. Yah baat huyyi na!. pratriti ke anchal me kavya path karna ek nayaa aand detaa hai . Amar rahe yah Kavishala, Bachchn bhii kbhii likha karte thay apnii madhushala. Abbad Rahen pdhne vale aavad rahe yah Kavishaala. Shiam Tripathi -Hind Chetna

    ReplyDelete
  15. आयोजकों औऱ सभी रचनाकारों,श्रोताओं को सफल कार्यक्रम के लिए हार्दिक बधाई....

    ReplyDelete
  16. साहित्यिक गोष्ठी, वह भी पीपल की छाँव तले, सोचकर ही मन में प्रकृति के सानिध्य में होने वाले एक सुंदर आयोजन का आभास होता है ! इस रिपोर्ट एवं तस्वीरों से गोष्ठी की सफलता का भी एहसास हुआ ! संचालकों एवं सभी प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई एवं इसकी रिपोर्ट यहाँ साझा करने हेतु आ. भैया जी एवं बहन हरदीप जी का बहुत धन्यवाद !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  17. वाह आपसी समन्वय व व्यर्थ की उपद्रवी भीड़ , वातानुकूलित हॉलों की परिधी से परे स्वच्छ वातावरण में वसुधा व माँ शारदे का आप सबको जो आशीर्वाद मिला उसके लिए आपको साधुवाद हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  18. आयोजकों औऱ सभी रचनाकारों,श्रोताओं को सफल कार्यक्रम के लिए हार्दिक बधाई.. काश मैं भी भाग ले पाती ।वैशाली मेरे घर के पास भी पड़ता है।
    सभी प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर, सफल आयोजन के लिए आयोजकों और प्रतिभागियों को बहुत-बहुत बधाई !

    ReplyDelete