Monday, August 29, 2016

661



लोक-शैली रसिया पर आधारित रमेशराज की दो तेवरियाँ
1
रमेशराज
मीठे सोच हमारे, स्वारथवश कड़वाहट धारे
भइया का दुश्मन अब भइया घर के भीतर है।

इक कमरे में मातम, भूख गरीबी अश्रुपात गम
दूजे कमरे ताता-थइया घर के भीतर है।

नित दहेज के ताने, सास-ननद के राग पुराने
नयी ब्याहता जैसे गइया घर के भीतर है।

नम्र विचार न भाये, सब में अहंकार गुर्रा
हर कोई बन गया ततइया घर के भीतर है।

नये दौर के बच्चे, तुनक मिजाजी-अति नकनच्चे
छटंकी भी अब जैसे ढइया घर के भीतर है।
2
खद्दरधरी पट्ठा, जन-जन के अब तोड़ें गट्टा
बापू के भारत में कट्टा देख सियासत में।

तेरे पास न कुटिया, तन पर मैली-फटी लँगुटिया
नेताजी का  ऊँचा अट्टा देख सियासत में।

तेरी मुस्कानों पर, रंगीं ख्वाबों-अरमानों पर
बाजों जैसा रोज झपट्टा देख सियासत में।

खुशहाली के वादे, तूने भाँपे नहीं इरादे
वोट पाने के बाद सिंगट्टा देख सियासत में।
-0-

परिचय रमेशराज
पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त
पिता- लोककवि रामचरन गुप्त
जन्म-15 मार्च 1954, गाँव-एसी, जनपद-अलीगढ़
शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल
सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]
सम्पादित कृतियाँ-1-अभी जुबाँ कटी नहीं,2. कबीर जि़न्दा है ,3. इतिहास घायल है,
4-एक प्रहारः लगातार [ सभी तेवरी संग्रह ]
स्वरचित कृतियाँ-रस से संबंधित-1. तेवरी में रससमस्या और समाधान 2-विचार और रस [ विवेचनात्मक निबंध ] 3-विरोध-रस 4. काव्य की आत्मा और आत्मीयकरण
तेवर-शतक-लम्बी तेवरियाँ-1. दे लंका में आग 2. जै कन्हैयालाल की 3. घड़ा पाप का भर रहा 4. मन के घाव नये न ये 5. धन का मद गदगद करे 6. ककड़ी के चोरों को फांसी 7.मेरा हाल सोडियम-सा है 8. रावण-कुल के लोग 9. अन्तर आह अनंत अति 10. पूछ न कबिरा जग का हाल
शतक-1.ऊघौ कहियो जाय [ तेवरी-शतक ] 2. मधु-सा ला [ शतक ]3.जो गोपी मधु बन गयीं [ दोहा-शतक ] 4. देअर इज एन ऑलपिन [ दोहा-शतक ] 5.नदिया पार हिंडोलना [ दोहा-शतक ] 6.पुजता अब छल [ हाइकु-शतक ]
मुक्तछंद कविता-संग्रह-1. दीदी तुम नदी हो  2. वह यानी मोहन स्वरूप
बाल-कविताएं- 1.राष्ट्रीय बाल कविताएं
प्रसारण-आकाशवाणी मथुरा व आगरा से काव्य-पाठ
सम्मानोपाधि- ‘साहित्यश्री, उ.प्र. गौरव, तेवरी-तापस, शिखरश्री
अभिनंदन-सुर साहित्य संगम [ एटा ] , शिखर सामाजिक साहित्कि संस्था अलीगढ़
अध्यक्ष-1.सार्थक सृजन [ साहित्यक संस्था ] 2.संजीवन सेवा संस्थान ;सामाजिक सेवा संस्था 3.उजाला शिक्षा एवं सेवा समिति [ सामाजिक संस्था ]
पूर्व अध्यक्ष-राष्ट्रीय एकीकरण परिषद, उ.प्र. शासन, अलीगढ़ इकाई
सम्प्रति-दैनिक जागरण से स्वतंत्र पत्रकार के रूप में सम्बद्ध
सम्पर्क-15/109, ईसानगर, निकट-थाना सासनी गेट, अलीगढ़[ उ.प्र. ]
मोबा. 09634551630
-0-

36 comments:

  1. रमेश राज जी ने तेवरी के विकास के लिए काफी कुछ किया है। आज तेवरी की कई शैलियों में वह रचना कर रहे हैं, जो उसे एक विधा सिद्ध करने में सहायक है। ये दोनों तेवरियाँ समाज की विसंगति पर तीखी टिप्पणी करती हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार महादोषीजी

      Delete
  2. सामाजिक राजनितिक विषमताओं पर अच्छी रचनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार अनीता जी

      Delete
  3. बहुत खूब रमेश जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सिम्मी भाटिया जी

      Delete
  4. रमेश राज जी की दोनों तेवरियाँ बहुत आज की स्थिति को बयाँ कर रहीं हैं । बहुत सटीक व चटकीले अंदाज़ में बहुत खूब कही है खुशहाली के वादे, तूने भाँपे नहीं इरादे
    वोट पाने के बाद सिंगट्टा देख सियासत में।
    बहुत सुन्दर। बधाई ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर। बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सुनीता जी

      Delete
  6. पहली बार तेवरियाँ पढ़ी ! अतिसुन्दर !
    हार्दिक बधाई आ. रमेशचन्द्र गुप्त जी!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार अनीता जी


      Delete
  7. रमेश जी की तेवरिया पढी अत्यधिक पसंद आयी तेवरिया पढ़ने का यह पहला अवसर है भविष्य में भी पढ़ने को मिलती रहें आशा करती हूँ । रमेश जी अनेक शुभकामनाएं और बधाई स्वीकारें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सविता जी

      Delete
  8. आ.रमेशराज जी,हार्दिक अभिनंदन
    आपका यहाँ पर प्रथम साक्षात्कार बहुत ही प्रेरणास्पद है।
    तेवरिया अँदाज में यथार्थ का उद्घाटन बेहतरीन हुआ है ।सामाजिक पक्ष के साथ-साथ राजनैतिक दाँव पेच को सरलता ,सरसता एवं रोचकता से आपने प्रस्तुत करके पाठक को तेवरिया पढ़ने एवं सीखने में विवश कर दिया।हार्दिक बधाई...आदरणीय...भविष्य में भी तेवरिया यूँही लिखते रहें,एवं पढ़ाते रहिएगा...आभार..

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार डॉ.पूर्णिमा राय जी

      Delete
  9. पहली बार तेवरियाँ पढ़ने का अवसर मिला। मौजूदा हालातों का खुलासा करती दोनों तेवरियाँ बहुत ही बढ़िया।
    हार्दिक बधाई आ० रमेशचन्द्र गुप्त जी।

    ReplyDelete
  10. चुटीले अन्दाज़ में प्रस्तुत की गई व्यंग्य की धार बहुत ही पैनी है... ये तेवरियाँ तो बस जानलेवा हैं, बस दिल में चुभने की देर है! बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  11. Bahut bhavpurn bahut bahut badhai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार डॉ.भावना जी

      Delete
  12. आदरणीय रमेश जी बहुत उम्दा सार्थक सृजन के लिए हार्दिक बधाई.. आपकी लेखनी को सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सुनीता जी

      Delete
  13. आज पहली बार तेवरियाँ पढी...| बड़े सरल शब्दों में और रोचक ढंग से यथार्थ को प्रस्तुत कर दिया गया है | इस विधा के लिए आपका प्रयास निश्चय ही बहुत सराहनीय है | मेरी हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार प्रियंका जी

      Delete
  14. आज पहली बार तेवरियाँ पढी। इस विद्या से मैं पूर्णता अन्‍जान हूँ पर आप की तेवरियाँँ पढ़ अर्थ की गहराई जरूर समझ आई। मेरी आप को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete
    2. This comment has been removed by the author.

      Delete
    3. हार्दिक आभार सीमा जी

      Delete
  15. आ.रमेशराज जी,हार्दिक अभिनंदन ..उम्दा सृजन के लिए हार्दिक बधाई..
    ...भविष्य में भी तेवरिया यूँही लिखते रहिएगा...आभार.. सादर नमन!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार ज्योत्सना जी

      Delete
  16. आ.रमेशराज जी बहुत अच्छे तेवरियाँ। चुटकी भरते तीखे व्यंग।बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आभा जी

      Delete
    2. हार्दिक आभार आभा जी

      Delete
  17. आज की स्थिति पर तंज कसती तीखी तेवरियाँ !
    हार्दिक बधाई आदरणीय !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार ज्योतिकलश जी

      Delete