Thursday, August 25, 2016

660



सुनीता काम्बोज

तेरी प्यास मुझको तेरी आरजू
इधर तू ही तू है, उधर तू ही तू

मेरे श्याम सुंदर मेरे साँवरे
ये नैना तुम्हारें लिए बावरे
मुझे हर घड़ी है तेरी जुस्तजू
इधर...

ये चाहत है दिल की कभी बात हो
तुम्हारी हमारी मुलाकात हो
कभी तो मिलो और करो गुफ्तगू
इधर ....
निराशा में आशा कन्हैया बने
सुनीता सदा वो खेवैया बने
बचाते रहे तुम सदा आबरू

-0-

11 comments:

  1. कृष्ण प्रेम पगा बहुत सुंदर गीत सुनीता जी !
    हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमन आदरणीया बहुत बहुत शुक्रिया जी ...जय श्री कृष्णा

      Delete
  2. Replies
    1. अनिता बहन सादर धन्यवाद ..राधे राधे जी

      Delete
  3. Replies
    1. सादर धन्यवाद सतीश भाई

      Delete
  4. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद .....जय श्री राधे

      Delete
  5. रसमय अभिव्यक्ति वाआआआह

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमन आदरणीय बहुत बहुत शुक्रिया जी ...जय श्री राम

      Delete
  6. बहुत सुंदर गीत सुनीता जी !
    हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete