Thursday, August 18, 2016

656



सुनीता काम्बोज

भाई-
सुनीता काम्बोज
1



पिताजी की छवि दिखती वो माँ का रूप लगता है

मेरा भैया -सा भाई तो नसीबों से ही मिलता है



कभी लगता गुरु- सा वो, कभी मेरी सहेली सा

मेरी खुशियाँ रहे क़ायम, दुआ वो रोज़ करता है



ये जिम्मेदारियाँ सारी निभाता वो सदा घर की

है सारी ही उम्मीदों पर ,खरा हरदम उतरता है



तिलक तुझको लगा दूँ मैं ,आ तेरी आरती करके

निग़ाहों में मुझे उसकी सदा ही फ़र्ज़ दिखता है



सुनीता की दुआएँ हैं उसे कोई न दुख आए

मुझे तो चैन मिल जाता ,वो जब फूलों-सा हँसता है



2


ड़ा निश्छल ,बड़ा पावन ,बहन और भाई का बंधन

तुझे ही देखके लगता कि जैसे आ गया बचपन



कलाई पर तुम्हारी मैं ये अपना प्यार बाँधूँगी

तू चमके चाँद -सूरज -सा यही वरदान माँगूँगी

जिए जुग-जुग मेरा भैया ,मिले जग की सभी खुशियाँ

तेरे ग़म भी मुझे दे दे मैं रब से ये ही बोलूँगी



नजर तुझको न लग जाए लगा दूँ आँख का अंजन

तुझे ही देखके लगता कि जैसे आ गया बचपन



मेरी आँखों का सूनापन नही वो देख पाता है

मेरी आँखों में आँसू हो तो खुद ही छटपटाता है



शरारत से अभी भी वो नही यूँ बाज है आया

बड़ा होकर भी खुद को वो सदा छोटा बताता है



बहन तेरी ये कुमकुम- सी ये भाई है मेरा चन्दन

तुझे ही देखके लगता कि जैसे आ गया बचपन



हो मन उसका अगर भारी, पिता माँ से छिपाता है

किसी को भी नहीं कहता ,मुझे आकर बताता है



सुनीता डाँट देती है तो मुँह अपना फुला लेता

अगर मैं रूठ जाती हूँ ,मुझे अक्सर मनाता है



उसी की ही महक से तो मेरा घर भी लगे उपवन

तुझे ही देखके लगता कि जैसे आ गया बचपन

-0-



रक्षा-बन्धन
डॉ०पूर्णिमा राय
रक्षा बन्धन आ गया, बहना का ले प्यार।।
दिवस 'पूर्णिमा' कर सजे,रक्षाबंधन तार।
रक्षाबंधन तार, राखियाँ प्यारी चमके
शाश्वत केवल प्यार, बहन के मुख पे दमके।
राखी का उपहार ,मुझे यह दे दो भिक्षा
महके आँगन प्यार, बहन की हरदम रक्षा।।

*******************************
मनमोहक राखी चमक,फैली चारों ओर।
बहन-प्रेम के सामने,किसका चलता जोर।।
किसका चलता जोर,बदल गई मन भावना,
ये रेशम की डोर,फैलाये सद् भावना।।
देखें गर इतिहास ,मिला कर्मवती को हक
जागे मन विश्वास ,धर्म भाई मनमोहक।।

-0-

21 comments:

  1. प्यारी कविताएँ बहनों, सभी भाई-बहनों को रक्षा बंधन के पावन पर्व की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  2. सभी भाई बहनों को रक्षाबन्धन की हार्दिक बधाई ..सादर आभार आदरणीय रामेश्वर भैया जी

    ReplyDelete
  3. मधुर-मधुर सी बहुत सुन्दर रचनाएँ ! बधाई सभी रचनाकारों को !!
    पावन पर्व पर हार्दिक शुभ कामनाएँ !!

    ReplyDelete
  4. भाई बहन के प्यार की बहुत सुंदर कविताएँ । पूर्णिमाजी, सुनीताजी हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  5. रक्षा बन्धन की बहुत बधाई. भाई बहन के रिश्ते होते ही हैं बहुत गहरे. भाई पर बहुत प्यारी प्यारी रचनाएँ. सुनीता जी और पूर्णिमा जी को बधाई.

    ReplyDelete
  6. लाजवाब सृजन सुनीता काम्बोज क्या कहने वाह वाह बधाई

    ReplyDelete
  7. पूर्णिमा जी बेहद खूब लिखा आपने बधाई

    ReplyDelete
  8. लाजवाब सृजन सुनीता काम्बोज क्या कहने वाह वाह बधाई

    ReplyDelete
  9. .nice Didi very good i like it thanks for this

    meri behna badi hai payri
    hai vo dunia se nayri

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन यथार्थ का अवलोकन करवाया..सुनीता जी...बधाई..

    ReplyDelete
  11. मेरी रचना पर स्नेहिल टिप्पणी देने हेतु सभी रचनाकारों का साभार...

    मेरी ओर से सभी को पावन पर्व की हार्दिक बधाई....
    रक्षा बंधन
    असीमित नेह को
    करे प्रकट!!
    डॉ.पूर्णिमा राय

    ReplyDelete
  12. मेरी रचना पर स्नेहिल टिप्पणी देने हेतु सभी रचनाकारों का साभार...

    मेरी ओर से सभी को पावन पर्व की हार्दिक बधाई....
    रक्षा बंधन
    असीमित नेह को
    करे प्रकट!!
    डॉ.पूर्णिमा राय

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन यथार्थ का अवलोकन करवाया..सुनीता जी...बधाई..

    ReplyDelete
  14. Brilliant Production full of thought provoking ideas. Compounded with high order poetry . The poem by Purnima Rai is true reflection of a brother by a sister. Very well thought . Shiam Tripathi HindiChetna

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ.श्याम त्रिपाठी सर..नमस्कार।
      आपकी प्रतिक्रिया से लेखन सफल हुआ।नव चेतना से लेखन अभिभूत हुआ।
      आभार!!

      Delete
  15. सुंदर -सृजन .... बहुत प्यारी -प्यारी रचनाएँ ! पूर्णिमाजी, सुनीताजी हार्दिक बधाई ....शुभ कामनाएँ !!

    ReplyDelete
  16. आप सभी के इस अनमोल स्नेह और आशीर्वाद के लिए ह्रदय से आभार व्यक्त करती हूँ ....आप सबका स्नेह ऐसे ही बना रहे यही आशा है ..सभी को सादर नमन ..बहुत बहुत शुक्रिया आप सबका

    ReplyDelete
  17. sabne bahut achha likha bahut bahut badhai...

    ReplyDelete
  18. ज्योत्सना जी, डॉ.भावना जी ,सुनीता जी ,नमन सहित आभार

    ReplyDelete
  19. बहुत ही प्यारी रचनाएँ ! रक्षा-बन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ ! भाई-बहन का प्यार यूँ ही बना रहे!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  20. भाई-बहन के मधुर प्रेम को दर्शाती दिल से निकली रचनाएँ हैं ये...| आप दोनों को बधाई और भाई-बहन के इस अनंत प्रेम के लिए बहुत शुभकामनाएँ...|

    ReplyDelete