Saturday, August 13, 2016

653



सच्चा जश्न (गीत) मात्रा-भार 16-14
डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर।
आज़ादी का दिवस सुहाना नई उमंगे लाया है।
भारत की माटी के रँग में जग को रंगने आया है।।

गीत तराने गूँज रहें हर गली-गली चौबारे में
आज़ादी का भाषण देते नेता हर गलियारे में
रंग तिरंगा खिलता तन पर मन में जोश समाया है।।

नवयुग में नई सोच से भारत आगे कदम बढ़ायेगा
गौरवशाली देश तिरंगा दुनिया में लहरागा
प्रेम-समर्पण दया-धर्म भारत का सबको भाया है।।

छोड़ गये जो यादें अपनी उन वीरों को नमन करें
वीरों के परिवारों के हम मिलकर रिसते जख्म भरें
खुशियाँ देकर कहे
पूर्णिमा सच्चा जश्न मनाया है।।
-0-

4 comments:

  1. सुन्दर भावों भरा 'सच्चा जश्न'!
    बहुत बधाई पूर्णिमा जी !!

    ReplyDelete
  2. आभार ज्योति जी...

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  3. आभार ज्योति जी...

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना।
    हार्दिक बधाई पूर्णिमा जी !!

    ReplyDelete