Friday, August 5, 2016

651




डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर

तारों की बारात नभ ,चंदा लेके आ गया।
जादू तेरे प्यार का, मन पे मेरे छा गया।।
मोर ,पपीहा खुश हुआ, कली खिली जब बाग में;
सुरभित मन्द हवा चली,भँवरा भी मँडरा गया।।
उमड़ी काली जब घटा, डाली-डाली झूमती ;
पानी बरसा ज़ोर से, मन-आँगन महका गया।।
घूँघट ओढ़े लाज का,करती हार शृंगार है;
रूप सिमटता देख के,दर्पण भी शरमा गया।।
चलती नाव खुमार में, हर्षित हरेक बाल है;
उन्नत भारत देश में,सावन खुशियाँ ला गया।।
परिवारों में सुख बढ़े, प्रेम-भाव सौगात दें;
दूर रहें तकरार से,सावन यह समझा गया।।
सावन के त्योहार में ,माँगें सबकी ख़ैर हम;
बोल पूर्णिमाबोलती,सावन सबको भा गया।।
-0-

8 comments:

  1. सावन मास का मनोहारी वर्णन पूर्णिमाजी। बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति पूर्णिमा जी बधाई।

    ReplyDelete
  3. वाह ! बहुत सुन्दर सावनी गीत पूर्णिमा जी। मनोहारी सावनी गीत की बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  4. वाह पूर्णिमा जी सावन का मनोहारी वर्णन के साथ शुभकामनाएं देने के लिए धन्यवाद और हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर, मनभावन गीत...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  6. आभार
    आ.सुदर्शन जी,सविता जी,प्रियंका जी,कृष्णा जी,मंजु जी...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर ,मधुर प्रस्तुति पूर्णिमा जी ...हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर गीत पूर्णिमा जी! मनभावन सावनी गीत की बहुत -बहुत बधाई !

    ReplyDelete