Wednesday, June 15, 2016

641



ज़िंदगी मुस्काएगी-डॉ योगेन्द्र नाथ शर्मा 'अरुण'

ज़िन्दगी उलझाओगे तो,बस उलझती जाएगी!
मुस्कुराओगे अगर तुम,ये ज़िंदगी मुस्काएगी!!

मुश्किलें आएँगी हरदम,बस जूझना होगा तुम्हे,
जितना मुश्किल से डरोगे,उतना ही ये डराएगी!!

मंजिल स्वयं आती नहीं,ये खूब रखना याद तुम,
जब पाँव चलते जाएँगे,मंजिल स्वयं आ जाएगी!!

जिस ने भी डर के छोड़ दी है, डोर आशा की यहाँ,
कोई दवा उसको कभी, जीवित नहीं कर पाएगी!!

पाँव  से विकलांग है गर, तो  दोष  तेरा  है कहाँ?,
साहस जुटाले दिल में तू,मंजिल तेरी मिल जाएगी!!

सब को ही जाना है एक दिन, कौन रहता है यहाँ?
उपकार कर लेगा अगर, तो  याद  जग को आएगी!!
          -------------------------------------

डॉ योगेन्द्र नाथ शर्मा "अरुण"
पूर्व प्राचार्य,
74/3,
न्यू नेहरु नगर,
रूडकी-247667

10 comments:

  1. जिन्दगी प्रेरणात्मक संदेश देती सशक्त रचना .

    ReplyDelete
  2. योगेन्द्र जी सशक्त रचना है हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना ,,बधाई आपको

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया रचना...योगेन्द्र जी बधाई!

    ReplyDelete
  5. सशक्त एवम प्रेरक गज़ल.बधाई

    ReplyDelete
  6. प्रेरणादायी रचना बधाई।

    ReplyDelete
  7. प्रेरणादायी कविता| बधाई
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  8. प्रेरणा दायक एवं उत्साह वर्द्धक रचना है -मंजिल स्वयं आती नहीं ,... बहुत सशक्त बात कही , जब पाँव चलते जायेंगे ,मंजिल स्वयं आ जायेगी । हर पंक्ति प्रेरक है बधाई योगेन्द्र जी ।

    ReplyDelete
  9. बहुत प्रेरणादायक रचना।

    ReplyDelete
  10. बहुत प्रेरणादायक रचना।

    ReplyDelete