Tuesday, April 19, 2016

630

1-एक जोड़ी पैर
मंजूषा 'मन'


जीवन भर
देखे उसने
सिर्फ एक जोड़ी पैर
और सुनी
एक रौबदार आवाज-
"चलो"
और वो चलती रही
एक जोड़ी पैर के पीछे
करती भी क्या
बचपन से यही सीखा
सिर नीचे रखो
नज़र नीचे रखो
देख भी क्या पाती
नीची गर्दन से
नीची नज़र से
उसे तो दिखे
सिर्फ एक जोड़ी पैर
जो दिशा दिखाते रहे
और धीरे धीरे
वो औरत से
भेड़ में बदल गई
जब भी सुनती
"चलो"
तो बस चल देती
उन दो पैरो के पीछे
बस यही जानती है वो
ये एक जोड़ी पैर
और ये आवाज है
उस पुरुष के
जो मालिक है
मेरे जीवन का।
-0-
2-रुदाली-मंजूषा 'मन'


मन के भीतर एक रुदाली
हर पल ही रोया करती है
मन की उर्वर धरती पर वो
आँसू ही बोया करती है।

खोया जो कब उसका दुख है
कुछ पाने की चाह नहीं है,
न कोई मंजिल है उसकी
कोई उसकी राह नहीं है।
जाने किन जन्मों की पीड़ा
जन्मों से ढोया करती है।
मन के भीतर एक रुदाली

जीवन के सारे सुख इसने
पाये पाकर ही खोए है,
देखे जो भी इसकी किस्मत
तो अनजाने भी रोए हैं।
आँसू ही इसकी पूँजी हैं
उनको ही खोया करती है।
मन के भीतर एक रुदाली
हर पल ही रोया करती है।

-0-

19 comments:

  1. वाह मंजूषा जी उत्तम सृजन। बधाई।

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 20 अप्रैल 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. वाह मंजूषा जी बहुत सुन्दर लिखा है।मन के भीतर एक रुदाली में व्यथा का वृतांत और एक जोड़ी पैर दोनों ही भाव पूर्ण हैं रचनाएं हैं ।हार्दिक बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  4. व्यथित कर देने वाली आपकी रचनाएं हृदय को छू जाती हैं। उसकी कहानी आपने कह दी जो शायद ये जानती भी नहीं कि अपनी व्यथा कैसे कहे। शब्दों की सुंदर व्यवस्था।

    ReplyDelete
  5. ऊफ मंजूषा कितनी भावपूर्ण रचनाएं । हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  6. मंजूषा दोनो ही रचनायें बहुत सुन्दर है खासतौर पर एक जोड़ी पैर तो बस लाजवाब ही है

    ReplyDelete
  7. मंजूषा जी बढिया रचनाएं। एक जोड़ी पांव तो विशेष रूप से बहुत उम्दा।

    ReplyDelete
  8. बहुत मार्मिक

    बधाई

    ReplyDelete
  9. बहुत मार्मिक

    बधाई

    ReplyDelete
  10. एक जोड़ी पैर अक्षरसा सत्य मार्मिक कहानी ।केवल एक उसकी नहीं । न जाने कितनों की ही है जो खामोशी से जीये जा रही है इसी तरह । और रुदाली और भी भावपूर्ण और मार्मिक कविता है -जाने किन जन्मों की पीड़ा जन्मों से ढोया करती है।
    मन के भीतर एक रुदाली रोया करती है । बधाई मंजूषा जी ।

    ReplyDelete
  11. सदियों से और आज भी स्त्री जाति की यही मनोव्यथा है मन को चुने वाली उत्कृष्ट रचना दोनों .

    ReplyDelete
  12. katu saty bahut khoob likha hai aapne badhai
    rachana

    ReplyDelete
  13. मन को छूती भावपूर्ण सुंदर कविताएँ मँजूषाजी । बधाई।

    ReplyDelete
  14. दोनों कविताएँ औरत जाति के जीवन की सच्चाई उजागर करती बहुत ही भावपूर्ण हैं,मनीषा जी बधाई |

    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  15. स्त्री जीवन के अँधियारे पहलू को उजागर करती रचनाएँ ..बधाई मंजूषा 'मन' जी !!

    ReplyDelete
  16. भावपूर्ण सुंदर कविताएँ मँजूषाजी ।हार्दिक बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  17. एक जोड़ी पैर...sach men bahut marmik rachna hai meri hardik badhai....
    आँसू ही इसकी पूँजी हैं
    उनको ही खोया करती है।
    मन के भीतर एक रुदाली
    हर पल ही रोया करती है। rudali bhi bahut achhi rachna hai...bahut bahut badhai...

    ReplyDelete
  18. मञ्जूषा जी...इतनी मार्मिक रचनाएँ...| `एक जोड़ी पैर' पढ़ते हुए तो मानो आँख भर आई...|
    इतनी उत्कृष्ट रचनाओं के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें...|

    ReplyDelete