Thursday, April 14, 2016

629

1-रिश्तों के जाल
- सुदर्शन रत्नाकर

मैं फँसी हूँ
रिश्तों के जाल में
जिसके धागों को
मैंने स्वयं बाँधा है
अपने रक्त के रेशों से
जिन्हें काट भी नहीं सकती
बाँट भी नहीं सकती ।
निकलने की दूर दूर तक कोई थाह नहीं
जितनी कोशिश करती हूँ
उतना और उलझती हूँ ।
यह उलझन मन की है
जो स्वयं ही बँधता है
और स्वयं ही तड़पता है
रिश्तों के जाल में ।
निकलूँ भी तो कैसे
मृगमरीचका की तरह
ये आगे लिए जाते हैं ।
टूटते भी नहीं
छूटते भी नहीं
ये तो  गहरे
और गहरे
होते जाते हैं ।
-0-

2-जीवन जंग(कविता)
 - सुनीता शर्मा ,गाजियाबाद 

दर्द के मंजर देखे ।
आंसू के समुन्द्र देखे ।
जीने की तमन्ना लिए ,
मौत के हमसफ़र देखे ।
मन की सिलवटों में ,
ग़मों के बसर देखे ।
खुशी की उम्मीद लिए ,
वक़्त के खंजर देखे । 
नाउम्मीद को कभी हराते ,
खुशनसीबों के मुकद्दर देखे । 

-0-

11 comments:

  1. Bahut sunder bhabhi asp dono ko badhai
    Rachana

    ReplyDelete
  2. Vaah... Jeevan me rishton ki uljhan ko aur unme fanse hone ki chhatpatahat, man ki oohapoh ko Sudarshan ji ne kis khubsurati se vyakt kiya hai bas kamal hai

    Sunita Ji ne bhi jindagi ke safar ka prabhavshali chitran kiya hai

    ReplyDelete
  3. सुदर्शन जी अनुभूति की गहनता लिए आपकी रचना मन के भीतर तक छू गई। शुभकामनाएँ।

    सुनीता जी भावपूर्ण कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  4. रिश्तों के कटु सत्य पर बहुत सटीक रचना ...हार्दिक बधाई दीदी !
    सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति सुनीता जी ..बहुत बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  5. मन को छूती भावपूर्ण कविताएं। सुदर्शन जी, सुनीता जी हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचनाएँ

    ReplyDelete
  7. रिश्तों का जाल बुनने वाला ही फंसता है ।बहुत सही कहा सुदर्शन जी ।कड़बा भी मोहक भी । कटु सत्य है यह ।बहुतअच्छा लिखा आपने । और सुनीता जी आपने भी जीवन जंग की सही तस्वीर शब्दों में आँकी है ।बधाई दोनों को इतनी सुन्दर भावपूर्ण रचनायों के लिये ।

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण रचनाओं हेतु सुदर्शन जी व सुनीता जी को बधाई |
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  9. सुदर्शन जी आपकी रचना मन को भीतर तक छू गई। रिश्तों के कटु सत्य पर बहुत सटीक है ये रचना ... आपको बहुत -बहुत शुभकामनाएँ !!
    सुनीता जी आपकी रचना बहुत भावपूर्ण है .बहुत बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  10. bahut khub likha bahut bahut badhai...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचनाएँ...सीधे दिल को छूती हुई...| बहुत बहुत बधाई...|

    ReplyDelete