Sunday, February 28, 2016

621



क्षणिकाएँ
डॉ.ज्योत्स्ना शर्मा
1
अक्स !

यूँ छुप तो जाते हैं
दिल के छाले
जतन से ...
छुपाने से
कैसे रोक पाऊँ मैं
अक्स..
रूह के ज़ख़्मों के
लफ़्ज़ों में उभर आने से !!
-0-
2
उम्मीद !

कतरे पंख
और ..लग गए खुद ही
मर्सिया गाने में
ठहरो !
ज़िन्दा हूँ अभी
भरूँगी उड़ान ....
कुछ वक़्त तो लगेगा
नए पंख आने में !!
-0-
3
तेरी याद !

एक बदली है
दिल के सहरा को
इस तरह ...
पल-पल परसती है
जिस तरह ...
भरके माँग तारों से,
रात की दुलहिन
रात भर तरसती है !!!
-0-
4
तितली

कैसे मन को
सुकूँ ..
कैसे तन को
आराम !
नर्म ,नाज़ुक
ख़ूबसूरत देह
और ...
फूलों में,शूलों में
विचरने का काम ...
मेरे खुदा !
तू ही बता
क्या होना अंजाम ?
-0-

18 comments:

  1. अच्छी क्षणिकाएं हैं!

    ReplyDelete
  2. बेहद उम्दा क्षणिकाएँ एक से बढ़कर एक.
    बधाई,
    सादर,
    अमिता कौंडल

    ReplyDelete
  3. bahuuuuuuuuuuuuuuuuut sundar rachnayen likhi aapne "titali" ne to man ko moh liya yun hi likhte rahiye..

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं |
    सुरेन्द्र वर्मा

    ReplyDelete
  6. वाह भी ! आह भी ! सखी ! बहुत ही सुंदर क्षणिकाएँ ! एक से बढ़कर एक !
    बहुत बधाई आपको इस भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए !!!


    ~सादर-सस्नेह
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  7. स्नेहसिक्त ,प्रेरक प्रतिक्रिया हेतु आदरणीय उमेश महादोषी जी , अमिता जी , भावना जी , अनिता मण्डा जी डॉ. सुरेन्द्र वर्मा जी एवं अनिता ललित जी के प्रति हृदय से आभारी हूँ !
    यहाँ स्थान देने के लिए काम्बोज भैया जी के प्रति भी बहुत-बहुत आभार !!

    सदैव स्नेहाशीष की कामना के साथ
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर क्षणिकाएं |... ... !!
    फूलों में,शूलों में
    विचरने का काम ...
    मेरे खुदा !
    तू ही बता
    क्या होना अंजाम ?
    बहुत बहुत सुंदर
    बधाई आपको इस भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए !!!

    ReplyDelete
  9. ज्योत्स्नाजी बहुत ही सुंदर भावपूर्ण क्षणिकाएँ ।बधाई।

    ReplyDelete
  10. bahut sunder kshanikayen .jyotsna ji badhai.

    pushpa mehra

    ReplyDelete
  11. ज़िन्दा हूँ अभी
    भरूँगी उड़ान ....
    कुछ वक़्त तो लगेगा
    नए पंख आने में !! कमाल की अभिव्यक्ति डॉ.ज्योत्स्ना शर्मा जी

    ReplyDelete
  12. बेहद सुन्दर क्षणिकाएँ ज्योत्स्ना जी....हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  13. स्नेह भरे प्रोत्साहन के लिए हृदय से आभार आपका !

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  14. क्या कहने...! बहुत सुन्दर क्षणिकाएँ...| हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका !

      Delete
  15. बेहद सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार आपका !

      Delete