Wednesday, February 24, 2016

619



रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

जो अन्न यहाँ का खाते हैं, 
गुण गद्दारों के गाते हैं 
जो जमे हमारे ही घर में
हमको ही आँख दिखाते हैं ।
          भले आदमी का बेटा  जब
          सीमा पर जान गवाँता है
          घर में आग लगाने वाला
          तब हम पर ही गुर्राता  है ।

 खुले आम जो कहें  देश को-
 ‘तुमको टुकड़ों में बाँटेंगे।’
  कान खोलकर के सुन लेना-  
  ‘तुमको टुकड़ों में काटेंगे।’
          जो विषधर  पले आस्तीन में
          अब उन्हीं के  फन कुचलने हैं
          हर बस्ती हर  चौराहे पर
          भारत के दुश्मन जलने हैं ।
देश की खातिर वीर जवान
सीमा पर जान लुटाते हैं
उनके बलिदानों को भूले
ये श्वान यहाँ गुर्राते हैं 
          हमको  है कसम तिरंगे की
          जो हमको आँख दिखाएँगे
          साँस हमारी जब तक बाकी
          वे यमपुर   भेजे जाएँगे।
-0-
24 फ़रवरी , 2016  ( 12-50)

21 comments:

  1. वीर रस से परिपूर्ण कविता रग रग में जोश भरने वाली काश देश का हर वीर जवान ऐसा जजवा लिये मातृभूमि के लिये जाग्रत रहे ।बहुत सुन्दर कविता रामेश्वर जी । हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  2. सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात तो यही है कि हमको दुश्मनों से उतना ख़तरा नहीं है, जितना अपने ही घर में मौजूद ऐसे आस्तीन के सांपों से है...| बहुत ओजपूर्ण रचना...ऐसी ललकार की आज बहुत ज़रुरत है...|

    ReplyDelete
  3. बहुत सटीक, देश से प्रेम करने वाले सभी जन की भावना व्यक्त करती कविता।

    ReplyDelete
  4. बहुत ओजस्वी कविता भैया जी ...नमन आपकी लेखनी को !

    ReplyDelete
  5. Kamboj ji aapki ye rachna bahut sateek hai ek josh bhar jata hai man men padhte huye aapko anekon shubhkamnayen...yun hi likhte rahiye...

    ReplyDelete
  6. अत्यंत भावपूर्ण, प्रेरक, सार्थक एवं सामयिक कविता !
    इस प्रभावशाली प्रस्तुति के लिए आपको हार्दिक बधाई भैया जी!!
    नमन आपको एवं आपकी लेखनी को !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  7. बहुत ओजपूर्ण और सामयिक!
    काश कि हम सब ऐसा ही सोच पाते..
    शानदार कविता के लिए आपको प्रणाम, काम्बोज सर.

    ReplyDelete
  8. देशभक्ति से भरी, समयोचित अत्यंत ओजस्वी कविता है , भाई जी आपके जोश से भरे मन से निकले शब्द देशवासियों को देश के गद्दारों से सचेत कराते हुए उनके घातक वारों को एकजुट हो निष्फल करने की प्रेरणा दे रहे हैं ,काश ऐसा सम्भव हो सके|यहाँ आस्तीन के साँप अनगिनत हैं, सँपोले भी तो सर उठाने को खड़े हैं !कामना करती हूँ आपकी लेखनी जन -जन में चेतना भर दे,प्रजातांत्रिक -समन्वयवादी विचारधारा वाले देश भारत को आतंकवादी कुचालों से बचाया जा सके |
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  9. समयानुकूल एवं सार्थक ... सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  10. भले आदमी का बेटा जब
    सीमा पर जान गवाँता है
    घर में आग लगाने वाला
    तब हम पर ही गुर्राता है ।
    बहुत सुन्दर भैया जी !
    वीर रस में डूबी एक अत्यंत भावपूर्ण प्रेरक एवं सामयिक कविता ! ऐसी ललकार की आज बहुत ज़रुरत है समाज में। ..........हृदय से . नमन आपको एवं आपकी सोच को !

    ReplyDelete
  11. सामयिक, सटीक व प्रेरक रचना। नमन आपकी लेखनी को।

    ReplyDelete
  12. आप सबका हृदय से आभार !!

    ReplyDelete
  13. समकालीन, सारगर्भित, ओजपूर्ण रचना

    बधायी एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. सटीक, सार गर्भित, समकालीन रचना
    बधाई एवं शुभकामना

    ReplyDelete
  15. वीर रस से परिपूर्ण कविता है । नया जोश भर ती है आपको हार्दिक बधाई ।

    ReplyDelete
  16. हर सच्चे भारतीय की अभिव्यक्ति।
    इस कविता के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद 'हिमाँशु' जी।
    सादर नमन

    ReplyDelete
  17. प्रेरक सामयिक रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  18. ओज रस में गुंथी ,मन के ज्वार रूपी मोतियों ने आम जन मानस में हुंकार भरने का भरपूर दायित्व निभाया है | आपको अपनी इस देशभक्ति रचना के लिए सहृदय साधुवाद आदरणीय सर जी |

    ReplyDelete
  19. आप सबका हृदय से आभार !

    ReplyDelete
  20. ओजपूर्ण, सामवर्ती रचना....हार्दिक बधाई आपको।

    ReplyDelete
  21. राष्ट्रप्रेम से सिक्त ओजपूर्ण कविता

    ReplyDelete