Thursday, February 4, 2016

614



1-मंजूषा 'मन'
1
जीवन भर तो हम रहे, धारण करके मौन।
मेरे मन की बात फिर, बोलो सुनता कौन।
2
मन ये नाजुक है बड़ा, रखना बहुत सँभाल।
खुशियों से मन खिल गया, पूछ लिया जो हाल।
-0-
2-अनिता मंडा
1.
अनसुलझे ही छोड़कर, पीछे कठिन सवाल।
अर्थ भरी मुस्कान ले, बीत गया ये साल।।
2
हे मातु कमलवासिनी,  देना ये वरदान।
नित चरणों में सिर झुके, दूर रहे अभिमान।।
3
झुलसा रही समाज को, ये दहेज की आग।
भस्म हुए सुख-चैन सब, मानव अब तो जाग।।
4
माता का पूजन करे, माँग-माँग वरदान।
कन्या की हत्या करे, कैसा वह इंसान।।
5
खारा खुद को सोचकर, सागर है मगरूर।
उसको मेरी राय है, देखे अश्रु जरूर।।
6
नदिया ये थक-हारकर, चाहे थोड़ा नेह।
सागर के आगोश में, ढूँढ रही निज गेह।।
7
आसमान को छू लिया, रही डोर के संग।
बंधन टूटा डोर का, पाई न उड़ पतंग।।
8
आसमान को छू लिया, रही संग में डोर।
बंधन टूटा डोर का,चली धरा की ओर।।
9
एक बला की सादगी, दूजे चंचल नैन।
दोनों मिलकर लूटते, कर देते बेचैन।।
10
प्रीत निभाओ साँवरा, सुन लो करुण पुकार।
हाथ थामकर अब करो, भव -सागर से पार।।
11
बरसाती अल्हड़ नदी, सिंधु  धीर गम्भीर।
बहती आई दूर से, लेकर मीठा नीर।।
-0-
Anitamandasid@gmail. com
-0-
बसंत के दोहे- कमल कपूर
1
पीली पगड़ी पहन कर,आये हैं ऋतुराज।
बहुत दिनों तक जगत में,करने को यह राज।।
2
महके महुआ माधवी,चमके चटक पलास।
सुरभि की गगरी ले कर,आ पहुचे मधुमास।।
3
हरी हरी दरियाँ बिछी,वर करें आराम।
फूलों ने आवाज दी,आओ तज बिसराम।।
4
लो कोकिल भी छेड़ता,,कुहू कुहू का राग
पुष्प पलाश दहक रहा,ज्यों जंगल की आग।।
5
बसंत पर्व न पूर्ण हो,बिन पूजा त्योहार।
अर्पण करते हैं तुझे,हम आखर के हार।।
-0-
कमल कपूर,२१४४/९सेक्टर,फरीदाबाद१२१००६,हरियाणा
०९८७३९६७४५५

10 comments:

  1. मेरे दोहों को यहां स्थान देने हेतु विनम्र आभार।
    मञ्जूषा जी सुंदर दोहे, कमल जी वसंत को नेत्रों के
    सामने सजीव कर दिया। बधाई आप दोनों को।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर ,मोहक दोहे ! अनिता जी , कमल जी एवं मंजूषा 'मन' जी को हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  3. सभी दोहे मनभावन है .कमल जी ने बसंत का मनोहारी चित्रण किया है सभी को शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर दोहे !
    हार्दिक बधाई मंजूषा जी, अनीता , कमल जी !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  5. बहुत मनभावन दोहे...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर दोहे !अनिता जी , कमल जी एवं मंजूषा 'मन' जी को हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर भावों की अभिव्यक्ति दोहा शैली में मन मोह गई ।मन्जूषा जी ,कमल कपूर जी एवं अनिता जी आप सब के दोहे बहुत सुन्दर हैं । बधाई सब को सुन्दर भावों की सृजना के लिये ।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचनायें..

    ReplyDelete
  9. yaha to dohon ki bahar aayi hui hai aap sabhi ko meri shubhkamnaye...

    ReplyDelete
  10. आप सभी के अनमोल स्नेह का विनम्र आभार।

    ReplyDelete