Saturday, January 16, 2016

608



ज्योत्स्ना प्रदीप
1-     सर्द मौसम

सर्द मौसम पर भी
धूप को तरस गया
वो करती इंतज़ार
अपने सैनिक का
सालों से    लो  !
फि नया बरस गया !
 -0-
2-असर दुआओं का

कभी तो दुआओं का
कुछ इस तरह
असर होगा
इस दिल में जलती
पूजा की धूप से
सुवासित तेरा हर मंज़र होगा !

-0-

16 comments:

  1. बिल्कुल ! दिल से निकली हर दुआ का असर होगा!
    सुंदर कविताएँ ज्योत्स्ना जी !
    बहुत बधाई!!!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  2. bahut sundar kavitaayen!
    Jyotsna ji shubhkaamnayen!!

    ReplyDelete
  3. ज्योत्सना प्रदीप की छोटी कविताएँ बेहद प्रभावी हैं। कम शब्दों में बेहतर अभिव्यक्ति ...बधाई ज्योत्स्ना प्रदीप जी।

    ReplyDelete
  4. ज्योत्सना प्रदीप की छोटी कविताएँ बेहद प्रभावी हैं। कम शब्दों में बेहतर अभिव्यक्ति ...बधाई ज्योत्स्ना प्रदीप जी।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर ,सुवासित ,भावप्रवण कविताएँ ..हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  6. हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना जी , सुन्दर रचनाएँ |

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर ज्योत्स्ना प्रदीप जी
    शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचनाएँ ज्योत्स्ना प्रदीप जी...हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर और प्रभावी।

    ReplyDelete
  10. दुआओं का असर तो ज़रूर होता है...| बहुत सुन्दर कविताएँ...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  11. सुंदर,मोहक,भावपूर्ण कविताएँ। बधाई

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर ,भावपूर्ण कविताएँ ज्योत्स्ना जी बधाई |
    पुष्पा मेहरा

    ReplyDelete
  13. अच्छी कविताएँ, बधाई।

    ReplyDelete
  14. ज्योत्सना जी नन्हीं मुन्नी भाव पूर्ण कवितायें जैसे गागर में सागर । बधाई ।

    ReplyDelete
  15. हमेशा की तरह मेरा उत्साहवर्द्धन किया है...|
    तहे दिल से शुक्रिया...|

    ReplyDelete