Monday, October 5, 2015

दीवारें हैं यहाँ



 अमित अग्रवाल
1-शहर---

सब दीवारें हैं यहाँ
चलती फिरती
या बस परछाइयाँ,
कोई इंसान नहीं.
        ये शहर पत्थरों का है
        या तिलिस्मात
        छलावों का,
        यहाँ भगवान नहीं.
 -0-
2-उषा बधवार
1-पानी

जीवन का मसद पानी
धरातल में पानी, रसातल में पानी
पानी बिना त्राहिमाम्  त्राहिमाम् प्राणी.
 पानी ही कुदरत की नियामत सुहानी
जीवन इस बिन लगता बेमानी.

न उसका रंग न उसका रूप.
मिल जाता जिस में बन जाता उसका स्वरूप.
कितने ही रूपों में मिलता है पानी
कभी नके भाप उड़ जाता गगन में,
 या कभी नके बूँद वापिस आता धरा प
बर्फीले पहाड़ो पर चाँदी की चमक जैसे
जन्नत का तोफा ,रवानी
जीवन इस बिन लगता बेमानी

लाखों पदार्थ बिन इसके फीके
गंगा और जमुना का अमृत -सा पानी
जीवो की मुक्ति का साधन बना यह
हीं  निर्मल कही गँदला
हीं नीले आकाश जैसा सुन्दर
हर प्यासे की मंज़िल है पानी
जीवन इस बिन लगता बेमानी

-0-
2-ज़िन्दगी से मुलाकात

वक़्त की दौड़ में भागी ज़िन्दगी को पहचाना नहीं
कटती गई इसी कशमकश में
हम खुद में ज़िन्दगी को तलाशते रहे .
इसलिए इसको पहचाना नहीं.
        यूँ तो ख्वाहिशों और ख्वाबो का दरिया है.    
तमन्नाओं में डूब हर कोई गोते लगाता हैं
क्या इसकी परिभाषा हैं बस जीने की अभिलाषा हैं
सँवर जाती तो दुल्हन- सी लगती हैं
बिखर जाती तो बनती तमाशा हैं.
बन्ध जाती हैं जब मोह पाश में
फिर होड़ लगे सब कुछ पाने की
दुःख दर्द न हो पीड़ाःन हो उल्लास ख़ुशी से पूर्ण हो
थोड़े  से मन भरता ही नहीं
यह चाहत है सारे ज़माने की.
ज़िन्दगी जीने का जनून न बन जा
जियोसी शान से  कि सदियाँ बीत जाएँ भुलाने में
मिसाल बन जाये ज़माने में
मिलती नहीं बार -बार हमारे चाहने से
खुश रहो खुश रहने दो न तोड़ो दिल किसी का
प्यार से सब मिलके गुन ग़ुनाओ
एक नगमा बन जाये ज़माने में
यूँ तो इक किताब हैं ज़िन्दगी
जिसके पन्नें पलट कर पीछे की और जाते रहे.
वक़्त के पहियों पर पल पल नया रास्ता बनाती ज़िन्दगी
तुम बिन अर्थहीन अस्तित्व है हमारा अये ज़िन्दगी !

-0-

21 comments:

  1. आदरणीय काम्बोज सर,
    मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. उषा जी की रचनाएँ अच्छी लगीं।

    ReplyDelete
  3. सुंदर कविताएँ !
    बहुत बधाई आपको अमित जी एवं उषा जी !

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  4. amit lji evam usha ji ko badhai sundar kavitayen likhne ke liye !

    ReplyDelete
  5. अमित जी एवं उषा जी को बहुत बधाई!!!

    ReplyDelete
  6. अमित जी और उषा जी, शहर , पानी और ज़िन्दगी से मुलाकात कवितायेँ मन भवन लगीं | हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  7. अमित अग्रवाल
    1-शहर की सही हकीकत बयाँ कर दी .
    उषा जी !वकाई पानी सामयिक सुंदर रचना . जल से जीवन है .
    वक़्त के पहियों पर पल पल नया रास्ता बनाती ज़िन्दगी
    तुम बिन अर्थहीन अस्तित्व है हमारा अये ज़िन्दगी !
    सुंदर पंक्तियाँ
    बधाई दोनों को

    ReplyDelete
  8. अमित जी एवं उषा जी भावपूर्ण सृजन हेतु बधाई!!

    ReplyDelete
  9. अमित जी एवं उषा जी भावपूर्ण सृजन हेतु बधाई!!

    ReplyDelete
  10. सुन्दर कविताएँ......अमित जी, ऊषा जी बधाई।

    ReplyDelete
  11. bahut sunder kavitayen amit ji va usha ji ko badhai .
    pushpa mehra

    ReplyDelete
  12. सब दीवारें हैं यहाँ
    चलती फिरती
    या बस परछाइयाँ,
    कोई इंसान नहीं.

    badi gahan soch hai is rachna men amit ji sahi kaha chalava hi hai bas har taraf kahi bhi jara sach mil jaye to jeene ka maksad mil jata hai..aapko bahut sari shubhkamnayen or aneko badhai..

    usha ji aapki rachnayen bhi bahut gahan hain aapko bhi hardik badhai...

    ReplyDelete
  13. Bhawna ji I'm grateful to you for your appreciation and encouragement!

    ReplyDelete
  14. मेरी कविता पसन्द करने के लिए सब मित्रों को धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. "शहर" ..शहरी ज़िंदगी की हकीकत कहती बहुत सुन्दर रचना अमित जी ...बहुत-बहुत बधाई !

    "पानी" और "ज़िंदगी" को खूबसूरती से परिभाषित किया उषा जी ..हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  16. अमित जी आपकी रचना मर्मस्पर्शी
    बधाई एवं शुभकामना

    ReplyDelete
  17. उषा जी आपकी रचनायें सुंदर
    बधाई एवं शुभकामना

    ReplyDelete
  18. उषा जी सुंदर रचनायें आपकी
    बधाई एवं शुभकामना

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर और सार्थक रचनाएँ...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  20. मेरी कविताओ की सराहना करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया
    अच्छा लगा आप सब को पसंद आई.
    मेरे शुभ चिंतक
    धन्यवाद

    उषा बधवार

    ReplyDelete
  21. अमित जी एवं उषा जी को बहुत बहुत बधाई!!

    अमित जी यूँ तो पूरी रचना के बहुत सुन्दर भाव हैं लेकिन यह पंक्तियाँ बहुत ही सुन्दर लगीं

    ब दीवारें हैं यहाँ
    चलती फिरती
    या बस परछाइयाँ,
    कोई इंसान नहीं.
    ये शहर पत्थरों का है


    बहुत सुन्दर बात कही उषा जी अापने .... पानी के बिना जीवन बेमानी है
    --------
    जियो ऐसी शान से कि सदियाँ बीत जाएँ भुलाने में
    मिसाल बन जाये ज़माने में
    -0-
    मंजु मिश्रा,

    ReplyDelete