Friday, October 2, 2015

मिलते नहीं किनारे



डॉ०पूर्णिमा राय ,अमृतसर

गीतिका

देश-प्रेम का जज्बा जिनमें उनके वारे न्यारे हैं।।
धरती पर ज्यों सिजदे करते ,आसमान के तारे हैं।

आलस जिनकी रग-रग बहता ,वह जन सुख ना पायेगा
श्रम से कोसों दूर जो रहते ,वो किस्मत से हारे हैं।।

मोती माणिक की इच्छा में  सपनों में भी खोए हैं
उलझी नैया जन्म-मरण में मिलते नहीं किनारे हैं।।

देश-एकता खातिर आओ मिलकर सब सहयोग करें
त्याग दें नीति लूटपाट की मिलते तभी सहारे हैं।।

आजादी के मतवालों ने अपना जीवन वार दिया
वीर पराक्रम की गाथाएँ युवकों तुम्हें पुकारे हैं।।

पूर्णिमा से व्योम ये चमके ओस की बूँदें सज रहीं
गूँज उठी सर्वत्र दिशाएँ इंकलाब के नारे हैं।।
-0-


15 comments:

  1. बहुत उत्तम गीतिका। बधाई पूर्णिमा जी।

    ReplyDelete
  2. आजादी के मतवालों ने अपना जीवन वार दिया
    वीर पराक्रम की गाथाएँ युवकों तुम्हें पुकारे हैं।।

    bahut gahara sach! hardik badhai..

    ReplyDelete
  3. desh ke liye harpal jeevan arpan karane ka bhav jagati geetika manav - chetna ko jhakajhor rahi hai. purnima ji apako utkrishhT rachna
    hetu badhai.
    pushpa mehra

    ReplyDelete
  4. देश प्रेम की भावनाओं से ओत प्रोत बहुत सुंदर गीतिका !
    हार्दिक बधाई पूर्णिमा जी !!

    ReplyDelete
  5. देशप्रेम की भावनाओं में पिरोयी सुंदर गीतिका। बधाई।

    ReplyDelete
  6. देश के प्रति प्रेम भावों से सजी सुन्दर गीतिका....बधाई पूर्णिमा जी।

    ReplyDelete
  7. देश प्रेम की भावना जागृत करती पूर्णिमा जी की यह गीतिका अति ओजस्वी लगी |
    "पूर्णिमा" से व्योम ये चमके ओस की बूँदें सज रहीं
    गूँज उठीं सर्वत्र दिशाएँ इन्कलाब के नारे हैं |
    इन पंक्तियों ने मन पर छाप छोडी है | हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  8. बहुत ओजस्वी गीत

    ReplyDelete
  9. बहुत ओजस्वी गीत

    ReplyDelete

  10. ‘पूर्णिमा’ से व्योम ये चमके ओस की बूँदें सज रहीं
    गूँज उठी सर्वत्र दिशाएँ इंकलाब के नारे हैं।।desh prem mein pasgi ...sundar geetika ! purnima ji in panktiyon ne man ko bheetar tak coo liy ....bahut saari shubhkaamnayen !

    ReplyDelete
  11. उम्दा रचना

    ReplyDelete
  12. सभी विद्वजनों की प्रतिक्रिया उत्साह बढाने वाली है
    आभार सभी का!!!

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी गीतिका...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete