Monday, September 28, 2015

मन की मुँडेर


रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

मन की मुँडेर पर  बैठ गया

जो पंछी चुपके से आकर

बैठे रहने दो बस यूँ ही

पछताओगे उसे उड़ाकर।

     यह वह पंछी नहीं बाग़ का

     डाल डाल जो गीत  सुनाए,

     यह वह पंछी नहीं द्वार का

      दुत्कारो वापस आ जाए।

दर्पण में जब रूप निहारो

छाया आँखों में उतरेगी

     बाँधो काजल -रेख सजाकर ।

बीते पल हैं रेत नदी का

बन्द मुट्ठी से बिखर गए गए हैं

किए आचमन खारे आँसू

सुधियों के रंग निखर गए हैं ।

      सात जनम की पूँजी हमको

      बिना तुम्हारे धूल पाँव की

      बात सही यह आखर आखर।

जो भी पाती मिली तुम्हारी

छाती से हम रहे लगाए,

शायद जो हो मन की धड़कन

इस मन में भी आज समाए ।

       छुए पोर से हमने सारे

       गीले वे सन्देश तुम्हारे

        जो हमको भी रहे रुलाकर।

-0-
  रचनाकाल:01-07 -94
अमृत सन्देश (रायपुर)19 95 ;
 प्रसारण:   आकाशवाणी  अम्बिकापुर 15-12-  97

21 comments:

  1. aapka yah geet bahut marmsaprshi hai ye panktiyan man men ghar kar gayi -
    जो भी पाती मिली तुम्हारी
    छाती से हम रहे लगाए,
    शायद जो हो मन की धड़कन
    इस मन में भी आज समाए ।
    छुए पोर से हमने सारे
    गीले वे सन्देश तुम्हारे
    जो हमको भी रहे रुलाकर।
    aapko anekonek shubhkamnaye...aapki lekhni yuv chalti rahe..

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत सुन्दर गीत रामेश्वर जी

    बहुत बहुत बधाई

    मंजूषा "मन"

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर गीत

    ReplyDelete
  4. Behad sundar geet, Kamboj sir!
    Prerna ke liye dhanyawaad...

    ReplyDelete
  5. बीते पल है रेत नदी का ... सुधियों के रंग निखर गये हैं
    लाजवाब अभिव्यक्ति
    मान्यवर!!!

    ReplyDelete
  6. "आखर आखर," सुन्दर गीत!!!
    - डाॅ कुँवर दिनेश, शिमला

    ReplyDelete

  7. बीते पल हैं रेत नदी का
    बन्द मुट्ठी से बिखर गए गए हैं
    किए आचमन खारे आँसू
    सुधियों के रंग निखर गए हैं

    बहुत ही भावपूर्ण गीत है । शब्द शब्द कहीं गहरे तक मन को छूता है ।

    ReplyDelete
  8. बीते पल हैं रेत नदी का

    बन्द मुट्ठी से बिखर गए गए हैं

    किए आचमन खारे आँसू

    सुधियों के रंग निखर गए हैं ।

    behad bhaavpurn geet ! aapki lekhni ko sadar naman rameshear ji !

    ReplyDelete
  9. man ko chhuta hua bahut sunder geet hai .
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  10. बहुत सरस भाव पूर्ण गीत ....

    बीते पल हैं रेत नदी का

    बन्द मुट्ठी से बिखर गए गए हैं

    किए आचमन खारे आँसू

    सुधियों के रंग निखर गए हैं ।.......बहुत मोहक !

    हार्दिक बधाई ..सादर नमन !!

    ReplyDelete
  11. 11 वर्ष बाद भी गीत की सुवास और
    ताजगी ज्यों की त्यों बरकरार है ।'आखर
    आखर, छुए पोर से" बहुत ही सुंदर !
    सरस भावभीने मधुर गीत के लिए नमन ।

    ReplyDelete
  12. छुए पोर से हमने सारे
    गीले वे सन्देश तुम्हारे
    जो हमको भी रहे रुलाकर।

    बहुत सुंदर, भावपूर्ण गीत ! दिल को छू गया !
    हार्दिक बधाई हिमांशु भैया जी !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete

  13. रामेश्वर जी मन की मुँडेर गीत भावोंकी सच्ची अभिव्यक्ति हैः भाव समय के पाबंध नही होते। वे शाश्वत होते हैं।
    वर्षों पूर्व रचा गया गीत आज भीं तरोताजा है हृदयस्पर्शी भावनाओं के साथ। बधाई। बहुत अच्छी लगी एक एक पंक्ति। ज्यादा सुहाई …
    दर्पण में जब रूप निहारो
    छाया आँखों में उतरेगी
    बांधो काजल -रेख सजा कर।


    ReplyDelete
  14. आपके इस असीम स्नेहभाव और उत्साहवर्धन के लिए बहुत आभारी हूँ।
    -रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

    ReplyDelete
  15. छुए पोर से हमने सारे
    गीले वे सन्देश तुम्हारे
    जो हमको भी रहे रुलाकर।

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण गीत....हार्दिक बधाई भाईसाहब!

    ReplyDelete
  16. सुन्दर रचना
    बधाई एवं शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. बहुत मोहक मधुर गीत।शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  18. कालजयी उत्कृष्ट गीत . भाव विभोर हो गई .
    बधाई भाई .

    ReplyDelete
  19. भाई काम्बोज जी , बहुत सुन्दर रचना है विशेषकर यह पंक्ति... किये आचमन खारे आंसूं | सुधियों के रंग निखर गए हैं | बहुत मन भाई | हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  20. रचना पसन्द करने के लिए आप सबका हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  21. जो भी पाती मिली तुम्हारी

    छाती से हम रहे लगाए,

    शायद जो हो मन की धड़कन

    इस मन में भी आज समाए ।

    छुए पोर से हमने सारे

    गीले वे सन्देश तुम्हारे

    जो हमको भी रहे रुलाकर।
    शब्दों की इस सरिता में बहते हुए बरबस मन भीग गया | इतनी मर्मस्पर्शी रचना के लिए आपकी कलम को नमन सहित बहुत बहुत बधाई...|

    ReplyDelete