Sunday, August 2, 2015

निश्छल प्रेम-सौगात



 ( मैत्री दिवस पर विशेष)
-अनिता ललित 

गूगल से साभार
दोस्ती के विस्तृत नभ में
आओ चमकें हम 
मिल कर साथ !
दूर करें अँधेरा 
एक-दूजे के जीवन का !
आओ चलें हम साथ !
बाँटे खुशियाँ 
कर लें दुगुनी
ग़म बाँट कर
कर लें आधा!
मुश्किलों का करें सामना
आओ! थाम कर हाथ!

तेरी आँख के आँसू
अपनी आँखों में 
भर लूँ मैं,
अपनी मुस्कानें 
भी दूँ वार 
तेरी एक हँसी के बदले! 
काँटों भरे इस जीवन में-
आओ! मिल-बाँटें हम 
निश्छल प्रेम-सौगात।

ग़म के बादल 
गहरे-काले
मुश्किल सारी राहें हों जब -
भरके मुट्ठी में
इन्द्रधनुष मुस्कानों के उजाले, 
बिखरा दें ! 
और दें हर तम को मात।

धूप कड़ी
हालात में झुलसे
जब ये मन
हाथ छुड़ालें 
अपने भी जब ! 
बन जाएँ  मरहम-
नेह-बूँदें छलकाएँ,
छाले सहलाएँ,
आओ! जीवन भर बरसाएँ 
प्यार अपार !
हो ऐसी अपनी दोस्ती- 
कि बने मिसाल !
थमे न कभी 
ये प्यार और विश्वास की 
शीतल बरसात !!!
-0-

17 comments:

  1. अनिता जी बहुत खूबसूरत कविता।मैत्री दिवस की शुभकामनाएँ।
    तेरी आँख के आँसू
    अपनी आँखों में
    भर लूँ मैं,
    अपनी मुस्कानें
    भी दूँ वार
    तेरी एक हँसी के बदले!

    ReplyDelete
  2. सुंदर बाल कविता

    ReplyDelete
  3. maetri ki vyaapktii darshaati hui marm sprshi kvita
    badhai .
    मित्रता दिवस ki mahak se sabhi mahake .

    ReplyDelete
  4. बहुत सारगर्भित रचना !! अनेक शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete
  5. बहुत प्यारी भावपूर्ण कविता! मैत्री दिवस की शुभकामनाएं अनीता जी!

    ReplyDelete
  6. सुंदर ,मधुर भावों भरी बहुत प्यारी कविता अनिता जी ...और आपकी मित्रता भी !
    मित्रता दिवस पर बहुत - बहुत शुभ कामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. सुन्दर संदेशपरक कविता,
    मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण सुन्दर कविता
    अनिता जी सही कहा कि ग़म बाँटने से
    आधे और खुशियाँ दुगुनी हो जाती हैं।
    मैत्री दिवस की शुभ कामनाएँ ।

    ReplyDelete
  9. अनिता जी बहुत खूबसूरत कविता।मैत्री दिवस की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  10. आप सभी का ह्रदय से आभार !
    हम सबके बीच मित्रता का गुलदस्ता यूँ ही महकता रहे इन्हीं शुभकामनाओं के साथ ! :-)

    ~सादर/सप्रेम
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  11. maitri divas par bahut sunder kavita likhi hai. maitri divas ham sabake jeevan mein mehandi ke rang ki tarah rach jaye isi kamana ke sath
    anita ji apako badhai.
    pushpa mehra

    ReplyDelete
  12. दोस्ती के भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति ।मित्रता दिवस की मेरी ओर से भी आप सब रचना कारों को वधाई ।यह कारवाँ मैत्री का यूं ही चलता रहे बाँट कर सुख दुख अपना ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और प्यारी कविता अनीता जी ....मैत्री दिवस की शुभकामना

    ReplyDelete
  14. अनीता जी, बहुत भावपूर्ण रचना, बस सच्ची मैत्री जैसी मीठी |

    शशि पाधा

    ReplyDelete
  15. कर लें आधा मुश्किलों का करें सामना ....बेहद भावपूर्ण पंक्तियाँ हैं |अनिता जी हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  16. आप सभी का हृदय से आभार!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  17. अनीता जी, इस सुन्दर कविता के लिए बहुत बधाई...|

    ReplyDelete