Friday, August 14, 2015

जय जनतंत्र हमारा !



डॉ ज्योत्स्ना शर्मा
जी पी खन्ना के सौजन्य से
 कण-कण मुग्ध करे मन-मानस
बहे प्रेम की धारा !
जय जनतंत्र हमारा !  जय जनतंत्र हमारा !

उन्नत मस्तक शिखर हिमालय
मात वैष्णों ,अमर शिवालय
सुंदर झील, नदी-नद न्यारे
श्री ,कश्मीर सभी को प्यारे
हिम कण बरसें, कहीं मोहता
फूलों भरा शिकारा
जय जनतंत्र हमारा ! जय जनतंत्र हमारा !

फूलों की घाटी मन भावन
सागर तीर्थ सुपूजित पावन
राम ,कृष्ण से धन्य धरा है
बुद्ध ,विवेक ,महावीरा है
पाठ अहिंसा का देकर फिर
अप्पो दीप पुकारा
जय जनतंत्र हमारा ! जय जनतंत्र हमारा !

गाँधी और सुभाष वीर ने
सुख ,बिस्मिल,आज़ाद धीर ने
भगत सिंह ,झाँसी की रानी
कितने ही अनगिन बलिदानी
सुत अश्फ़ाक ,अब्दुल हमीद ने
अपना जीवन वारा !
जय जनतंत्र हमारा ! जय जनतंत्र हमारा !

वेदों का विज्ञान न भूलो
भाभा और कलाम न भूलो
दुर्गा ,इन्दिरा और सुनीता
हुई कल्पना परम पुनीता
सकल जगत में धूम ,तिरंगे-
का सम्मान सँवारा !
जय जनतंत्र हमारा ! जय जनतंत्र हमारा !
~~~~~~ॐ~~~~~~
                               

15 comments:

  1. गीत बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  2. देशप्रेम की भावपूर्ण अभिव्यक्ति । बहुत सुंदर कविता ज्योत्स्नाजी । हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. देशप्रेम की भावपूर्ण अभिव्यक्ति । बहुत सुंदर कविता ज्योत्स्नाजी ।
      हार्दिक शुभकामनाएं।

      Delete
  3. हृदय से आभार सुधा दीदी , सुदर्शन दीदी एवं अनिता मंडा जी !
    भैया जी आपका भी बहुत बहुत धन्यवाद यहाँ स्थान देने के लिए ...

    जय हिन्द ! शुभ स्वाधीनता दिवस !

    ReplyDelete
  4. ज्योत्सना जी, बहुत दुन्दर शब्दों में देश प्रेम का भाव पूर्ण गीत लिखा है |हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  5. desh ke gaurav ko badhaane vali mahan atmaon ka guNgan karati tatha amar shaheedon ki amar gaathaaon ka bakhaan karati ek bhavpradhaan kavita ....bahut sunder.jyotsna ji badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (16-08-2015) को "मेरा प्यार है मेरा वतन" (चर्चा अंक-2069) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    स्वतन्त्रतादिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण अभिव्यक्ति के बधाई ,शुभकामनाएं ----

    ReplyDelete
  9. aadaraneeya Savita ji , Pushpa ji , Onkar ji , Shastri ji ,evam Ramesh Gautam ji aap sabhi kaa hruday se aabhaar !

    saadar
    jyotsna sharma

    ReplyDelete
  10. bahut khub ! hardik badhai...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर गीत ! देशप्रेम की भावपूर्ण अभिव्यक्ति !
    बहुत बधाई ...सखी ज्योत्स्ना शर्मा जी !

    ~सादर/सस्नेह
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  12. desh prem se ot- prot utkrisht navgiit

    badhaai

    ReplyDelete
  13. देशप्रेम से ओतप्रोत भावपूर्ण सुन्दर गीत रचने के लिए आपको हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  14. aap sabhi kii prerak upasthiti ke liye aabhaari hoon dr. Bhawna ji , Anita Lalit ji , Manju Gupta ji evam Priyanka ji hruday se dhanyawaad !

    saadar
    jyotsna sharma

    ReplyDelete