Wednesday, August 12, 2015

स्त्रियाँ



1-स्त्रिया
 डॉ नूतन गैरोला


डॉ०नूतन गैरोला

गुजर जाती हैं अजनबी जंगलों से
अँधेरों में भी
जानवरों के भरोसे
जिनका सत्य वह जानती हैं

सड़क के किनारे तख्ती पर लिखा होता है
सावधान, आगे हाथियों से खतरा है
और वह पार कर चुकी होती हैं जंगल सारा

फिर भी गुजर नहीं पातीं
स्याह रात में सड़कों और बस्तियों के बीच से
काँपती है रूह उनकी
कि
तख्तियाँ
उनके विश्वास की सड़क पर
लाल रंग से जड़ी जा चुकी हैं
यह कि
सावधान! यहाँ आदमियों से खतरा है
-0-

डॉ नूतन गैरोला:  चिकित्सक (स्त्री रोग विशेषज्ञ), समाजसेवी , लेखिका और सहृदय कवयित्री हैं। हिन्दी हाइकु और त्रिवेणी से भी जुड़ी हैं। गायन और नृत्य से भी लगाव। पर्वतारोहण जैसी गतिविधियों में भी भाग लेती रही हैं। उदारमना नूतन  पति के साथ मिल कर पहाड़ों में दूरस्थ क्षेत्रों में नि:शुल्क स्वास्थ -शिविर लगाती रही  हैं।  अब सामाजिक संस्था धाद के साथ जुड़कर पहाड़ ( उत्तराखंड ) से जुड़े कई मुद्दों पर परोक्ष -अपरोक्ष रूप से ( अपने नाम के प्रचार से कोसों दूर)काम करती हैं। पत्र पत्रिकाओं में कुछ रचनाओं का प्रकाशन.
     -0-
2-निरुत्तर
सविता अग्रवाल 'सवि'

जब जब तुमने प्रश्न किये
मेरे मुख से  स्वतः ही
उन के उत्तर निकले
परन्तु हर प्रश्न से
एक नए प्रश्न का जन्म हुआ
तुम प्रश्न करते गए
मैं उत्तर देती गई
यही क्रम बहुत देर तक चला
प्रश्नों की एक बाढ़
मेरे मस्तिष्क में आ गई
और मैं स्वयं उसमें
डूबने- सी लगी
अपने को उस भँवर से
निकालने की खातिर
प्रश्न को प्रश्न ही रहने दो
कोई उत्तर न दो ,सोच कर
मैं निरुत्तर हो गई |
 -0-

27 comments:

  1. सचमुच! आदमी से बड़ा ख़तरा कोई नहीं...
    यथार्थ के नज़दीक कविता नूतन जी।
    हार्दिक बधाई आपको!

    कई बार चुप रहने में ही भलाई होती है...प्रश्न करने वाले की भी, उत्तर देने वाले की भी...
    सुंदर कविता सविता जी।

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  2. दोनों ही सुन्दर यथार्थपरक कविताएँ
    इसी संदर्भ में एक हाइकु

    अकेली चले
    शहर है जंगल
    लड़की डरे ।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी लगी दोनों कविताएँ

    ReplyDelete
  4. गुजर जाती हैं अजनबी जंगलों से
    अँधेरों में भी
    जानवरों के भरोसे
    जिनका सत्य वह जानती हैं. सावधान! यहाँ आदमियों से खतरा है saamyik sundr rachana डॉ नूतन गैरोला badhai

    ReplyDelete
  5. प्रश्न को प्रश्न ही रहने दो
    कोई उत्तर न दो ,सोच कर
    मैं निरुत्तर हो गई |
    isi prasng par meri bhi pnktiyan
    prashn ne
    prashn kiya
    prashn chup rha
    naadaan rha
    asamarth rha
    pratidan na kar saka
    prashn ban kar .
    प्रश्न को प्रश्न ही रहने दो
    कोई उत्तर न दो ,सोच कर
    मैं निरुत्तर हो गई | marmsparshi kavita
    सविता अग्रवाल 'सवि' badhai

    ReplyDelete
  6. सुंदर , सार्थक कविताएँ ||विडम्बना यह कि पुरुष को जन्म देने वाली स्त्री आज उसी से डरती भी है और उसके सामने मौन भी | बधाई दोनों रचना कारों को |

    शशि पाधा

    ReplyDelete
  7. sach sabhya samaj mein adami se bada khatara dusara nahin hai.jahan prashnon ki jhadi uttaron se khatam na ho vahan chup ho jana hi
    uchit hai.apaki kavita ek chup sau ko harane mein vishvas rakhati hai. dono rachanakaron ko badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  8. दोनों ही सुन्दर यथार्थपरक| दोनों रचना कारों को बधाई!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. aap sabhee kaa hruday se dhanyvaad.isee tarah protsahit karte rahiye .aabhaaree hoon .

      Delete
    2. Dr.Nootan ji kam shabdon men bahut kuchh kah dene vaalee sundar kavita.badhaai ho .

      Delete
  9. आज के कटु सत्य को कहती बहुत प्रभावी रचनाएँ !
    दोनों ही कवितायेँ एक ऐसी पीड़ा और संघर्ष को अभिव्यक्त करती हैं ...जिसका समाधान अभी दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता |
    डॉ. नूतन गैरोला और सविता जी को सशक्त प्रस्तुति पर बहुत बधाई !

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  10. नूतन गैरोला जी वधाई।
    सावधान !यहाँ आदमियों से खतरा है। अच्छी चुभमी बात कही।
    सविता जी अपने भी बढ़िया रचा।
    “नही सहज होता हर प्रश्न का उत्तर तो वहां निरुत्तर ही उत्तर है।”


    ReplyDelete
  11. डॉ नूतन गैरोला की कविता चीख-पुकार की भाषा से बहुत दूर नारी की विवश स्थिति का कच्चा चिट्ठा है, भीतर तक दहला देने वाला । कम से कम शब्दों में बहुत कुछ तो कह दिया और कुछ अनकहा छोड़ दिया । यह अनकहा इस कविता की प्राण शक्ति है। पूरी तरह कसी हुई एवं मँजी हुई हार्दिक बधाई अनुजा।
    रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद भाईसाहब.... आपके आशीर्वाद से मैं अपनी दूसरी पुस्तक शीघ्र लाने वाली हूँ ...

      Delete
  12. सड़क के किनारे तख्ती पर लिखा होता है
    सावधान, आगे हाथियों से खतरा है
    और वह पार कर चुकी होती हैं जंगल सारा

    फिर भी गुजर नहीं पातीं
    स्याह रात में सड़कों और बस्तियों के बीच से
    काँपती है रूह उनकी डॉक्टर नूतन जी सारा चित्र आँखों के सामने सजीव हो उठा है | वो चेतावनी देती तख्तियां .....वो घने जंगलों के बीच गुजरती सड़कें ... वो घास और लकड़ियों के बड़े बड़े गट्ठर सर पे उठाकर चलती ...लौह नारियां

    ReplyDelete
  13. आज के कटु सत्य की बहुत सुन्दर प्रस्तुति नूतन जी हार्दिक बधाई!
    सविता जी बहुत सुन्दर कविता...बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  14. katu satya bahut achha likha...bahut bahut badhai..

    और मैं स्वयं उसमें
    डूबने- सी लगी
    अपने को उस भँवर से
    निकालने की खातिर
    प्रश्न को प्रश्न ही रहने दो
    कोई उत्तर न दो ,सोच कर
    मैं निरुत्तर हो गई |

    man bha gayi ye panktiyan bahut bahut badhai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. नारीत्व स्वयं में सृष्टि की परिभाषा है ,अब स्त्री को इसकी व्याख्या करनी है ,पुरुषवर्चस्ववादी प्रवृतियों के लिए स्त्री को प्रश्न की भूमिका में आना होगा ,उत्तर देने की स्थितियों से उभरना होगा। बहुत मार्मिक कविताएँ ,समकालीन यथार्थ की बानगी ,नूतनजी और सविताजी को अंनत शुभकामनाएं

      Delete
  15. स्त्रियाँ आदमी के कितने जंगल रोज़ पार करती है स्याह रात क्या उजाले दिन में भी डर-डर कर, सावधानी की तख्तियों को समझकर, खतरों को भाँपकर, आहत होकर फिर भी... बहुत सशक्त रचना. नूतन जी को बधाई.

    प्रश्नों में उलझी स्त्री अंततः हार ही जाती है, कितना उत्तर दे, किस किस को दे. चुप हो जाना ही एक मात्र विकल्प है खुद को बचाने के लिए. बहुत अच्छी रचना, बधाई सविता जी.

    ReplyDelete
  16. Dono rachnaaey.n sach ka bayaa.n karti hn..badhaii

    ReplyDelete
  17. Dono rachnaaey.n sach ko bayaa.n karti hain, badhaii

    ReplyDelete
  18. सुंदर अभिव्यक्ति यथार्थपूर्ण कविताएँ दोनों रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  19. सावधान! यहाँ आदमियों से खतरा है ….बिलकुल सही नूतन जी … आदमी ही तो आदमखोर हो गए हैं आजकल। बहुत तकलीफ होती है समाज का यह विकृत और वीभत्स रूप देख कर।

    सही कहा सविता जी …. अति तो हर चीज की बुरी होती है फिर चाहे वो प्रश्न ही क्यों न हों :-)

    ReplyDelete
  20. हर्ष हुआ अपनी कविता को सहज साहित्य में पा कर .. और साथियों ने इसे पढ़ा और अपने विचार टिप्पणियों में दिए ... सविता अग्रवाल जी को भी बधाई उनकी कविता यहाँ पढ़ने को मिली .. सहज साहित्य को धन्यवाद

    ReplyDelete
  21. भाई कम्बोज जी को मेरी कविता को यहाँ स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद | सदा आभारी हूँ |

    ReplyDelete
  22. सावधान! यहाँ आदमियों से खतरा है...
    उफ़ ! एकदम दहल गया दिल...| निःशब्द करती है आपकी यह कविता...| हम आज इंसानों से भरे एक जंगल में रह रहे...| बहुत मर्मस्पर्शी कविता |

    सविता जी, आपकी कविता भी बहुत पसंद आई | हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete