Thursday, July 23, 2015

होता जो समय





1- कृष्णा वर्मा
  होता जो समय रेज़गारी सा
डालती रहती गुल्लक में
बचे छुट्टे पैसों की तरह
कर लेती ख़र्च
अपनी खुशियों के लिए
मिटा लेती तृषा
अपनों को मिलने की
भिगो आती पलकें
दुलार की फुहारों से
सँवार आती माँ-बाप के
दस अधूरे काम
बँटा देती अम्मा का हाथ
घर की साफ-सफाई में
सँजो देती अनचाहा सामान
बदल आती
माँ की उदासी खुशियों में
हल्का कर आती
उसकी छाती को सालता दुख
जुड़ा देती पिता की ऐनक
की टूटी कमानी
गँठवा लाती उनकी
जूतियों के तले
कुछ और समय चलने को
सिमटवा आती उनके
अधूरे हिसाब-किताब
बटोर लाती उनके
हौसले और अनुभवों की
अनमोल पूँजी
ले जाती छोटी बहन को
बाज़ार घूमाने
दिला लाती उसकी मन पसंद
चूड़ियाँ रिबन लहँगा-चोली
खिला लाती कुल्फी चाट-पकौड़ी
झुला लाती घुमनिया झूले पे
लडिया कर अम्मा से
फिर दोहरा आती अपना बचपन
भर लाती माँ के चौके की
सुगंध नथूनों में
जी आती सुख के कुछ क्षण
माँ की स्नेह- छाया में
पुतवा आती खुशियाँ
मन की दीवारों पर
खिल उठता
मेरी वीरानियों में भी
मोहक वसंत
बचा पाती जो थोड़ा सा समय
सरपट भागती जिन्दगी से।
      -0-

2-गुंजन अग्रवाल
झाँका है दूर नभ से  प्रेमी का रूप बन के
निकला है आज चन्दा फिर देखो  ये बन ठनके 
भूलो गमों के नगमे जी भरके मुस्कुराओ
कर लो इबादतें तुम अरमाँ भी  पूरे मन के

15 comments:

  1. कृष्ण जी और गुंजन जी आप दोनों को सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  2. मायके की स्मृतियों को जीती ,भाव भरे मन की बहुत सुन्दर प्रस्तुति कृष्णा दीदी .....बधाई !
    किसी भी स्त्री का सुख दोनों घरों की खुशियों से जुड़ा है ..निःसंदेह !

    बना -ठना चंदा बहुत सुन्दर है .गुंजन जी ..बहुत बधाई !!

    ReplyDelete
  3. dono rachnayen bahut sunder hain krishna ji va gunjan ji badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  4. bahut sundar .....yadon ke jharokhon se ...

    ReplyDelete
  5. भाव विभोर कर देने वाली कविता के लिए हार्दिक बधाई।
    सुंदर मुक्तक।

    ReplyDelete
  6. aankhe bhar aayee Krishna jee ki is adbhut rachana se..........jitani prashansha ki jay kam hai....


    Muktak bhi sundar hain


    dono kavyitriyon ko badhaiyan evam shubhkamnayen........

    Kavita BHatt

    ReplyDelete
  7. मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए बहुत आभार भाईसाहब!
    प्रोत्साहन के लिए आप सभी स्नेही जनों का धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. कृष्णा दीदी ! आह भी और वाह भी! हर लड़की/बेटी की गुल्ल्क का ख़ज़ाना खोल दिया आपने ! मन भर आया ! यही तो हमारी अनमोल पूँजी है !
    इस ख़ूबसूरत सृजन के लिए बहुत-बहुत बधाई आपको !

    गुंजन जी सुंदर मुक्तक के लिए बहुत बधाई!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  9. होता जो समय रेज़गारी सा
    डालती रहती गुल्लक में
    बचे छुट्टे पैसों की तरह
    कर लेती ख़र्च

    समय रेजग़ारी सा … एकदम नया-नया सा लगा, बहुत सुन्दर … बचपन की ढेरों खूबसूरत यादें समेटे हुये बहुत प्यारी सी रचना

    ReplyDelete

  10. कृष्णा वर्मा जी ,’होता जो समय’ कविता आप की बड़ी भावपूर्ण है माँ के घर की यादों से जुड़ी हुईं । वो यादें जिन में पुनः पुनः जीने को मन चाहे मगर समय नही होता है।सिर्फ कल्पना में ही जिया जा सकता है। उम्र हो जाने पर कई काम जो माता पिता खुद किया करते थे। बुढ़ापे में उन से नही हो पाता। वे भी बच्चों को उसी तरह चाहते हैं कोई बच्चा आये यह काम करवा जाये। बहुत ही अनोखे ढंग से तुम ने जो लिखा बहुत अच्छा लगा। हार्दिक वधाई।

    ReplyDelete
  11. होता जो समय रेज़गारी सा
    डालती रहती गुल्लक में
    बचे छुट्टे पैसों की तरह aadarniya krishna ji ko sadar naman ! aapki kavita behad bhaavpurn hai ....ye panktiyaan bahut hi sundarta v nayapan liye hai ...badhai ke saath -

    ReplyDelete
  12. gunjan ji ! aapka bana thana chanda nirala hai...aapko bahut -bahut badhai!

    ReplyDelete
  13. जी आती सुख के कुछ क्षण
    माँ की स्नेह- छाया में
    पुतवा आती खुशियाँ
    मन की दीवारों पर
    खिल उठता
    मेरी वीरानियों में भी
    मोहक वसंत
    बचा पाती जो थोड़ा सा समय
    सरपट भागती जिन्दगी से।
    Sachmuch Kash! Aisa ho pata aapki rachna bahut bhavpurn hai hardik badhai... Chanda par likhi rachna bhi achhi lagi dono ko hardik badhai...

    ReplyDelete
  14. krishna ji gunjan ji bahut sunder bhavon se bhare shabd hai aap dono ke
    bahut bahuut badhai aap dono ko
    rachana

    ReplyDelete
  15. काश ! कोई ऐसी गुल्लक होती...| बहुत सुन्दर रचना...| हार्दिक बधाई...|
    गुंजन जी, आपका मुक्तक भी बहुत भाया | बधाई |

    ReplyDelete