Friday, July 10, 2015

हमारे गाँव में



रमेश गौतम के तीन नवगीत
1
हमारे गाँव में
कब से
ठगों के काफिले ठहरे

नमन कर सूर्य को
जब भी
शुरू यात्राएँ  करते हैं
अजब दुर्भाग्य है
अपना
अँधेरे साथ चलते हैं

विसंगति सुन
नहीं सकते
यहाँ सब कान हैं बहरे

चिराग़ों से
खुली रिश्वत
हवाएँ  रोज लेती हैं
सभाएँ  रात की
दिन को
सजा-ए-मौत देती हैं

यहाँ दफ़ना
दिए जाते
उजाले अब बहुत गहरे

हथेली देखकर
कहना
बहुत टेढ़ी लकीरे हैं
सुना तकदीर
के किस्से
कलेजे रोज चीरे हैं

निकल सकते
नहीं बाहर
बड़े संगीन हैं पहरे ।

-0-
2
देवदूत
कैसे उपलब्ध हो
छाँव तनिक
राजा के छत्र की

जप-तप-व्रत
मंत्र-तंत्र
पूजागृह- प्रार्थना
माथे न टाँक सके
उज्ज्वल संभावना
अधरों न धर पाईं
सीपियाँ
एक बूँद स्वाति नक्षत्र की

भूल गए कच्चे घर
गाँव, गली-गलियारे
बूढ़ी परछाईं के
साँझ ढले
तन हारे
एक-एक साँस
तके आहटें
परदेसी बेटे के पत्र की ।

फूल नहीं
खिलते हैं परजीवी बेल में
टूटी मर्यादाएँ
चौसर के खेल में
कौरव कुल समझेगा
क्या, भला
परिभाषा नारी के वस्त्र की ।

चुन-चुनकर भेजा था
खोटे दिन जाएँगे
मरुथल की
गोदी में
बादल कुछ आएँगे
देख-देख टूटीं
सब भ्रांतियाँ
दृश्यकथा
संसद के सत्र की

-0-
3

मान जा मन
छोड़ दे
अपना हठीलापन

बादलों को कब
भला पी पाएगा
एक चातक
आग में जल जाएगा
दूर तक वन
और ढोता धूप
फिर भी तन

मानते
उस पार तेरी हीर है
यह नदी
जादू भरी ज़ंज़ीर है
तोड़ दे
प्रण
सामने पूरा पड़ा जीवन

मर्मभेदी यातना में
रोज मरना
स्वर्णमृग का
मत कभी आखेट करना
मौन क्रंदन
साथ होंगे
बस विरह के क्षण ।

-0-

26 comments:

  1. बहुत सुंदर नवगीत ! एक-एक शब्द यथार्थ से परिपूर्ण !
    हार्दिक बधाई आदरणीय रमेश गौतम जी !

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  2. वाह सभी नवगीत बहुत सुन्दर प्रथम नवगीत की व्यंजना बहुत सशक्त
    चिराग़ों से
    खुली रिश्वत
    हवाएँ रोज लेती हैं
    सभाएँ रात की
    दिन को
    सजा-ए-मौत देती हैं
    यहाँ दफ़ना
    दिए जाते
    उजाले अब बहुत गहरे .....बहुत प्रभावी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  3. रमेश गौतम जी आपके द्वारा रचित सभी नव गीत बहुत सुन्दर शब्दों और भावों सहित रचे हुए हैं हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  4. गहन भावों की सरल ,सुन्दर अभिव्यक्ति देते बेहद प्रभावी नवगीत हैं ...हार्दिक बधाई !

    सादर नमन के साथ

    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  5. बहुत प्राणवान नवगीत, रमेश गौतम जी....हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  6. बहुत सशक्त वर्णन यथार्थ वयाँ करते नव गीत । यह पंक्तियां क्या कहने बडी मार्मिक हैं , सांझ ढले
    तन हार
    एक एक सांस
    तकें आहटें
    परदेशी बेटे के पत्र की ।
    वधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  7. यहाँ दफ़ना
    दिए जाते
    उजाले अब बहुत गहरे
    हथेली देखकर
    कहना
    बहुत टेढ़ी लकीरे हैं
    सुना तकदीर
    के किस्से
    कलेजे रोज चीरे हैं
    निकल सकते
    नहीं बाहर
    बड़े संगीन हैं पहरे ।
    -0-कटु सत्य।

    फूल नहीं
    खिलते हैं परजीवी बेल में
    टूटी मर्यादाएँ
    चौसर के खेल में
    कौरव कुल समझेगा
    क्या, भला
    परिभाषा नारी के वस्त्र की ।
    बहुत प्रभावी

    उस पार तेरी हीर है
    यह नदी
    जादू भरी ज़ंज़ीर है
    बहुत मार्मिक,प्रभावी गीत। हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  8. hamare ganv mein.........bade sangeen hain pahare aur kaise mile chhanv tanik raja ke chhatr ki...........,aj ke samaj va shasan tantr par prahar karati panktiyan . sachhai ko samane rakhati hain. teenon hi navgeet bahut hi gudharth bhare hain. badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  9. बहुत सुंदर नवगीत

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  10. पंक्तिया बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभारी हूँ ,आपकी प्रेरक टिप्पणी के लिए ,हार्दिक धन्यवाद

      Delete
  11. सहज साहित्य का बहुत आभारी हूँ ,एक सार्थक मंच हिंदी कविता को मिला इस मंच के द्वारा श्रेष्ठता के रचनात्मक मानक तय होते हैं भाई काम्बोज जी को धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर रचना |

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रचना |

    ReplyDelete
  14. achi lagi sabhi rachnayen hardik badhai...

    ReplyDelete
  15. behad prabhaavi navgeet !...badhai gautam ji ...

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर, भावपूर्ण नवगीत हैं...| रमेश गौतम जी को हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete