Thursday, June 25, 2015

परवरिश



अनिता मण्डा

तुम बढ़ते रहे यों ही

जंगल के पेड़ों की तरह

हमें सँवारा गया

बगीचे की क्यारियों -सा

जहाँ हम उगे, पले, बढ़े

छोड़नी पड़ी जगह, जड़ें

बिना आह ,शिक़वे के

जो भी मिला बागबाँ

हमने वो अपना लिया

तुम बढ़े बिना कटे

तभी तो बेतरतीब से

नहीं सहा विस्थापन

थोड़े संवेदनहीन से

उभर आता है जंगलीपन

सभ्यता के मुखौटों के बीच

छुपाते हम अपना तन मन

आँखों की चौखटों के बीच

-0-
(चित्र  गूगल से साभार)

15 comments:

  1. मेरी रचना को यहां स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार।

    ReplyDelete
  2. अनीता मण्डा जी आप की कविता
    परवरिश की यह पंक्तियाँबहुत अच्छी लगी … नही सहा विस्थापन / थोड़े संवेदन हीन से । … और यह वाली। … छुपाते हम अपना तन मन /आँखों के चौखटों के बीच … काश ! संवेदन हीन … विस्थापन के दर्द को समझ पाये कभी।

    ReplyDelete
  3. अनीता जी आपकी कविता की ये पंक्तियाँ छोडनी पडी जगह बिना आह ....बहुत अच्छी लगी |मुबारक हो |

    ReplyDelete
  4. सार्थक, प्रभावपूर्ण रचना अनीता जी.... बधाई!

    ReplyDelete
  5. प्रभावपूर्ण रचना । बधाई ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर रचना!
    अनिता जी शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. सुन्दर मर्मस्पर्शी कविता, अनीता जी को बधाई !!

    ReplyDelete
  8. bahut hi sunder kavita.ubhar ata hia jangalipan ,sabhyata ke mukhauton beech .vastav mein dikhavi shaleenta ki chadar par jangalipan ke chhipe rang ubhar hi ate hain.badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  9. नमस्कार अनिता जी
    बहुत ही ह्रदय स्पर्शी कविता

    ReplyDelete
  10. आप सभी का हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  11. sundar v marmsparshee saath hi saarthak bhi..........is pyaari rachna. ke liye anita ji ko naman ke saath -saath badhai bhi .

    ReplyDelete
  12. बेहद ख़ूबसूरत ..लेकिन ..मन को एक कसक से भरती प्रस्तुति है अनिता जी ! रचना क्या है एक अहसास है जो आपके शब्दों में साकार हो गया है !
    हार्दिक बधाई बहुत शुभ कामनाएँ आपको !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर रचना!
    अनिता जी शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  14. बहुत गहरी बात...सुन्दर भावाभिव्यक्ति...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete