Wednesday, May 27, 2015

पंजाब की पीड़ा




ज्योत्स्ना प्रदीप 

हरियाली की मोहक छवि
समृद्धि  के थे आह्वान रे !
हरे -भरे  थे खेत जहाँ        
सूने-से हैं मकान  रे !


बैलो की मधुर घंटियाँ
गीत धरा के गाती थीं
स्नेह भरी माँ बेटों को
रोटी- साग खिलाती थी
        राजा मिडास जैसा तू 
        बना है क्यों धनवान रे ! 1

रोटी की पोटली लियें
धूप में आती नार थी ।
नयनो के काजल में भी
ठंडी छैया अपार थी ।
      भरे थे जो अनाजों से ,
      सिसकते है खलिहान रे । 2

गेहूँ की बालियाँ कभी
उसकी  बालियों से लड़ी
वो तकती  तेरा रास्ता 
चिनाब के किनारे  खड़ी
         माटी में कहीं दबे हुए
         मैं ढूढ़ूँ वो  निशान  रे ! 3

उसपर  जुल्म ये ढाया है
तू बसा  कहीं  बिदेस रे
वो कैसा सोना  रूप था
ये क्या बनाया भेस रे?
      आजा तेरी  बेबे के
       उड़ने चले है प्राण रे ! 4
   -0-  

9 comments:

  1. कोमल ,मधुर भावों भरा ,दृश्य साकार करता बहुत सुन्दर गीत !
    हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना प्रदीप जी !!

    ReplyDelete
  2. ज्योत्सना जी का यथार्थवादी गीत परिवेशगत विसंगतियों को उजागर करता है ,हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. ज्योत्सना प्रदीप जी को इतनी सुन्दर और मार्मिक रचना के लिए हार्दिक बधाई |
    सविता अग्रवाल "सवि"

    ReplyDelete
  4. bahut sundar geet!
    jyotsna Pradeep ji, abhinandan!

    ReplyDelete
  5. पंजाब की महक लिए सुंदर, भावपूर्ण गीत।
    हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना प्रदीप जी।

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  6. सुन्दर गीत मनमोहक सजीव चित्रण.....हार्दिक बधाई ज्योत्स्ना प्रदीप जी!

    ReplyDelete
  7. himanshu ji ne meri rachna ko yahan sthaan diya aur aap sabhi ne ise saraha......naman ke saath -saath abhaar sabhi ka ....

    ReplyDelete
  8. sadi sarl likhi rachna pasand aayi meri badhai...

    ReplyDelete
  9. अंत तक आते-आते आँखें नम हो गई...| बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना...| हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete