Tuesday, April 28, 2015

चढ़तीं–उतरतीं वेदनाएँ



नवगीत
रमेश गौतम

आज भी गोदान जैसी हैं
किसानों की कथाएँ ।

चार बीघा खेत
उल्कापात, ओले, आगपानी
है खुले आकाश में
अस्तित्व की पूरी कहानी
अन्नदाता की हथेली
हैं यथावत् आपदाएँ ।

क्या करें मौसम हठीला
रंगदारी माँगता है
खंज़रों की नोक पर
फसलें सुनहरी टाँगता है
लूट कर सारा खजाना
ले गइ निर्मम हवाएँ ।


अब व्यथा इनकी कहें क्या
रह गए हैं प्राण आधे
राजरजवाड़े सभी
बैठें हुए हैं मौन साधे
दफ्तरों की सीढि़याँ
चढ़तींउतरतीं वेदनाएँ ।

खेल  क्षतिपूर्ति का अब
बाजीगरों ने मूँछ ऐंठी
कृषकों की कुण्डली में
लालफीता शाही बैठी
आँकड़ों की खीर चखतीं
खूब जनधन योजनाएँ ।

एक मुठ्ठी सांत्वना को
फिर यहाँ होरी भटकता
हार कर फिर मौन हाहाकार
सूली पर लटकता
लापता हैं राजधानी से
सभी संवेदनाएँ
-0-
रमेश गौतम
रंगभूमि 78बी, संजय नगर, बरेली।

( चित्र:गूगल से साभार)

11 comments:

  1. मर्मस्पर्शी नवगीत !
    कृषक और कृषि की व्यथा कथा को खूब कहा आदरणीय !

    एक मुठ्ठी सांत्वना को
    फिर यहाँ ‘होरी’ भटकता
    हार कर फिर मौन हा–हाकार
    सूली पर लटकता
    लापता हैं राजधानी से
    सभी संवेदनाएँ.......सामयिक , सुन्दर ,प्रभावी प्रस्तुति !!

    सादर नमन के साथ
    ~ ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  2. आज भी ‘गोदान’ जैसी हैं
    किसानों की कथाएँ । युग बदले, सरकारें बदली किन्तु कृषकों की व्यथा नहीं बदली | ना जाने यह कैसा गणतंत्र है | गौतम जी को बहुत पढ़ा है और उनसे सीखा भी |
    उनकी लेखनी को नमन एवं आभार काम्बोज जी |

    ReplyDelete
  3. bahut sundar samayik geet , lekhni ko naman hardik badhai
    sadar
    shahsi purwar

    ReplyDelete
  4. आज भी ‘गोदान’ जैसी हैं
    किसानों की कथाएँ ।bada hi shakt arambh ....samyik marmsparshee navgeet...aur ant bhi bada hi nirala.एक मुठ्ठी सांत्वना को
    फिर यहाँ ‘होरी’ भटकता-
    हार कर फिर मौन हा–हाकार
    सूली पर लटकता
    लापता हैं राजधानी से
    सभी संवेदनाएँ..aadarniy.gautam ji. naman hai aapki lekhni ko.

    ReplyDelete
  5. सचमुच! शहरों के घरों में बैठे हम लोग नहीं समझ पाते इन मेहनती किसानों के दुखों को!
    इस मार्मिक नवगीत ने मन भिगो दिया!
    आ. रमेश गौतम जी व उनकी लेखनी को नमन!

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  6. मार्मिक नवगीत!
    श्री गौतम जी को नमन!

    ReplyDelete
  7. बहुत मर्मस्पर्शी नवगीत!
    आ. गौतम जी की लेखनी को नमन!

    सादर
    कृष्णा वर्मा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप सभी आ. साहित्यधर्मी मित्रों ने मेरे नवगीत की संवेदना के साथ अपनी संवेदना बांटी बहुत
      आभारी हूँ भाई काम्बोज जी को हार्दिक धन्यवाद इतने सुन्दर रूप में गीत प्रकाशित किया शुभकामनाएं

      Delete
  8. नमिता राकेश, फ़रीदाबाद द्वारा मेल से भेजी प्रतिक्रिया-
    आदरणीय रमेश गौतम जी का बहुत मार्मिक नव गीत है , "होरी" का उल्लेख कर के गीतकार ने अत्यंत सहज ढंग से स्पष्ट कर दिया है कि किसान की दशा आज भी जस की तस है.... बधाई
    सादर, नमिता राकेश
    namita.rakesh@gmail.com>:

    ReplyDelete
  9. mausam ki mar, karZ aur shasak varg ki samvedan shunyata aj bhi kisan ko maut ka fanda dikhati hai samay badalta suvidhayen badalati hain kintu kisanon ki sthiti aj bhi 'hori'jaisi batate navgeet ka shabd- shbd marm ko chhu raha hai.gautam ji
    apaki sashakt lekhani ko naman.
    pushpa mehra .

    ReplyDelete
  10. कितनी मार्मिक...आँखे डबडबा आई पढ़ते हुए ही...| इतने गहन चित्रण के लिए मेरी बहुत बधाई...|

    ReplyDelete