Tuesday, October 7, 2014

सजाये ख़्वाब भी होंगे ,



डॉ ज्योत्स्ना शर्मा
1
बड़े रौशन सितारे हैं ,
दुआओं में हमारे हैं ।
निगाहों में थमी गंगा ,
दिलों में तो शरारे हैं ।
नसीहत सिर्फ क्यों मुझको ,
कदम बहके तुम्हारे हैं ।
हक़ीकत है बहुत कड़वी ,
अगरचे ख़्वाब प्यारे हैं ।
चलो बदलें ,कि, समझें क्या ,
इबारत के इशारे हैं ।
2
सजाये ख़्वाब भी होंगे ,
बड़े बेताब भी होंगे ।
अदब की बस इबादत कर ,
अदब ,आदाब भी होंगे ।
गरज कर जो नहीं बरसे ,
वही बेआब भी होंगे ।
खिज़ाओं से नहीं डरते ,
शज़र शादाब भी होंगे ।
कहे किस्से हमारे कल ,
कभी नायाब भी होंगे ।
3
अजब जादू चलाया है ,
कि मौसम मुस्कुराया है ।
तरन्नुम ,गीत है तेरा ,
फ़क़त मैंने सुनाया है ।
मुहब्बत पाक सुनते थे ,
उसी ने अब डराया है ।
बुज़ुर्गों से मिला नुस्खा ,
कभी क्या आजमाया है ।
तुझे फुर्सत कहाँ इससे ,
ये अपना वो पराया है ।
ज़रा उठकर सँभलने दे ,
अभी तो होश आया है ।
हवा, ख़ुशबू,ख़्यालों को ,
जहाँ कब बाँध पाया है ।
हदों को तोड़ बहना क्यों ,
नदी को रास आया है ।
जहाँ से और जिससे भी ,
जो पाया है लुटाया है ।
-0-

6 comments:

  1. मेरी भावनाओं को यहाँ स्थान देने के लिए हृदय से आभार आपका !

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  2. BAHUT SUNDER PRASTUTI ......JYOTSNA JI AAPKO DIL SE BADHAI.

    ReplyDelete
  3. आपने बहुत खुब लिख हैँ। आज मैँ भी अपने मन की आवाज शब्दो मेँ बाँधने का प्रयास किया प्लिज यहाँ आकर अपनी राय देकर मेरा होसला बढाये

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर...बड़े ही सुन्दर ढंग से लिखी गई पंक्तियाँ हैं, जो सीधे दिल तक उतरती हैं...| ज्योत्सना जी को हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  5. वाह! क्या कहने ज्योत्स्ना जी ! एक से बढ़कर एक ! बहुत ही ख़ूबसूरत रचनाएँ। भाव, सुर, ताल सभी उत्कृष्ट...

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  6. उत्साहवर्धन के लिए बहुत-बहुत आभार आपका !

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete