Wednesday, May 21, 2014

पाँच रंग

डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा 
1
लेखनी उद्बोध लिखना और फिर शृंगार भी ,
भक्ति , ममता ,हास भी  हो दर्द का संसार भी ।
तुम उठो ,उठ कर चलो ,जब भी समय की माँग पर ;
दोस्ती की जीत लिखना, दुश्मनी की हार भी ।।
2
दोस्ती ,दिल को कुदरत का ईनाम है ,.
एक इनायत ,खुशी से भरा जाम है ।
हम इसे दुश्मनी में बदलने ना दें :
ज़िंदगी में बड़ा ये भी इक काम है ।।
3
जीर्ण चदरिया मन की मीठे बोलों से सिल जानी है ,
दृढ़ संकल्पों से विघ्नों की ,कठिन शिला हिल जानी है ।
मरकर भी सुधियों में रह मन ,ऐसा काम अमर कर जा ;
मिट्टी की काया है इक दिन, मिट्टी में मिल जानी है ।।
4
नेकी मन से ना बिसराना ,सबसे बड़ी इबादत है ,
दीन,दुखी पर दया दिखाना, सबसे बड़ी इबादत है ।
जन्म दिया है जिसने हमको ,धन-धान्य से बड़ा किया ;
उनकी खातिर जान लुटाना, सबसे बड़ी इबादत है ।।
5
काम,क्रोध जब हृदय बसे तो खुशियों का संसार गया ,
कुटिल द्वेष का सर्प विषैला जीते जी बस मार गया ।
जान लिया है लोभ ,मोह की वैतरणी है यह जीवन ;
दया ,धर्म का लिये सहारा ,जो डूबा वो पार गया ।।

-0-

14 comments:

  1. बहुत प्रेरणादायक पंक्तियाँ...हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार प्रियंका जी !

      शुभ कामनाओं के साथ
      ज्योत्स्ना शर्मा

      Delete
  2. बहुत अच्छी कविता

    ReplyDelete
  3. ज्योत्स्ना जी , बहुत सुंदर शिक्षाप्रद पंक्तियाँ लिखी है आपको हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  4. ज्योत्स्ना जी, बहुत अच्छी कविता; हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete
  5. kaafi seekh milatti hai in panktiyon se agar koi gune to jeevan nayya paar ho jaye bahut-bahut badhai...

    ReplyDelete
  6. बहुत-बहुत-बहुत... ही सुन्दर, प्रेरणादायक कविताएँ ज्योत्स्ना जी ! जीवन का सार हैं !
    इतने ख़ूबसूरत सृजन के लिए आपको हार्दिक बधाई !

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  7. bahut prernadayak kavita hai. jyotsana ji apako badhai .
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  8. ज्ञानपूर्ण कविता ज्योत्स्ना जी.....बधाई !

    ReplyDelete
  9. बोधात्मक , शिक्षाप्रद कविताएँ
    बधाई

    ReplyDelete
  10. jyotsna ji.....prernadaiye v shikshaprad kavita likhi hai aapne ..aise gyan ki bahut zarooat hai hamare samaj mein.....badhai apko

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ
    जीर्ण चदरिया मन की मीठे बोलों से सिल जानी है ,
    दृढ़ संकल्पों से विघ्नों की ,कठिन शिला हिल जानी है ।
    मरकर भी सुधियों में रह मन ,ऐसा काम अमर कर जा ;
    मिट्टी की काया है इक दिन, मिट्टी में मिल जानी है ।।

    ReplyDelete
  12. आदरणीया कमला जी ,ज्योत्स्ना जी ,मंजु जी ,कृष्णा जी ,पुष्पा जी ,अनिता जी ,भावना जी ,सविता जी , शान्ति जी एवं आदरणीय सुभाष जी ....आप सभी का स्नेह और आशीर्वाद मेरी भावाभिव्यक्ति को मिला मैं हृदय से आभारी हूँ |

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  13. ज्योत्स्ना जी, बहुत अच्छी कविता; हार्दिक बधाई |

    ReplyDelete