Friday, May 16, 2014

कुछ कविताएँ

 रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
1
कुछ मन पावन होते हैं।
कुछ मन भावन होते हैं
बात तुम्हारी जब होती
नैना सावन होते हैं ।
2
उम्र प्यार की कब होती
तन के भोगी  ना जाने हैं,
प्यार वह जो कभी न घटता
सच्चे दिल   ही पहचाने हैं।
3
परस तुम्हारा मिल जाए
जब दुनिया से चलना हो,
भोर –किरन का छू जाना
तुझे देख जब खिलना हो ।
4
जीवन में कुछ भी  मिल जाए
घाटा लगता है ,
बच्चों के बिन घर-आँगन

सन्नाटा लगता है  ।

18 comments:

  1. वाह ! बहुत ही प्यारी कवितायें हैं !

    जीवन में कुछ भी मिल जाए
    घाटा लगता है ,
    बच्चों के बिन घर-आँगन

    एकदम सही !!!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर बात कही है -बच्चों के बिन घर आँगन सन्नाटा लगता है | थोड़े शब्दों में बड़ी बात |

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सशक्त रचनाएं ....दिल छू गयी
    "जीवन में कुछ भी मिल जाए
    घाटा लगता है ,
    बच्चों के बिन घर-आँगन
    सन्नाटा लगता है ।"
    डॉ सरस्वती माथुर

    ReplyDelete
  4. जीवन का हर रंग...हर महक मौजूद है इन पंक्तियों में...| आप इतना दिल से लिखते हैं कि हर भावना पाठक को सीधे दिल में छूती है...| संवेदना के सारे तार झंकृत हो जाते हैं...|
    आभार और बधाई...|

    ReplyDelete
  5. ज़िन्दगी की गह्री सचाइओ को सह्ज़ भावनाओ से बुनी ये कबिताये मन को छू गयी आपकी लधुकथाओ से वाकिव थी कविताओ से आज ताह्रूफ हुआ
    मेरी शुभ्काम्नाये ओर् लिखे खूब लिखे ओर पाथको को इस्का रसास्वदन क्र्राते रहे

    ReplyDelete
  6. वह्ह्ह अतिसुन्दर ... सादर नमन

    ReplyDelete
  7. Itna marm, itna sneh dil ke marm ko chhu gayi, bahut bahut badhai.

    ReplyDelete
  8. बहुत कोमल ,मधुर अभिव्यक्ति ....सुन्दर रचनाओं के लिए हृदय से बधाई !!
    सादर नमन के साथ
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  9. jeevan mein kuch bhi mil jaye ,ghata lagata hai..............,anya kavitaon ke sath ye panktiyan bhi vastvik satya nirupit karti hain bhai ji in sunder bhavon ki abhivyakti ke liye apako hardik badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  10. बहुत भावपूर्ण सरस रचनाएं......हार्दिक बधाई !

    सादर
    कृष्णा वर्मा

    ReplyDelete
  11. ये कोमल अभिव्‍यक्ति तो कोई प्‍यार भरा दिल ही कर सकता है जो प्‍यार के हर रूप को जी चुका हो।
    ह‍ार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  12. कुछ मन पावन होते हैं।
    कुछ मन भावन होते हैं
    बात तुम्हारी जब होती
    नैना सावन होते हैं ।
    bhaiya kya kahun bahut kamal ka likha hai man ko chhu gaya
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  13. ये सब रचना हिन्दी पाठ्यक्रम में हो तो अति उत्तम होगा .
    सर्वश्रेष्ठ रचनाएँ
    बधाई भाई रामेश्वर जी .

    ReplyDelete
  14. आप सबके इस अप्रिमित स्नेह और सम्मान के लिए अन्तर्मन से अभिभूत और अनुगृहीत हूँ। यही अपनापन बनाए रखिए । रामेश्वर काम्बोज

    ReplyDelete
  15. भाईसाहब, यह रचनायें प्रीत के गहरे सागर से निकली वो अमिट लहरें हैं जो जब मन के आकाश को छू जाती हैं तो ऊँचाईयाँ भी कृतार्थ हो उठती हैं ....उन्नत ,उत्कृष्ट ....अति उत्तम...बधाइयों के साथ .....

    ज्योत्स्ना प्रदीप

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर सुन्दर रचनाएँ. बधाई.

    ReplyDelete
  17. अत्यंत भावपूर्ण और बहुत ही सुंदर रचनाएँ हैं भैया। बहुत-बहुत बधाई आपको सुंदर सृजन के लिए।

    ReplyDelete
  18. कुछ मन पावन होते हैं।
    कुछ मन भावन होते हैं
    बहुत सुंदर मुक्तक हार्दिक बधाई भैया जी

    ReplyDelete