Monday, March 3, 2014

रेत के आशियाँ

रेणु कुमारी आगरा विश्वविद्यालय से एम. एस –सी. भौतिकी ।
केन्द्रीय विद्यालय आयुध उपस्कर निर्माणी की 2008 बैच  में कक्षा 12 की छात्रा रही है।मुझे कुछ समय हिन्दी शिक्षण का अवसर  मिला । केन्द्रीय माध्यमिक बोर्ड की कक्षा 12 में हिन्दी में 98% अंक लाकर  विशिष्ट प्रमाण –पत्र प्राप्त किया । यहाँ इनकी दो कविताएँ दी जा रही हैं । आशा है इनको आप सबके द्वारा प्रोत्साहन  मिलेगा।
-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
-0-
रेणु कुमारी
1-डर
डर था अगर  अँधेरे में  खोनॆ का,
 तो यूँ हसीन सपने सजा ना  होते।
 परवाह थी इन तेज हवाओं की अगर,
तो रेत के आशियाँ बनाये ना होते।
डर था अगर गिरकर चोट खाने का,
तो अपने कदम आगे  ढ़ाए ना होते
इतने ही पस्त होने थे अगर हौसले,
तो अपने  पंख यूँ फैला ना होते।
डर था अगर हारकर टूट जाने का,
तो दिये उम्मीद के जला ना होते।
थमकर यूँ ही ठहर जाना था अगर,
तो गीत खुशी के गाये ना होते।
2-ज़रूरी है
गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है,
युग बदलेंगे, लेकिन खुद में बदलाव जरूरी है
तरक्की का परचम लहरा रहा है आसमान में,
चाँद को भी छू रहा है इन्सान ये।
पर अपनी धरती से भी जुड़ाव जरूरी है
गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है।
मॉडर्न सोच का माहोल यूँ छा रहा है
ये विज्ञान वरदान नए मौके ला रहा है
पर अपनी संस्कृति से भी लगाव जरूरी है
गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है।
इंसानियत खो ग है इस दौड़ में कहीं,
दिल से तो अब कोई सोचता ही नहीं।
इस बदलती सोच से अपना बचाव जरूरी है
गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है

-0-

17 comments:

  1. गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है,
    युग बदलेंगे, लेकिन खुद में बदलाव जरूरी है
    तरक्की का परचम लहरा रहा है आसमान में,
    चाँद को भी छू रहा है इन्सान ये।
    पर अपनी धरती से भी जुड़ाव जरूरी है,BAHUT SUNDAR RENU JI

    ReplyDelete
  2. डर था अगर गिरकर चोट खाने का,
    तो अपने कदम आगे बढ़ाए ना होते
    इतने ही पस्त होने थे अगर हौसले,
    तो अपने पंख यूँ फैलाए ना होते

    bahut hi sundar sandesh hai Renu.

    इंसानियत खो गई है इस दौड़ में कहीं,
    दिल से तो अब कोई सोचता ही नहीं।
    इस बदलती सोच से अपना बचाव जरूरी है
    गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है

    ekdam sahi kaha aapne, aaj ke haalaat me do pal thaharkar sochne kii bahut jaroorat hai

    dono hi kavitayen bahut sundar evam sarthak hain.

    ReplyDelete
  3. चाँद को भी छू रहा है इन्सान ये।
    पर अपनी धरती से भी जुड़ाव जरूरी है
    kitni sunder baat kahi bahut khoob likhti rahi .............

    yahi ashirvad hai
    rachana

    ReplyDelete
  4. badi pyari rachanaye hai renu ji badhai and keep it up. RAMESH YADAV, MUMBAI

    ReplyDelete
  5. badi hi achhi rachanaye hai renuji badhai and keep it up. RAMESH YADAV, MUMBAI

    ReplyDelete
  6. इस बदलती सोच से अपना बचाव जरूरी है
    गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है ।,,,,,सार्थक और सामयिक रचनाओं के लिए शुभकामनाएँ.....ऐसे ही आगे भी लिखती रहें।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचनायें, शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. आशा से परिपूर्ण ,अपनी संस्कृति से जुड़े सुन्दर विचारों को बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति दी है रेणु आपने |
    हृदय से बधाई ....ढेर सारी शुभ कामनाएँ !!!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर अभिवयक्ति।

    ReplyDelete
  10. beta...aapki sunder sooch ne man ko bari thandak pahuchaie hai asha tatha apani sanskriti ke prati judaav......abhivyakti bhi kamaal ki bahut aashish .....

    ReplyDelete
  11. insaniyat kho gayi hai is daur mein , dil se to ab koi sochata hi nahi. bilkul theek likha hai apne. mere vichar se insan ki samvednaen ab bik rahin arth ke hi khule is bajar mein.renu ji apako badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  12. रेणु कुमारी जी , बहुत सुन्दर, सार्थक, सामयिक रचनाएँ हैं आपकी ! इंसान ऊपर उठने की चाह में ज़मीन से अपना रिश्ता ही तोड़ देता है और यही उसके पतन का कारण बन जाता है ! इस भाव को बहुत ख़ूबसूरती से आपने अपनी अभिव्यक्ति में ढाला है !
    इसी तरह लिखती रहिये, आगे बढ़ती रहिये!
    हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ~सस्नेह
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  13. इंसानियत खो गयी है इस दोड़ में ,
    दिल से तो अब कोई सोचता भी नहीं
    ह्रदय स्पर्शी रचना ......शुभकामनाएं रेनू जी.....

    ReplyDelete
  14. आप सबका बहुत धन्यवाद.......

    ReplyDelete
  15. गुजरते हुए वक़्त के साथ ठहराव जरूरी है ।
    बहुत सही कहा है रेणु ने...और पहली रचना में इनका हौसला झलकता है...| प्यारी रचनाएं...बहुत बधाई और दिल से इनकी उन्नति के लिए शुभकामनाएँ...| यूँ ही सुन्दर-सार्थक रचनाएं रचती रहो...|

    ReplyDelete
  16. very very nice renu........ apt comments on today's changing life...and great collections of words too........keep it up

    ReplyDelete