Saturday, January 18, 2014

आहत हैं दिशाएँ

रामेश्वर काम्बोज  हिमांशु
1
तेज़ हवाएँ
घायल हुए डैने
उड़ें किधर जाएँ ?
कोहरा छाया
जीवन-पथ पर
आहत  हैं दिशाएँ।
2
कौन अपना?
हर साथी हो गया
इक टूटा सपना,
शब्दों की कीलें
चुभती दिन- रात
बोलो किसे बताएँ।
3
बेरुखी तोड़े
सारे प्यारे सम्बन्ध
जीवन-अनुबन्ध,
जब अपने
चोट दे मुस्कुराएँ
किसे दर्द बताएँ ?

-0-

18 comments:

  1. बेहद ही सटीक तरह से आपने जीवा का कटु सत्य लिखा है रामेश्वर जी -
    बेरुखी तोड़े
    सारे प्यारे सम्बन्ध
    जीवन-अनुबन्ध,
    जब अपने
    चोट दे मुस्कुराएँ
    किसे दर्द बताएँ ?

    ReplyDelete
  2. तेज़ हवाएँ
    घायल हुए डैने
    उड़ें किधर जाएँ ?
    कोहरा छाया
    जीवन-पथ पर
    आहत हैं दिशाएँ।
    bhaiya kya kahun bhavon ka gahra sagar bahut sunder
    saader
    reachana

    ReplyDelete
  3. रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ जी, जीवन के अनुभवों से जुड़े आपके ये तीन सेदोका बहुत अच्छे लगे।
    मैं इतना कहना चाहूंगा, " बेहतरीन / आपकी अभिव्यक्ति / ये लगें मुझे सूक्ति / राह सुझाएँ / कोहरे से बचाएं /
    इनसे ज्ञान पाएं। " आपको बहुत - बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  4. मन में मन की पीर छिपाये,
    तथाकथित उत्कर्ष बिताये।

    ReplyDelete
  5. भैया जी … कितने मार्मिक, सत्य के कितने निकट.. सभी सेदोका !
    दिल को छू गए सभी !

    ~सादर
    अनिता ललित

    ReplyDelete
  6. मर्मस्पर्शी बहुत उमदा सेदोका.....बधाई !

    ReplyDelete
  7. मन की पीर / दिशाएँ भी आहत / किसे जताएं | इन सार गर्भित सेदोका के लिए आपकी लेखनी को नमन |

    सादर,
    शशि पाधा

    ReplyDelete
  8. शब्दों की कीलें
    चुभती दिन- रात

    जब अपने
    चोट दे मुस्कुराएँ
    किसे दर्द बताएँ

    बहुत ही मार्मिक अभिव्यक्ति….एकदम सच कहा जब दुःख अपनों से मिलता है जादा असह्य होता है, शब्द कील से जादा चुभते है ……

    ReplyDelete
  9. berukhi tode sare sambandh .......,satya ko jeeta hua bhav hai bhai ji apake sabhi sedoka jeevan ke katu anubhavon ko vyakt kar rahe hain.apako bahut badhai.
    pushpa mehra.

    ReplyDelete
  10. तीनो सेदोका जीवन के तीन कटु-सत्य बयान कर रहे हैं...|
    एक बार फिर बहुत सुन्दर रचनाएँ जो सीधे दिल तक पहुँचती हैं...| आभार और बधाई...|

    ReplyDelete
  11. बहुत गहन भाव ...हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति भैया ....!!

    ReplyDelete
  12. कोहरे भरा जीवन पथ ,शब्दों की कीलें और चोट देकर मुस्कुराते अपने ....इन सबसे दो-चार होना ही पड़ता है जीवन में कभी न कभी ...बहुत कठोर सत्य की बहुत ही प्रभावी प्रस्तुति है आपकी ....हृदय से बधाई ... नमन !
    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  13. शब्द की कीलें ऐसी चुभती हैं जिसे कोई मरहम भर नहीं पाता, तब और भी जब वो कीलें अपनों द्वारा चुभाई गई हों. गहरे भाव...

    कौन अपना?
    हर साथी हो गया
    इक टूटा सपना,
    शब्दों की कीलें
    चुभती दिन- रात
    बोलो किसे बताएँ।

    जब अपने
    चोट दे मुस्कुराएँ
    किसे दर्द बताएँ ?

    तीनों सेदोका मन के गहरे एहसास को बयाँ करते हैं. कटु सत्य पर सबका सच... उत्कृष्ट सेदोका के लिए हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  14. बहुत मार्मिक सेदोका !
    दिल को छू गए।

    सादर

    ReplyDelete
  15. Bahut hrdyasparsi sedkoa hain aapko meri hardik badhai...

    ReplyDelete
  16. अपनों के दिए दर्द की पीड़ा से मन आँगन में पतझड़ छा जाती है,
    कितना दर्द भरा है हर सेदोका में !
    कोहरा छाया
    जीवन-पथ पर
    आहत हैं दिशाएँ
    आपकी लेखनी को नमन |

    हरदीप

    ReplyDelete
  17. sashakt sedokon ne mann ki gehraiyon ko choo liya......waah kya baat hai bhaisahab !!!!!!

    ReplyDelete