Sunday, June 30, 2013

ज्यों जनमों का साथ

डॉ ज्योत्स्ना शर्मा
1
दीपक बाती से कहे ,तुम पाओ निर्वाण ।
मेरी भी चाहत जलूँ ,जब तक तन में प्राण ।।
      2
कटते -कटते कह रही,वन के मन की आग ।
कैसे गाओगे सखा ,अब सावन का राग ।।
       3
संग हँसें रोंयें सदा, नहीं मिलन की रीत ।
प्रभु मेरी तुमसे हुई, ज्यों नैनन की प्रीत ।।
       4
सुवर्ण मृग  की लालसा ,छीने सुख  के धाम ।
किस्मत ने उनका लिखा,जीवन दुख के नाम ।।
       5
जब लालच की आग को ,मन में मिली पनाह ।
बेटी का आना यहाँ, तब से हुआ गुनाह ।।
    6
सुख की छाया है कभी ,कभी दुखों की धूप ।
देख भी लो नियति - नटी, पल- पल बदले रूप ।।
   7
पावनता पाई नहीं ,जन -मन का विश्वास ।
सीता को भी  राम  से , भेंट मिला वनवास ।।
  8
मधुर मिलन की चाह मन ,नैनन दर्शन आस ।
कौन जतन कैसे घटे,अन्तर्घट की प्यास ।।
9
दुनिया के बाज़ार में , रही प्रीत अनमोल ।
ले जाये जो दे सके , मन से मीठे बोल ।।
10
कल ही थामा था यहाँ,दुख ने दिल का हाथ ।
आकर ऐसे बस गया ,ज्यों जनमों का साथ ।।
11
आहट तक  होती नहीं ,सुख के इस बाज़ार ।
हम भी दुख की टोकरी ,लेने को लाचार ।।
12
सागर ,सुख दुख की लहर , ये सारा संसार ।

मेरी आशा ही मुझे , ले जाएगी पार ।।

Sunday, June 23, 2013

रिश्तों की चादर

भावना कुँअर
1
थे पंख उधार लिये
ख़्वाबों की ज़िद में
बादल भी पार किये ।
 2
तुमसे बातें करना
पाया है  मैंने 
अमृत -भरा ये  झरना।
3
हरदम गहरे  चुभते
काँटों में उलझे
दिल चीरें ये रिश्ते।
4
बचपन को खोया है
बीज अमानुष बन
किसने ये बोया है?
5
कैसी मजबूरी है
रिश्तों की चादर
होती ना पूरी  है।
-0-

Thursday, June 20, 2013

जख़्मी साहिल

[अपनापन कई बार शब्दों की पहुँच से परे हो जाता है, तो चुप्पी में बदल जाता है । अपने दर्द की खुद को जब  आदत- सी हो जाती  है तो लगता है इसको यहीं छुपा लो ,बिखर गया तो ज्यादा टीस देगा । इसी विषय पर आज सहज सहित्य में डॉ हरदीप सन्धु के हाइकु का गुलदस्ता ,आप सबकी भेंट]
1
हाथों से मिटी 
खुशियों की लकीरें 
बिखरा दर्द । 
2
मेरी तन्हाई 
मेरे साथ चलती 
ढूँढ़े साहिल । 
3
छोड़ वजूद 
रेत पर लकीरें 
लौटी लहरें । 
4
शान्त सागर 
बेचैन- सी लहरें 
जख़्मी साहिल । 

-0-

Sunday, June 16, 2013

दोहे-डॉ श्याम सखा ‘श्याम’


डॉ श्याम सखा ‘श्याम’
1
मन लोभी मन लालची,मन चंचल मन चोर
मन के हाथ सभी बिके,मन पर किस का जोर
2
तेरे मन ने जब कही,मेरे मन की बात
हरे-हरे सब हो गए,साजन पीले पात
3
जिसका मन अधीर हुआ,सुनकर मेरी पीर
वो है मेरा राँझनामैं हूँ उसकी हीर
4
तेरे मन पहुँची नहीं,मेरे मन की बात
नाहक हमने थे लिये,साजन फ़ेरे सात
  5
वो बैरी पूछै नहीं ,अब तो मेरी जात
जिसके कारण थे हुए,सारे ही उत्पात
6
सुनले साजन आज तू,एक पते की बात
प्यार कभी देखे नहीं.दीन-धरम या जात
7
मन की मन ने जब सुनी. सुन साजन झनकार
छनक उठी पायल तभी, कंगन बजे हजार
8
मन फकीर है दोस्तो,मन ही साहूकार
मुझ में रह तेरा हुआ,मन ऐसा फनकार
9
मन की मन से जब हुई,साजन थी तकरार
जीत सका तू भी नहीं,गई तभी मैं हार
 10
मन की करनी देखकर.बौरा गया दिमाग
म्बन्धों में  ये लगी ,बैरन कैसी आग ?

-0-

Friday, June 14, 2013

बिटिया आई



डॉ०अस्पताल की नर्स बुलाई                                                                               
  आत्मदेव मिश्र

 आओ देखो बिटिया आई                                                                                 
 यह सुन मम्मी मुख बिचकाई                                                                          
 पापा की भृकुटी तन आई                                                                            
  दादी खरी-खोटी सुनाई                                                                                
  हाय ! निगोड़ी कहाँ से आई                                                               
 आशा-तन्तु टूटा बुआ का                                                                               
  थाली नहीं बजाई                                                                                    
   नहीं बजी शहनाई                                                                                      
कोई न लुटाए अन्न-धन सोना                                                                         
  कोई न मोतियन माला                                                                                
  गोतिनी पड़ोसिनी गीत न गाई
नहीं कोई शकुन उठाई                                                                                    

 दूसरी बार -                                                                                            
 अस्पताल का नौकर आया                                                                                
हँसकर हमें बताया                                                                                      
 आओ देखो बेटा आया                                                                                    
सुन मम्मी का मन हरसाया                                                                            
 पापा का चेहरा खिल आया                                                                            
 अहो भाग्य बेटा घर आया      

Monday, June 3, 2013

गुलमोहर से रंग झरे

अनुपमा त्रिपाठी
 रात  ढली   और .... सुबह कुछ इस तरह  होने लगी ....!!
गुलमोहर  से रंग झरे.
सूरज ऐसा रोशन हुआ
कि मोम भी पिघलने लगी
आम्र की मंजरी पर बैठी कोयल
पिया की पतियाँ  लाई
कूक कूक राग वृन्दावनी  सारंग सुनाने लगी ...
भरी दोपहर याद पिया की
बिजनैया जो डुराने लगी
कूजती रही  कोयल
हूक जिया की पल पल जाने लगी
निरभ्र  आसमान में चहकते विहग
जैसे ज़िंदगी मुस्कुराने लगी ...!!
-0-

बिजनैया -पंखा,डुराए -झुलाना