Thursday, September 26, 2013

मन की झील,

रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
1
सारी  ही उम्र
बीती समझाने में
थक गए उपाय,
जो था पास में
वो सब रीत गया
यूँ वक्त बीत गया ।
2
मन की झील,
चुन-चुन पत्थर
फेंके हैं अनगिन,
साँस लें कैसे
घायल हैं लहरें
तट गूँगे बहरे ।
3
ज़हर- बुझे
बाण जब बरसे
भीष्म -मन आहत,
जीना मुश्किल
उत्तरायण भी बीते
मरने को तरसे।
4
जीवन तप
चुपचाप सहना
कुछ नहीं कहना,
पाई सुगन्ध
जब गुलाब जैसी
काँटों में ही रहना ।
5
उर में छाले
मुस्कानों पर लगे
हर युग में ताले ,
पोंछे न कोई
आँसू जब बहते
रिश्तों के बीहड़ में ।
6
रूप कुरूप
कोई नर या नारी 
दु:ख सदा रुलाए,
प्यार सुगन्ध
ये ऐसी है बावरी
सबको गमकाए ।
7
शीतल जल
जब चले खोजने
ताल मिले गहरे,
पी पाते कैसे
दो घूँट भला जब
हों यक्षों के पहरे ।
8
प्रश्न हज़ारों
पिपासाकुल मन
पहेली कैसे बूझें,
तुम जल हो
दे दो शीतलता तो
उत्तर कुछ सूझे ।
9
पाया तुमको
अब कुछ पा जाएँ
मन में नहीं सोचा ,
खोकर तुम्हें
तुम ही बतलाओ
क्या कुछ बचता है ?

-0-

26 comments:

  1. बहुत सुन्दर सेदोका रामेश्वर जी.

    जो बहुत ही अपना सा पाया वो यह है-

    पाया तुमको
    अब कुछ पा जाएँ
    मन में नहीं सोचा ,
    खोकर तुम्हें
    तुम ही बतलाओ
    क्या कुछ बचता है ?
    सच, जो मन को भाये और जीवन की जरुरत हो, उसके बिना जीवन अर्थ पूर्ण एवं खाली ही लगेगा।

    ReplyDelete
  2. Sedoka aise hai Mano kisi ke man ki Parton ko pyaaj ke chhilkon ki traha khol kar rakh diya ho ...gahan abhivyakti se labalab bhare meri hardik badhai....

    ReplyDelete
  3. झील से गहरे सभी सेदोका ..... भीतर तक उतरते हैं .....

    बहुत बहुत बधाई .... !!

    ReplyDelete
  4. सभी सदोका बहुत सुन्दर ,कई यक्ष प्रश्न और उनके उत्तर ,जीवन के यथार्थ की गहरी परछाईयाँ , मन की झील से निकले बेहतरीन मोती ,भाईसाहब हार्दिक बधाई आपको ,सभी सदोका बहुत अच्छे लगे।
    प्रश्न हज़ारों
    पिपासाकुल मन
    पहेली कैसे बूझें,
    तुम जल हो
    दे दो शीतलता तो
    उत्तर कुछ सूझे

    ReplyDelete
  5. जीवन के गहरे अनुभवों से उत्पन्न क्षणिकायें

    ReplyDelete
  6. जीवन तप
    चुपचाप सहना
    कुछ नहीं कहना,
    पाई सुगन्ध
    जब गुलाब जैसी
    काँटों में ही रहना ....gahan bhav liye sundar sedoka. bohat sarthak rachna Rameshwar sir

    ReplyDelete
  7. " मन की झील / चुन-चुन पत्थर / फेंके हैं अनगिन / साँस लें कैसे / घायल हैं लहरें /तट गूँगे बहरे । "
    अनुभवों से उपजे सभी सेदोका मन को कहीं बहुत अन्दर तक स्पर्श करते हैं। जीवन के कुछ पक्षों की बेहतरीन अभिव्यक्ति ! काम्बोज जी, आपको हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  8. सुंदर सेदोका प्रतीकों की गहराई लिए हुए .

    बधाई .

    ReplyDelete
  9. रूप –कुरूप
    कोई नर या नारी
    दु:ख सदा रुलाए,
    प्यार –सुगन्ध
    ये ऐसी है बावरी
    सबको गमकाए ।

    गहन अर्थ और बहुत सुंदर शिल्प ...
    बधाई स्वीकारें भैया .

    ReplyDelete
  10. sheetal jal jab chale khojane, taaal mile gahare......... sabhi sedoka bahut gahare bhav liye hue hain. Bhaiji aap ko hardik badhai

    pushpa mehra

    ReplyDelete
  11. हिमांशु भैया जी... क्या कहें? शब्द नहीं हमारे पास! हर दिल की बात समाई है इन सेदोका में!
    बहुत-बहुत खूबसूरत, भावपूर्ण!
    हार्दिक बधाई व शुभकामाएँ आपको!

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  12. सारे सेदोका जीवन दर्शन के करीब...शिल्प से भाव तक एक से बढ़कर एक...सादर बधाई !!

    ReplyDelete
  13. निस्तल सेदोका कमाल की अभिव्यक्ति.....मन को छू गए ! आपको हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  14. सुंदर सेदोका

    ReplyDelete
  15. आपकी लिखी रचना की ये चन्द पंक्तियाँ.........
    सारी ही उम्र
    बीती समझाने में
    थक गए उपाय,
    जो था पास में
    वो सब रीत गया
    यूँ वक्त बीत गया ।
    शनिवार 28/09/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    को आलोकित करेगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. जीवन के विभिन्न पहलुओं तथा दार्शनिकता को शब्दों में पिरोते यह सेदोका आत्म चिंतन की ओर ले जाते हैं | सभी रचनाएं सुन्दर | बधाई एवं धन्यवाद आपको साझा करने के लिए |

    शशि पाधा

    ReplyDelete
  17. बहुत गहरी भाव धारा है |एक से बढकर एक सेदोका ...
    जीवन तप
    चुपचाप सहना
    कुछ नहीं कहना,
    पाई सुगन्ध
    जब गुलाब जैसी
    काँटों में ही रहना ।....बहुत मोहक ...हृदय से बधाई ....सादर नमन आपको !

    ReplyDelete
  18. पाई सुगन्ध
    जब गुलाब जैसी
    काँटों में ही रहना
    bhaiya in shabdon ka koi mol nahi hai

    पाया तुमको
    अब कुछ पा जाएँ
    मन में नहीं सोचा ,
    खोकर तुम्हें
    तुम ही बतलाओ
    क्या कुछ बचता है ?
    bhaiya gil me kahin gahre tak chhu gain ye panktiyan
    kamal kamal kamal

    bahut bahut badhai
    rachana

    ReplyDelete
  19. ह्रदय के भाव की बहुत गहन अभिव्यक्ति...

    ज़हर- बुझे
    बाण जब बरसे
    भीष्म -मन आहत,
    जीना मुश्किल
    उत्तरायण भी बीते
    मरने को तरसे।

    आपकी लेखनी ऐसी होती है कि निःशब्द हो जाते हैं हम सभी. सादर बधाई काम्बोज भाई.

    ReplyDelete
  20. जीवन के गहरी अनुभूति की सुन्दर अभिव्यक्ति .सभी सुन्दर है l
    नई पोस्ट साधू या शैतान
    latest post कानून और दंड

    ReplyDelete
  21. सभी सेदोका एक से बढ़कर एक हैं, बहुत सुन्दर एवं भाव पूर्ण...
    उर में छाले........ मन को छू गया ।
    कम्बोज जी भाई आपको बहुत बहुत बधाई..
    -रेनु चन्द्रा

    ReplyDelete
  22. सभी सेदोका एक से बढ़कर एक हैं, बहुत सुन्दर एवं भाव पूर्ण...
    उर में छाले........ मन को छू गया ।
    कम्बोज जी भाई आपको बहुत बहुत बधाई..
    -रेनु चन्द्रा

    ReplyDelete
  23. आप सब भाई बहनों ने , मेरे परम आत्मीय मित्रों ने जो प्रतिक्रिया दी है , उससे मेरा उत्साह बढ़ा है । आप मेरे लेखन को आगे बढ़ा रहे हैं , आपका हृदय से कृतज्ञ हूँ। सदा आपका रामेश्वर काम्बोज

    ReplyDelete
  24. सभी सेदोका बहुत सुन्दर किन्तु ७वाँ और ८वाँ तो बहुत ही सुन्दर हैं ।

    ReplyDelete
  25. इतनी खूबसूरती से व्यक्त किया है आपने जीवन-दर्शन...
    जीवन तप
    चुपचाप सहना
    कुछ नहीं कहना,
    पाई सुगन्ध
    जब गुलाब जैसी
    काँटों में ही रहना ।

    और ये भी बहुत भाया...
    शीतल जल
    जब चले खोजने
    ताल मिले गहरे,
    पी पाते कैसे
    दो घूँट भला जब
    हों यक्षों के पहरे ।

    हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  26. साहित्यिक गहराई से ओत- प्रोत सोका

    बधाई

    ReplyDelete