Thursday, August 15, 2013

गड़ती कीलें

कमला निखुर्पा
1
आजादी - पर्व 
है भारतवासी को  
देश पे गर्व । 
2
उड़ता मन 
विस्तृत नभ में 
तिरंगे- संग । 
 3
गाए अवाम 
एक सुर में आज 
वन्देमातरम् । 
 4
लगाए गश्त 
चौकस हैं  निगाहें 
सीमा - प्रहरी । 
 5
लगाता घात 
मित्र बनके , शत्रु 
चौकस रहो । 
 6
गड़ती  कीलें 
देख तेरा ताबूत  
माँ के दिल में । 
 7
मिट  के भी तू 
अमर है  शहीद
गूँजे ये गीत । 

-0-

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकु कमला जी....बधाई।

    ReplyDelete
  2. सबको शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. aapke sabhi haiku sundar aur samsaamayik hain. badhaai aur shubh kamanayen


    pushpa mehra

    ReplyDelete
  4. बहुत बढिया हाइकु कमला जी..जय भारत..

    ReplyDelete
  5. मिट के भी तू
    अमर है शहीद
    गूँजे ये गीत । ...सादर नमन !

    ReplyDelete
  6. आपको भी स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ....

    ReplyDelete
  7. गड़ती कीलें
    देख तेरा ताबूत
    माँ के दिल में ।
    सीधे दिल में उतर गए ये शब्द...| बधाई...|
    प्रियंका गुप्ता

    ReplyDelete