Wednesday, July 17, 2013

आँखें क्यों गीली हैं

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’
1
अब घोर अँधेरा है
क्यों रोता साथी
नज़दीक सवेरा है  ।
2
राहें पथरीली हैं
आगे जब बढ़ना
आँखें क्यों गीली हैं ।
3
अन्धड़ भी आएँगे
जो चाहे चलना
वे रोक न पाएँगे ।
4
ताण्डव  जब होता है
बचता कौन भला
बादल जब रोता है ।
5
कुछ ऐसे जतन करो
घाव पहाड़ों के
मिलकर सब लोग भरो ।
6
पेड़ों की हरियाली
लूटे  ना कोई
टूटे  ना इक डाली ।
7
कुछ जान न पाओगे
दु:ख जब पूछोगे
चोटें ही खाओगे ।
8
कितने भी जतन करें
वाणी नीम पगी
कड़वे ही वचन झरे ।
9
सीमा है कहने की
तार-तार टूटी
हिम्मत भी सहने की ।
10
बातों की चोट बड़ी
काँटा तो निकले
निकले कब कील गड़ी ।

-0-

20 comments:

  1. " कुछ ऐसे जतन करो / घाव पहाड़ों के / मिलकर सब लोग भरो।"
    बहूत खूब !
    यहाँ प्रस्तुत सभी माहिया बेहतरीन हैं और आपकी इस सोच के अनुकूल हैं कि " जब सोचना है तो सकारात्मक ही सोचें।"
    आपको हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. bahut sundar mahiya bhaisahab ,aapke lekhan ko padjkar ek asim trupti ka anubhav hota hai , man ke vicharo me halchal hoti hai , umda lekhan aur kalam ko naman

      Delete
  2. आपको पढ़ती हूँ तो लगता है कुछ पढ़ा है .......

    सभी माहिया लाजवाब .....!!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर, सामयिक माहिया हैं..

    बातों की चोट बड़ी
    काँटा तो निकले
    निकले कब कील गड़ी ।....बहुत गहरा भाई जी ..नमन आपको !!

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  4. बहुत-बहुत-बहुत... अच्छे माहिया भैया जी!:)

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  5. बहुत भावप्रबल और अर्थपूर्ण माहिया ...!!

    ReplyDelete
  6. सारगर्भित अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत माहिया है सभी...|
    अब घोर अँधेरा है
    क्यों रोता साथी
    नज़दीक सवेरा है ।

    अन्धड़ भी आएँगे
    जो चाहे चलना
    वे रोक न पाएँगे ।
    बहुत प्रेरणादायक...|

    बातों की चोट बड़ी
    काँटा तो निकले
    निकले कब कील गड़ी ।
    बहुत सही बात है...|
    इन सशक्त माहिया के लिए बहुत बहुत बधाई...|

    ReplyDelete
  8. Bahut sunder Mahiyaa .

    Dr.Saraswati Mathur

    ReplyDelete
  9. कुछ ऐसे जतन करो
    घाव पहाड़ों के
    मिलकर सब लोग भरो ......बहुत बेहतरीन!
    सभी माहिया बहुत भावपूर्ण!

    ReplyDelete
  10. कितने भी जतन करें
    वाणी नीम पगी
    कड़वे ही वचन झरे ।
    bhaiya kahi kaha hai aesa hi hota hai
    bahut hi sunder likha hai

    rachana

    ReplyDelete
  11. andadhi bhi aayenge, jo chhahen chalana, kuch aisaa jatan karo, kuch jaan na paoge

    sabhi mahiya bahut bhavpurn hain.


    Pushpa mehra


    ReplyDelete
  12. Sabhi mahiya eak se badhkar eak hain kis ki prasansha karun kis ko jaane dun taya nahi kar payi isliye sabhi ko chuna aapki kalam yun likhti rahe ...meri hardik shubkamnayen....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर सशक्त , सामयिक अभिव्यक्ति .

    बधाई .

    ReplyDelete
  14. सभी माहिया गहन चिंतन से भरे हुये ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  15. सभी माहिया सुन्दर भावपूर्ण हैं. एक से एक अनमोल वचन...

    कितने भी जतन करें
    वाणी नीम पगी
    कड़वे ही वचन झरे ।

    बातों की चोट बड़ी
    काँटा तो निकले
    निकले कब कील गड़ी ।

    जीवन में सिर्फ अपने अनुभव लेना ही काफी नहीं होता बल्कि अपने अनुभव से सीख कर दूसरों का मार्ग प्रशस्त करते हुए उनमें ऊर्जा और उत्साह भरना भी होता है. काम्बोज भाई के अनुभव से जीवन में बहुत कुछ सीखने को मिलता है. सार्थक सन्देश...

    अन्धड़ भी आएँगे
    जो चाहे चलना
    वे रोक न पाएँगे ।


    ReplyDelete
  16. kuch jaan na paoge, kyon rota saathi...., aage jab badhana.....,aankhen kyon geeli hain,najdeek savera hai, andhad bhi aayenge...... wah rok na payenge...., kuch aise jatan karo......
    bahut hi prenadaayak mahiyaa.prashansha se pare.

    badhaai
    pushpa mehra

    ReplyDelete
  17. कुछ ऐसे जतन करो
    घाव पहाड़ों के
    मिलकर सब लोग भरो.......अर्थपूर्ण,सामयिक माहिया

    ReplyDelete
  18. आपका इतना स्नेह ! आपकी इतनी सहृदयता !! मेरी रचनाओं का यही सम्बल है । सबका विनम्र स्वीकार और आभार !!

    ReplyDelete
  19. बचता कौन भला
    बादल जब रोता है...

    sach aur arthpurn sandesh .... sahi hai agar ham prakriti ko rulayenge to wo bhi hame rulayegi .... ab bhi jaage jo insaan to shayad prakriti ka krodh thame ... varna aage-aage aur prakop jhelna padega ....

    ReplyDelete