Saturday, July 6, 2013

जाने क्या हुआ !


   पुष्पा मेहरा 

  यह क्या हुआ !
  स्तब्ध दिशाएँ हो गईं
  सो गए हैं शब्द
  मौन वाणी हो  गयी ।

  धुंध है, खामोशी है,
  बेचैनी है फ़िज़ाओं में
  आँखें अँधेरा चीर कर
  रोशनी खोजती हैं ।

  अश्रु ढल- ढल 
  नदी बन गए हैं
  पहाड़ी नदी से  
  दर्द अपना कह रहे हैं।

  आकाश भीगा-
  ठहरा हुआ है
  द्रवित किरणें  सूर्य की
  अर्पण- भाव- रंजित हैं।

  चाँद खामोश,
  चाँदनी -
  अश्रु- जल ले
  उतरी हुई है ।

  झिलमिलाहट सितारों की-
  सहमी हुई है,
  हवाओं की सनसनाहट में-
  अकुलाहट  भरी है ।

  ख़ामोशियाँ -
  दर्द की चादर में लिपटीं,
  निर्वस्त्र- पर्वत- शिखर-
  अंग- अंग शिथिल हैं

  शोर है, आवाज़ है,
  सन्नाटा घिरा है
  उसकी लम्बी ज़िन्दगी
  घर-घर जा बसी है।

  बादलों को-
  आज जाने क्या हुआ !
  विक्षिप्त से उत्पाती बने
  जो डोलते हैं।
 "देव-बन्धु! यह क्या कर गए

 विक्षिप्त-उत्पाती क्यों हो गए।’’

13 comments:

  1. व्याकुलता का बहुत खूबसूरत चित्रण किया है आपने पुष्पा जी!
    भावपूर्ण रचना के लिए हार्दिक बधाई!

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  2. सारे मर्म बहाती धारा,
    मन को नहीं सुहाती धारा।

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण...मार्मिक रचना...।

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण...मार्मिक रचना...।

    ReplyDelete
  5. भयंकर त्रासदी पर व्यथा की ...कथा ...मार्मिक ...!
    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  6. anirta ji, pravin pamdey ji, kahi-unkahi blogger, jyotsana sharma ji
    Aap sb ka sarahana-purna shabd ujhe protsahit karte hainh bahut dhanyavaad
    pushpa mehra

    ReplyDelete
  7. .मार्मिक रचना...।बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. बहुत भावपूर्ण रचना.....पुष्पा जी हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  9. बादलों को-
    आज जाने क्या हुआ !
    विक्षिप्त से उत्पाती बने
    जो डोलते हैं।
    "देव-बन्धु! यह क्या कर गए
    sunder chitran
    rachana

    ReplyDelete
  10. भयंकर त्रासदी पर भावपूर्ण रचना के लिए हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  11. मन की व्याकुलता लिए हुए

    ReplyDelete
  12. मार्मिक रचना...

    ReplyDelete
  13. मार्मिक रचना...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete