Sunday, June 30, 2013

ज्यों जनमों का साथ

डॉ ज्योत्स्ना शर्मा
1
दीपक बाती से कहे ,तुम पाओ निर्वाण ।
मेरी भी चाहत जलूँ ,जब तक तन में प्राण ।।
      2
कटते -कटते कह रही,वन के मन की आग ।
कैसे गाओगे सखा ,अब सावन का राग ।।
       3
संग हँसें रोंयें सदा, नहीं मिलन की रीत ।
प्रभु मेरी तुमसे हुई, ज्यों नैनन की प्रीत ।।
       4
सुवर्ण मृग  की लालसा ,छीने सुख  के धाम ।
किस्मत ने उनका लिखा,जीवन दुख के नाम ।।
       5
जब लालच की आग को ,मन में मिली पनाह ।
बेटी का आना यहाँ, तब से हुआ गुनाह ।।
    6
सुख की छाया है कभी ,कभी दुखों की धूप ।
देख भी लो नियति - नटी, पल- पल बदले रूप ।।
   7
पावनता पाई नहीं ,जन -मन का विश्वास ।
सीता को भी  राम  से , भेंट मिला वनवास ।।
  8
मधुर मिलन की चाह मन ,नैनन दर्शन आस ।
कौन जतन कैसे घटे,अन्तर्घट की प्यास ।।
9
दुनिया के बाज़ार में , रही प्रीत अनमोल ।
ले जाये जो दे सके , मन से मीठे बोल ।।
10
कल ही थामा था यहाँ,दुख ने दिल का हाथ ।
आकर ऐसे बस गया ,ज्यों जनमों का साथ ।।
11
आहट तक  होती नहीं ,सुख के इस बाज़ार ।
हम भी दुख की टोकरी ,लेने को लाचार ।।
12
सागर ,सुख दुख की लहर , ये सारा संसार ।

मेरी आशा ही मुझे , ले जाएगी पार ।।

12 comments:

  1. बहुत सुंदर और सार्थक छंद ......


    ReplyDelete
  2. भावो को संजोये रचना......

    ReplyDelete
  3. सभी दोहे एक से बढ़कर एक...ज्योत्सना जी को सादर बधाई !!

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण प्रस्तुति...बधाई।

    ReplyDelete
  5. aa Aditi Poonam ji ,Sushma ji ,ऋता शेखर मधु ji evam Krishna ji ..आपकी सुन्दर प्रेरक उपस्थिति के लिए ह्रदय से धन्यवाद !

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  6. इतने मधुर, सुन्दर और लाजवाब दोहे ... भरपूर आनंद ...

    ReplyDelete
  7. सभी दोहे बहुत सुन्दर है...खास तौर से ये वाला...
    कल ही थामा था यहाँ,दुख ने दिल का हाथ ।
    आकर ऐसे बस गया ,ज्यों जनमों का साथ ।।
    बधाई...|

    ReplyDelete
  8. सभी दोहे बहुत सुन्दर है...खास तौर से ये वाला...
    कल ही थामा था यहाँ,दुख ने दिल का हाथ ।
    आकर ऐसे बस गया ,ज्यों जनमों का साथ ।।
    बधाई...|

    ReplyDelete
  9. jyotna ji apke sabhi dohe arth purn bhavon se bhare hai. badhai.
    pushpamehra.


    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत आभार ..आ दिगम्बर नासवा जी एवं प्रियंका जी

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  11. ह्रदय से धन्यवाद ..आ पुष्पा मेहरा जी

    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  12. जब लालच की आग को ,मन में मिली पनाह ।
    बेटी का आना यहाँ, तब से हुआ गुनाह ।।

    दुनिया के बाज़ार में , रही प्रीत अनमोल ।
    ले जाये जो दे सके , मन से मीठे बोल

    yun to sabhi dohe sundar hain .... lekin ye to bas man me bas hi gaye ....

    ReplyDelete