Sunday, June 23, 2013

रिश्तों की चादर

भावना कुँअर
1
थे पंख उधार लिये
ख़्वाबों की ज़िद में
बादल भी पार किये ।
 2
तुमसे बातें करना
पाया है  मैंने 
अमृत -भरा ये  झरना।
3
हरदम गहरे  चुभते
काँटों में उलझे
दिल चीरें ये रिश्ते।
4
बचपन को खोया है
बीज अमानुष बन
किसने ये बोया है?
5
कैसी मजबूरी है
रिश्तों की चादर
होती ना पूरी  है।
-0-

11 comments:

  1. कैसी मजबूरी है
    रिश्तों की चादर
    होती ना पूरी है।

    बहुत भावपूर्ण माहिया ...भावना जी ...बधाई ...

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत...पर ये बहुत अच्छा लगा...
    कैसी मजबूरी है
    रिश्तों की चादर
    होती ना पूरी है।
    बधाई...|

    ReplyDelete
  3. विविधता लिए सुंदर माहिया। यह बहुत प्रभावित कर गया -

    थे पंख उधार लिये
    ख़्वाबों की ज़िद में
    बादल भी पार किये ।

    ReplyDelete
  4. पंख उधार लिये
    ख़्वाबों की ज़िद में
    बादल भी पार किये....

    behad khoobsurat rachna ....


    ReplyDelete
  5. थे पंख उधार लिये
    ख़्वाबों की ज़िद में
    बादल भी पार किये ।
    बहुत सुन्दर माहिया.. भावना जी.. बधाई!

    ReplyDelete
  6. Aap sabhi ka tahe dil se shukariya ...

    ReplyDelete
  7. vastav men rishte prem se bante hain, prem bantane se badhta jata hai. bahut sundar. badhai..


    pushpamehra

    ReplyDelete
  8. विविध भावों से परिपूर्ण बहुत सुन्दर माहिया ....
    बचपन को खोया है
    बीज अमानुष बन
    किसने ये बोया है?....सामयिक चिंता ...
    शुभ कामनाओं के साथ
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete