Friday, June 14, 2013

बिटिया आई



डॉ०अस्पताल की नर्स बुलाई                                                                               
  आत्मदेव मिश्र

 आओ देखो बिटिया आई                                                                                 
 यह सुन मम्मी मुख बिचकाई                                                                          
 पापा की भृकुटी तन आई                                                                            
  दादी खरी-खोटी सुनाई                                                                                
  हाय ! निगोड़ी कहाँ से आई                                                               
 आशा-तन्तु टूटा बुआ का                                                                               
  थाली नहीं बजाई                                                                                    
   नहीं बजी शहनाई                                                                                      
कोई न लुटाए अन्न-धन सोना                                                                         
  कोई न मोतियन माला                                                                                
  गोतिनी पड़ोसिनी गीत न गाई
नहीं कोई शकुन उठाई                                                                                    

 दूसरी बार -                                                                                            
 अस्पताल का नौकर आया                                                                                
हँसकर हमें बताया                                                                                      
 आओ देखो बेटा आया                                                                                    
सुन मम्मी का मन हरसाया                                                                            
 पापा का चेहरा खिल आया                                                                            
 अहो भाग्य बेटा घर आया      

4 comments:

  1. यह भेद तो जाना ही होगा..

    ReplyDelete
  2. समाज का सच्चा चित्र उकेरा आपने !
    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  3. bahut sachchi baat kahi gayi hai is rachna me ... ham chahe jitna apne apko pragatisheel kah len ... lekin abhi bhi aise log hai samaj me ... aksar aise drishya dekhne ko mil jate hai ... halanki ab pahle jaisi baat nahi rahi ...

    ReplyDelete
  4. bahut achchi kavita hai. man ke bhavon ko gehrayee se darshati hai.

    ReplyDelete