Sunday, June 16, 2013

दोहे-डॉ श्याम सखा ‘श्याम’


डॉ श्याम सखा ‘श्याम’
1
मन लोभी मन लालची,मन चंचल मन चोर
मन के हाथ सभी बिके,मन पर किस का जोर
2
तेरे मन ने जब कही,मेरे मन की बात
हरे-हरे सब हो गए,साजन पीले पात
3
जिसका मन अधीर हुआ,सुनकर मेरी पीर
वो है मेरा राँझनामैं हूँ उसकी हीर
4
तेरे मन पहुँची नहीं,मेरे मन की बात
नाहक हमने थे लिये,साजन फ़ेरे सात
  5
वो बैरी पूछै नहीं ,अब तो मेरी जात
जिसके कारण थे हुए,सारे ही उत्पात
6
सुनले साजन आज तू,एक पते की बात
प्यार कभी देखे नहीं.दीन-धरम या जात
7
मन की मन ने जब सुनी. सुन साजन झनकार
छनक उठी पायल तभी, कंगन बजे हजार
8
मन फकीर है दोस्तो,मन ही साहूकार
मुझ में रह तेरा हुआ,मन ऐसा फनकार
9
मन की मन से जब हुई,साजन थी तकरार
जीत सका तू भी नहीं,गई तभी मैं हार
 10
मन की करनी देखकर.बौरा गया दिमाग
म्बन्धों में  ये लगी ,बैरन कैसी आग ?

-0-

5 comments:


  1. मन की परतें खोल दीं श्याम सखा ने आज ,

    मन को बना मुरीद तू साध ले सारे काज .

    बढ़िया दोहावली श्याम सखा जी श्याम .

    वीरुभाई ,४ ३ ,३ ० ९ ,सिलवरवुड ड्राइव ,कैंटन (मिशिगन )ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  2. मन लोभी मन लालची,मन चंचल मन चोर
    मन के हाथ सभी बिके,मन पर किस का जोर ।..बहुत सुन्दर,सरस ,मन भावन दोहे |
    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  3. मन फकीर है दोस्तो,मन ही साहूकार
    मुझ में रह तेरा हुआ,मन ऐसा फनकार ।
    क्या बात है...बहुत सुन्दर लगे सभी दोहे...बधाई...|
    प्रियंका

    ReplyDelete
  4. मन लोभी मन लालची,मन चंचल मन चोर
    मन के हाथों सब बिके,मन पर किस का जोर

    वाह क्या बात कही है ... सुन्दर अति सुन्दर

    ReplyDelete