Thursday, April 4, 2013

साँसों के हस्ताक्षर


डॉ अनीता कपूर
 हर एक पल पर अंकित कर दें
साँसों के हस्ताक्षर
परिवर्तन कहीं हमारे चिह्नों   पर
स्याही न फेर दे
साथ ही
जिंदगी के दस्तावेजों पर
अमिट लिपि में अंकित कर दे
अपने अंधेरे लम्हों के स्याह हस्ताक्षर
कल को कहीं हमारी आगामी पीढ़ी
भुला न दे हमारी चिन्मयता
चेतना लिपियाँ
प्रतिलिपियाँ….
भौतिक आकार मूर्तियां मिट जाने पर भी
जीवित रहे हमारे हस्ताक्षर
खोजने के लिए
जीवित रहें हमारे हस्ताक्षर
कहीं हमारा इतिहास
हम तक ही सीमित न रह जाये
इसीलिये आओ
प्रकृति के कण-कण में
सम्पूर्ण सृष्टि में
चैतन्य राग भर दें
अपनी छवि अंकित कर दें
दुनिया की भीड़ में खुद को
शामिल न करें।
भविष्य की याद हमें स्वार्थी बना कर
आज ही पाना चाहती है
अपना अधिकार
न हम गलत है, न हमारे सिद्धांत
फिर भी
स्वार्थी कहला कर नहीं लेना चाहते
अपना अधिकार
आओ
अंकित कर दें
हर पल पर
अपनी साँसों के हस्ताक्षर  ।
-0-

18 comments:

  1. सुन्दर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  2. Bahut Khoob. Sakartmak soch se paripoorn rachna.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर कविता अनीता जी बधाई और शुभकामनाएं !
    Dr Saraswati Mathur

    ReplyDelete
  4. परिवर्तन कहीं हमारे चिह्नों पर
    स्याही न फेर दे

    sabkuch kah daala in 2 panktiyon meN ...hardik badhai...

    ReplyDelete
  5. बहुत प्रभावी संदेश देती हुई सुंदर अभिव्यक्ति...!
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर....बहुत सुन्दर रचना....

    बधाई अनीता जी को..
    आभार.

    अनु

    ReplyDelete
  7. अपने वजूद को बनाये रखने का सन्देश देती सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाई अनीता जी.

    ReplyDelete
  8. स्वार्थी कहला कर नहीं लेना चाहते
    अपना अधिकार
    आओ
    अंकित कर दें
    हर पल पर
    अपनी साँसों के हस्ताक्षर
    sunder bhav aur kamal ki soch

    ReplyDelete
  9. संदेश देती सुन्दर रचना...अनीता जी बधाई।

    ReplyDelete
  10. जरूर .आओं अंकित कर दें ..आभार

    ReplyDelete
  11. प्रभावित करता पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  12. बहुत खूबसूरत...बधाई...|
    प्रियंका

    ReplyDelete
  13. कहीं हमारा इतिहास
    हम तक ही सीमित न रह जाये
    इसीलिये आओ
    प्रकृति के कण-कण में
    सम्पूर्ण सृष्टि में
    चैतन्य राग भर दें
    अपनी छवि अंकित कर दें
    दुनिया की भीड़ में खुद को
    शामिल न करें।

    Duniya ki bheed me shamil na hokar kuch alag karne ki yahi chaah insaan ko vishisht banati hai, aur Anita ji aap vishisht hain. sundar rachna ke liye badhai.

    ReplyDelete
  14. kabile tareef bahtreen abhivykti .

    ReplyDelete
  15. bahut sundar ..sashakt prastuti ...badhaaii aapko !!

    saadar
    jyotsna sharma

    ReplyDelete
  16. सुन्दर,भावपूर्ण!!!!!!

    ReplyDelete