Tuesday, March 26, 2013

फागुन की झोली से


1-रचना श्रीवास्तव
फागुन की झोली से
उड़ने लगे रंग

मौसम के भाल पर
इन्द्रधनुष चमके 
गलियों और चौबारों के
मुख भी दमके
चूड़ी कहे साजन से
मै  भी चलूँ संग

पानी में घुलने लगे
टेसू के फूल
 नटखट उड़ाते चलें
पाँवो से घूल
 लोटे में घोल रहे
बाबा आज भंग ।

सज गई रसोई आज
पकवान चहके
हर घर मुस्काते चूल्हे
हौले से दहके
गोपी कहे कान्हा से
न करो मोहे तंग  ।
-0-
2-अनिता ललित
पूनम के चाँद पर.. आया निखार,
आया फाल्गुन आया.. आया होली का त्योहार !
नीले, पीले ,लाल, गुलाबी...रंगों की बौछार,
खुशबू टेसू के फूलों की...लाई संग बहार...!

दिल में उमंग उठी ... महकी बयार
अँखियाँ छलकाए देखो ...प्रीत-उपहार !

भूलो सभी बैर, मिटे गर्द-गुबार
भर पिचकारी मारो... नेह अपार !

फुलवारी रंगों की.. साथी फुहार
एक रंग रंगे ... आज हुए एकसार !

रंग-रंगोली हो या दीप-दीपावली...
दिल यही बोले...जब हों साथ हमजोली...

तुम हो तो....
हर रात दीवाली
हर दिन अपनी होली है....

-0-
अनुभूति में डॉ  ज्योत्स्ना शर्मा  के दोहे पढ़ने के लिए
आप  होली के रंग को क्लिक कीजिए !
-0-

दोहे :-डॉ सरस्वती माथुर
1
रिश्तों में कुछ दूरियाँ, होली कम कर जाय
मिलते हैं नजदीक से, प्रेम पनपता जाय !
2
जग-आँगन में गूँजती, फागुन की पदचाप
कहीं फाग के गीत हैं, कहीं चंग पर थाप !
 3
फागुन गाए कान में, होली वाले राग
साजन की पिचकारियाँ, बुझे न मन की आग !
 4
राधा-कान्हा साथ में, मन में आस अनंत
नाच रहीं हैं गोपियाँ, झूमें फाग दिगंत !
5
साजन की बरजोरियाँ, प्रीत-प्रेम के रंग
भीग रही हैं गोरियाँ, नैना बान-अनंग !
   -0-

13 comments:

  1. सुंदर रचना.... रचना जी !
    "आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!" :-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. sabhi rachnaye bahut sundar lagi ,jyotsana ji ka geet , saraswati ji ke dohe , anil ji .sabhi ko badhai

      Delete
  2. सभी दोहे...एक से बढ़कर एक! बहुत सुंदर...डॉ सरस्वती माथुर जी!
    "आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!" :-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  3. happy holi...आपको रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ...!

    ReplyDelete
  4. Holi ke ye rang bahut khile sabhi ko meri shubhkamnaye...

    ReplyDelete
  5. होली के रंगों में भीगी सुन्दर रचनाएं।
    बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. holi ka ye sandesh sabhi ko jaye sunder kavita

    ReplyDelete
  7. होली पर अनुपम रचनाएँ. सभी को होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. रंग बिरंगी रचनाओं की होली..

    ReplyDelete
  9. dohe aur geet dono anupam hai .
    aap dono ko badhai .
    rachana

    ReplyDelete
  10. होली की रंगीन बौछारों जैसी मन को भिगो जाने वाली रचनाओं के लिए बहुत बधाई...|
    प्रियंका

    ReplyDelete
  11. bahut shubh kaamanaayen ...badhaaii ...holi ke bahut sumdar rang .....aur unme ek rang hamaaraa bhii milaane ke liye bahut bahut dhanyawaad aapakaa !!
    saadar
    jyotsna sharma

    ReplyDelete
  12. Holi ke rangon se sarabor, rang birangi man bhavan rachnayen.... bahut pyari lagin


    ReplyDelete