Tuesday, December 18, 2012

भूले-बिसरे शब्द



रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
1
सगे ही छोड़कर आए
हमें सुनसान जंगल में ।
पराया था जिन्हें समझा
उन्हीं से प्यार पाया है ।
2
जीवन में कुछ मिल जाते हैं
यूँ ही चलते-चलते  ।
जैसे मिलती धूप सुहानी
सूरज ढलते -ढलते ।
-0-

15 comments:

  1. यही जीवन दर्शन है .....सच और सिर्फ सच!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना ! दिल को छू लिया भाई साहब !
    ~अक्सर देखा है..
    वही दिल को चोट पहुँचाते हैं...
    जो हमारे दिल के बहुत क़रीब होते हैं...~
    -सादर !!!

    ReplyDelete
  3. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  4. जीवन के दोनों पक्ष ....कुछ खोना कुछ पाना ...बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...!!
    सादर ...ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
    Replies
    1. kamboj ji bahut umda abhivyati , badhai aapko

      Delete
  5. जीवन का यथार्थ दिखाती सुंदर रचनाएँ।

    "जीवन में कुछ मिल जाते हैं
    यूँ ही चलते-चलते ।
    जैसे मिलती धूप सुहानी
    सूरज ढलते -ढलते ।"

    यह तो लाजवाब !

    ReplyDelete
  6. अकल्पित रचना बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...बहुत बधाई
    सादर

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    जीवन में कुछ मिल जाते हैं
    यूँ ही चलते-चलते ।
    जैसे मिलती धूप सुहानी
    सूरज ढलते -ढलते ।...सादर बधाई !!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर लिखा है ...!!

    ReplyDelete
  9. संवेदनापूर्ण अभिव्यक्ति, शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  10. bhaiya in panktiyon me jeevan ka vo darshan hai jo shayad sab ko nahi samjh aaya hai bahut gahri baten hain
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  11. जीवन में कुछ मिल जाते हैं
    यूँ ही चलते-चलते ।
    जैसे मिलती धूप सुहानी
    सूरज ढलते -ढलते ।

    bahut pyari abhivayakti hai bahut2 badhai...

    ReplyDelete
  12. यही जीवन की सच्चाई है...|
    इन सुन्दर पंक्तियों के लिए बधाई...|
    प्रियंका

    ReplyDelete