Wednesday, December 12, 2012

कहानी


 सीमा स्‍मृति

कल देर रात
मोहब्‍बत,शबाब,शराब के
जाम छलके होगें
आर्केस्ट्रा की धुन पर,
थिरकते कदमों,
तालियों की गरगराहट, के बीच
नव दम्‍पती नव सूत्र में बँध
वर्तमान पर भविष्‍य की नींव,
रख रहे होंगे 
तभी
इतनी सुबह
शामियाने के उस पिछले
कोने में,
चावल के ढेर
पनीर के चन्‍द टुकडे
अधखाए भल्‍ले
फैली चटनी
सूखी होती पूरियों के
पिज्जा के टुकडे़,नूडल की गंध
ऊपर भिनभिनाती मक्खियॉं
टेडी दुम वाले कुत्‍ते
और
कागज बीनते लड़कों का झु़ड़
अपने अपने हिस्‍से
बटोरते सुना रहे हैं
कल रात की अनदेखी कहानी ।
-0-

12 comments:

  1. कड़वी सच्चाई को कहती कहानी ....

    ReplyDelete
  2. बेहद मार्मिक रचना। आपकी ये 'काहानी' मन को छु गयी।

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है बेतुकी खुशियाँ

    ReplyDelete
  3. लाइमलाइट के पीछे की परछाईं....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर बिल्कुल दिल को छूने वाली ...बधाई .आप भी पधारो
    http://pankajkrsah.blogspot.com
    स्वागत है

    ReplyDelete
  5. यही कहानी के अन्त में होता है।

    ReplyDelete
  6. sacchaaee chitrit kartee rachana asar chod gayee....

    ReplyDelete
  7. कटु हृदयविदारक सत्य .....

    ReplyDelete
  8. वाह!क्या खूब,'यथार्थ' का चित्र है !
    सचमुच 'देश की दशा' विचित्र है !!
    'विसंगति',खोजने कहाँ जाओगे-
    यहाँ है,वहाँ है, सर्वत्र है ||

    ReplyDelete
  9. ये वो सच्चाई है जो हम सब जानते हैं....करते भी हैं कुछ पर..भारी जनसंख्या और असमान विकास के आगे प्रयास कम पड़ जाते हैं।

    ReplyDelete
  10. आज के कटु यथार्थ को उद्घाटित करती प्रभावी रचना ....!!
    बहुत बधाई आपको ...
    सादर ..ज्योत्स्ना शर्मा

    ReplyDelete
  11. sabdon ki dor se jita jaagta chitran bahut khub baandha hai aapne...meri bahut2 badhai..

    ReplyDelete